शाजापुर। क्षेत्र में राहत की बूंदें बरस रही है। मंगलवार को सुबह से लेकर शाम तक कई बार रूक थमकर रिमझिम वर्षा हुई। इसके चलते माहौल में ठंडक घुल गई। इस वर्षा से किसान भी राहत की सांस ले रहे हैं, क्योंकि अब बुवाई का कार्य तेज हो चला है।

जुलाई माह क्षेत्रवासियों के लिए राहत लेकर आ रहा है। दरअसल, जून माह में जहां वर्षा ने खासा तरसाया। लेकिन अब काले मेघ छा भी रहे हैं और रूक थमकर ही सही लेकिन बरस भी रहे हैं। हालांकि अभी तक वर्षा की घंटो चलने वाली झड़ी का इंतजार जरूर है। क्योंकि अभी जो वर्षा हुई है उससे क्षेत्र में सोयाबीन सहित अनय खरीफ फसलों के लिए बुवाई जितना पानी जरूर बरसा है। जिन क्षेत्रों में अब तक विशेषकर शाजापुर के आसपास जहां बुवाई नहीं हुई थी वहां पर कार्य शुरू हुआ है। इधर मंगलवार को सुबह से ही आसमान पर बादल छाए रहे। सुबह, दोपहर व शाम को रूकथमकर तीन से चार बार कुछ देर के लिए वर्षा हुई। ठंडी हवा चलने से लोगों को राहत मिली। उल्लेखनीय है कि जुलाई माह के इस दौर में भी कई जलस्रोत अभी रीते हैं। जलस्रोतों में पानी की आमद तब हो पाएगी जब वर्षा की तेज झडी लग जाए। क्योंकि अभी जो वर्षा हुई है वह जमीन में महत कुछ इंच ही उतर पाई है। वहीं अभी भी पूरे जिले में एक समान वर्षा नहीं हुई है। किसी तहसील में बेहतर तो कहीं सामान्य से भी कम पानी बरसा है।

तनोड़िया में आधे घंटे की झमाझम वर्षा

तनोड़िया। मंगलवार को दोपहर बाद हुई झमाझम वर्षा से लोगों को तीखी धूप व गर्मी से राहत मिली। वहीं सोयाबीन फसल को भी अंकुरण में सहयोग मिला। सोमवार रात तीन बजे के करीब भी गरज चमक के साथ वर्षा

हुई। इधर स्थानीय आयुर्वेदिक अस्पताल के सामने सड़क का किनारे निकासी की जगह नहीं होने से पहली ही बारिश में जलजमाव हो गया।

तेज हवा के साथ हुई वर्षा

बिजली हुई गुल

उगली। क्षेत्र में खरीफ की बोई गई फसल में पानी की खेंच से किसान चिंतित दिखाई दे रहे थे। परंतु सोमवार सुबह व शाम हुई रिमझिम वर्षा से फसलों को मानों अमृत मिल गया है। खेतों में फसल अच्छी दिखाई देने लगी है जिसे देख किसान खुश नजर आ रहे हैं। इधर रात को तेज वर्षा होने से पानी सड़कों से बह निकला। इस दौरान तेज हवा भी चली। विद्युत सप्लाय भी बाधित हो गई। विद्युत कर्मचारियों द्वारा की गई मशक्कत के बाद 18 घंटे बाद विद्युत सप्लाई शाम छह बजे बाद चालू हो पाई। जिससे ग्रामीणों को जल संकट से जूझना पड़ा और रात भर मच्छरों का प्रकोप रहा। विद्युत सप्लाई खराब होने के कारण उगली विद्युत ग्रिड से उगली, कमालपुर, भीमपुुरा, टिटवास, नरोला, ताजपुर गौरी, आदी गांव में विद्युत सप्लाई बंद रही। उल्लेखनीय है कि पानी गिरनेे के दौरान भी विद्युत कर्मचारी विद्युत सप्लाई ठीक करने में लगे रहे।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close