जैन श्वेतांबर मंदिर में मूर्तियों का औषधियों से शुद्धिकरण किया

कालापीपल मंडी। नईदुनिया न्यूज

पर्युषण पर्व प्रारंभ होने के पूर्व जैन मंदिर का शुद्धिकरण किया गया। नवरत्न परिवार एवं मालवा महासंघ के तत्वावधान में राजस्थान, मप्र व अन्य प्रदेशों के 1200 जैन मंदिरों में 18 अगस्त को एक साथ शुद्धिकरण अभियान चलाया गया। इसी के अंतर्गत कालापीपल जैन श्वेतांबर मंदिर में भी शुद्धिकरण किया गया। मालवा महासंघ एवं नवरत्न परिवार ने सभी जिन मंदिरों में लगभग 5 हजार रुपए मूल्य की शुद्धिकरण सामग्री प्रदान की। कालापीपल में जैन श्वेतांबर मंदिर में युवा निष्ठावान कार्यकर्ताओं ने मंदिर उपाश्रय में साध्वीश्री अमीपूर्णाश्रीजी से मांगलिक सुनकर शुद्धिकरण का श्रीगणेश किया।

इस अवसर पर प्रतिष्ठित मूर्तियों को विभिन्न औषधियों से विलेपन किया गया एवं विधिवत उनका नवहन कराया गया। मंदिर एवं उपाश्रय में प्रत्येक वस्तुओं की सफाई की गई। नवरत्न परिवार के प्रदेश प्रचार मंत्री यशवंत सांकला ने बताया कि 27 अगस्त से जैन समाज के पर्युषण महापर्व प्रारंभ होने जा रहे हैं, इस हेतु यह शुद्धिकरण किया जा रहा है। इस अवसर पर सचिव पवन सांकला, उपाध्यक्ष दिनेश भाई सांकला, शैलेंद्र बोहरा, आशीष जैन, शैलेंद्र मुणोत, दिनेश भाई गाला, भाविक सांकला सहित नवरत्न परिवार के सदस्य उपस्थित थे।

नमी उणपार्श्वनाथ भगवान की पूजा संपन्ना

चातुर्मास हेतु विराजित साध्वीश्री अमीपूर्णा श्रीजी की निश्रा में धार्मिक आयोजन हो रहे हैं। रविवार को भगवान नमीउणपार्श्वनाथ की पूजा कराई गई। इसके मुख्य लाभार्थी पंचमलाल शैलेष कुमार बोहरा जैन परिवार रहा, साथ ही आरती की बोली का लाभ भी बोहरा परिवार ने लिया। पूजन में समाज जन बढ़ी संख्या में मौजूद थे।

18 केपीएम- 002 कालापीपल में मंदिर का शुद्धिकरण करते हुए समाजजन।