सारंगपुर(नईदुनिया न्यूज)। सोमवार-मंगलवार की दरमियानी रात्रि में अचानक मौसम बदलने से शहर सहित कई जगहों पर आंधी, बिजली की चमक और बादलों की तेज गडगडाहट के साथ बरसात हुई। गर्मी से लोगों को थोड़ी राहत मिली। तेज हवा के कारण कई जगहों पर विद्युत तारों पर पेड टूटकर गिर गए। कई दिनों से बादलों के लुका छिपी का खेल चल रहा था। देर रात्रि को अचानक मौसम खराब हो गया। क्षेत्र में खासा आंधी का असर था और ताबड़तोड़ तेज बारिश भी हुई। ग्रामीण क्षेत्रों में तेज आंधी के साथ वर्षा भी हुई। इससे लोगों में रात्रि में डर का माहौल रहा और रात भर लोगों ने जाग कर गुजारी जबकि गर्मी से राहत लोगों को जरुर मिल गई है।

जानकारी के अनुसार तेज आंधी और तूफान के चलते सारंगपुर क्षेत्र में कई स्थानों पर पेड और बिजली के तार गिरने की खबर है जबकि विद्युत ग्रिड पर भी तकनीकी नुकसान हुआ है। जिसके चलते रात्रि दो बजे से लेकर शाम 6 बजे तक लीमाचौहान, पड़ाना सहित अन्य क्षेत्र में कई घंटों विद्युत आपूर्ति बाधित रही।

लीमाचौहान में चार घंटे बंद रहा रास्ता

लीमाचौहान क्षेत्र में बीती रात्रि दो बजे तेज गर्जना के साथ बिजली भी चमकी। बारिश के दौरान हवा की रफ्तार ज्यादा रही। कई स्थानों पर रास्ते में पेड गिरने से आवागमन बाधित रहा। पेड हटाए जाने के बाद आवागमन शुरू हुआ। जबकि रात्रि 2 से सुबह 7 बजे तक बारिश सतत्‌ जारी रहने से सुबह 9 से दोपहर 1बजे तक लीमाचौहान में संडावता-सारंगपुर मार्ग पर पड़ने वाली सड़क पर उतावली नदी पर बना पुल उफान पर रहा जिसके कारण चार घंटो तक रास्ता अवरुद्घ रहा। कई लोग और वाहन इस दौरान जान जोखिम में डाल कर उफानते हुए पानी से गुजरते हुए नजर आए और पुलिस व्यवस्था इस दौरान शून्य रही। जबकि दोपहर 2 बजे से एक बार फिर लगभग 20 मिनट लीमाचौहान में तेज बारिश हुई।

सोमवार-मंगलवार की रात्रि करीब 2 बजे से ताबड़तोड़ वर्षा से जनजीवन प्रभावित हुआ। इस एक घंटे में 25.6 मिमी यानि कुल 1 इंच से ज्यादा वर्षा रिकार्ड हुई। भू-अभिलेख शाखा के प्रेम भिलाला की माने तो सारंगपुर में मंगलवार सुबह 8बजे तक 163.1 मिमी वर्षा रिकार्ड हो चुकी है। जो कि पिछले वर्ष से कई अधिक है। बीते वर्ष इस अवधि में 115 मिमी वर्षा हुई थी। यानि की इस वर्ष अब तक 48.1 मिमी वर्षा अधिक हो चुकी है। इस वर्षा से लोगों को गर्मी से राहत मिली। तेज आंधी के कारण कई जगहों पर पेड की डाल टूटकर रास्ते में गिर गई जिसें ग्रामीणों की मदद से हटाया गया। सब्जी किसानों इस बरसात को वरदान बता रहे हैं। तेज आंधी के साथ बरसात होने से प्रचंड गर्मी में पशु- पक्षियों ने भी राहत की सांस लिया। हालांकि इस दौरान कई क्षेत्रों में बिजली आपूर्ति भी ठप हो गई। इससे लोग उमस व अंधेरे के कारण परेशान हुए, जबकि दिन में भी बिजली के अभाव में जरुरी काम नहीं हो पाए और गर्मी ने भी लोगों को परेशान किया।

राजगढ़ की टीम समय पर नहीं पहुंची ग्रिड पर

मप्रमक्षेविविकं के मऊ वितरण केंद्र स्थित विद्युत ग्रिड पर तकनीकी खराबी होने से क्षेत्र के दर्जनो गांवो में विद्युत सप्लाई रात्रि 2 से दूसरे दिन खबर लिखे जाने तक बंद रही। विद्युत कंपनी के क्षेत्रीय अधिकारी ने बताया की ग्रिड पर आई परेशानी की सूचना हमने राजगढ़ की विद्युत टीम को दी थी। लेकिन लीमाचौहान में सुधार कार्य में टीम के जुटने से वह मऊ नहीं पहुंच सके। अधिकारियों ने बताया कि राजगढ़ से आई टीम ही तकनीकी समस्या को समाधान करेंगी। बिजली के अभाव में जहां मोबाइल टावर, विद्युत उपकरण, व्यावसायिक उपकरण, मोटर पंप नहीं चल सकें। इसके कारण लोग पेयजल के लिए तरस गए।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close