-भाई-बहन के अटूट रिश्ते का त्योहार रक्षाबंधन आज

-

शाजापुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

भाई-बहन के अटूट रिश्ते का प्रतीक रक्षाबंधन त्योहार गुरुवार को मनेगा। बहनें अपने भाइयों की आरती उतारकर कलाई पर राखी बांधेंगी तो भाई भी उन्हें उपहार भेंट करेंगे। पर्व के एक दिन पहले रिमझिम बारिश के बीच भी बहनें राखियां खरीदती नजर आईं। हालांकि , बारिश से बाजार में दोपहर को चहल-पहल कम रही जिसके चलते व्यापारी कु छ निराश हुए लेकि न पानी थमने के बाद शाम को ग्राहकी ने जोर पकड़ लिया।

रक्षाबंधन पर्व को लेकर लोगों में खासा उत्साह दिखाई दे रहा है। पर्व के एक दिन पहले बुधवार को बाजार में जगह-जगह लगी दुकानों पर बहनों ने अपनी पसंद की राखियां खरीदी। मिठाई, कपड़े व साड़ियों की दुकान पर लोग पहुंचे। आभूषण की दुकानों पर भी ग्राहकी हुई।

मोदी, तिरंगा और डायमंड वाली राखियों की रही मांग

राखी के लिए व्यवसायी बाजार में हर वर्ग की पसंद की राखियां लेकर आए हैं। मोदी, तिरंगा और डायमंड, मोती, चंदन, फै ंसी, जरी, राशि के पत्थर सहित अन्य प्रकार की राखियों की विशेष डिमांड रही, जबकि बच्चों द्वारा कार्टून कै रेक्टर वाली राखियां पसंद की गई। इनमें छोटा भीम, डोरेमन, कृष्णा, बाल गणेशा, बाल हनुमान, म्यूजिकल, लाइट वाली राखियां शामिल रही। वहीं कई बच्चों ने फे सबुक, वाट्सएप के लोगो वाली राखियों के प्रति रुचि दिखाई। व्यापारी दासाराम मोटवानी बताते हैं कि इस बार दो से 80 रुपए तक की राखियां लाई गई हैं। दिल्ली, अलवर, अहमदाबाद, सूरत, मुंबई आदि जगह से राखियां मंगवाई गई हैं। सराफा व्यवसायी आशीष सोनी ने बताया चांदी के भाव बढ़ने से इस बार चांदी की राखियों की बिक्री कम हुई है।

घेवर, फै नी सहित मिठाइयों की हुई खरीदी

रक्षाबंधन के लिए मिठाइयों की भी बिक्री हुई। मावे की मिठाइयों के साथ ही घेवर व फै नी जैसी परंपरागत मिठाइयां भी बिकी। कि राना दुकानों पर पहुंचकर भी लोगों ने खरीदी की। वहीं कपड़ा बाजार में भी शाम को रौनक दिखाई दी। साड़ी, सलवार सूट, रेडिमेड कपड़ों का बाजार चला। उल्लेखनीय है कि विगत एक सप्ताह से बाजार में ग्राहकी ने जोर पकड़ा है जबकि इसके पहले धंधा मंदा ही चल रहा था। व्यापारियो को उम्मीद है कि गुरुवार को भी बाजार में ग्राहकी होगी।

बस व ट्रेन में रही भीड़

पर्व के एक दिन पहले बस व ट्रेनों में खासी भीड़ रही। बस स्टैंड व रेलवे स्टेशनों पर सुबह से लेकर शाम तक लोगों की आवाजाही लगी रही। सामान्य दिनों की अपेक्षा ज्यादा यात्रियों के सफर करने से अनेक यात्रियों को बैठने तक की जगह नहीं मिल पाई। वहीं शाजापुर, बेरछा, शुजालपुर, कालापीपल, मक्सी स्टेशनों पर भी यात्रियों की संख्या बढ़ गई।

बॉक्स लगाएं...

इस बार भद्रा का साया नहीं

इस बार रक्षाबंधन पर्व की खुशी दोगुनी हो गई है क्योंकि भाई-बहन के स्नेह के प्रतीक पर्व के साथ ही स्वतंत्रता दिवस पर्व भी धूमधाम से मनाया जाएगा। पं. शिवनारायण चतुर्वेदी बताते हैं कि यह विशेष संयोग 19 वर्ष बाद बना है। इस साल रक्षा बंधन पर्व पर भद्रा का साया नहीं होने से सुबह से लेकर शाम तक कभी भी राखी बांधी जा सके गी।

-बॉक्स -----------

आज सुबह आठ से तीन बजे तक बंधेगी कै दियों को राखी

जिला जेल शाजापुर में बंदियों को रक्षाबंधन के पर्व पर बहनों से मिलने एवं रक्षासूत्र बांधने के लिए सुविधा प्रदान की जाएगी। जेल उप अधीक्षक गोपालसिंह गौतम ने बताया जिला जेल में परिरुद्ध बंदियों की के वल बहनों एवं उनके साथ पांच वर्ष से कम उम्र के बच्चों को पहचान पत्र प्रस्तुत करने पर विशेष मुलाकात की सुविधा प्रदान की जाएगी। यह सुविधा सुबह आठ से दोपहर तीन बजे तक दी जाएगी। बहनों को राखी हेतु 250 ग्राम मिठाई, फू टा हुआ नारियल एवं कंकू, चावल जेल प्रबंधन द्वारा प्रदान की गई थाली सहित जेल के अंदर 15 मिनट के लिए प्रवेश दिया जाएगा।

---------

फोटो : 14एसजेआर15

कै प्शन- शाजापुर में राखी पसंद करती बहनें।

----------