-चीलर नदी सौंदर्यीकरण : नपा ने चार महीने पहले शिक्षा विभाग को लिखा था पत्र लेकि न नहीं कि या अमल-

- नदी कि नारे है दो शासकीय स्कू ल, सौंदर्यीकरण का सबसे बड़ा प्रोजेक्ट

शाजापुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

चीलर नदी सौंदर्यीकरण से जुड़े 7.40 करोड़ रुपए के प्रोजेक्ट में जिम्मेदारों की सुस्त चाल ने अड़ंगा लगा दिया है। दरअसल, नदी कि नारे दो सरकारी स्कू ल की बिल्डिंग है। जिसे दूसरी जगह शिफ्ट करने के लिए नपा ने करीब चार महीने पहले शिक्षा विभाग को पत्र लिखे थे। बावजूद दोनों स्कू ल शिफ्ट नहीं हो सके । लिहाजा, सौंदर्यीकरण के कार्य की रफ्तार सुस्त हो गई है। ऐसे में बारिश से पहले काम पूरा होने की उम्मीद नहीं है क्योंकि अभी भी 60 फीसदी काम बाकी है। खास बात ये है कि शहर में सौंदर्यीकरण का यह सबसे बड़ा प्रोजेक्ट है। जिसमें ओपन थियेटर, ओंकारेश्वर मंदिर से डांसी को जोड़ने वाले पैदल पुल, एक्यूपंक्चर-जॉगिंग ट्रेक, फू ड जोन, फव्वारे, गार्डन आदि शामिल हैं लेकि न स्कू ल बिल्डिंगें न हटने से काम आगे नहीं बढ़ पा रहा है।

शनि मंदिर के पास ही शासकीय मावि वजीरपुरा व शासकीय कमला नेहरू मावि मीरकलां है। ये स्कू ल नदी कि नारे हैं। ऐसे में नदी में बाढ़ आने पर पानी तीन से चार फीट तक भर जाता है। पिछली बार भी कई दिन तक पानी भरा रहा। तब भी स्कू लों को शिफ्ट करने की मांग उठाई गई थी लेकि न शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने सुनवाई नहीं की। इसके बाद नदी कि नारे ही नपा ने सौंदर्यीकरण का काम शुरू कराया और शिक्षा विभाग को पत्र लिखकर दोनों स्कू लों को अन्यंत्र शिफ्ट करने की मांग की। स्कू ल बिल्डिंग को डिस्मेंटल करने एवं कि ला परिसर में लगाने की बात भी सामने आईं कि ंतु इस पर अमल नहीं हो सका। नतीजतन सौंदर्यीकरण के कार्य में देरी हो रही है। ऐसे में यह बारिश के पहले पूरा नहीं हो सकता और मामला नवंबर-दिसंबर तक जा सकता है।

... तो बड़े प्रोजेक्ट में होगी देरी

कई साल के इंतजार के बाद चीलर नदी के सौंदर्यीकरण से जुड़े प्रोजेक्ट पर काम शुरू हुआ लेकि न विकास कार्य की सुस्त रफ्तार से शहरवासियों को समय पर इसका फायदा मिलते नहीं दिख रहा है। जानकारी के अनुसार ओपन थियेटर व पैदल पुल शहरवासियों के लिए पहली सौगात रहेगी, क्योंकि दोनों ही यहां नहीं हैं। ओपन थियेटर के जरिए युवाओं की कला को उभरने का मौका मिलेगा। वे छोटे रंगमंच कार्यक्रम समेत संगीत, वाद-विवाद, भाषण आदि प्रतियोगिताओं में हिस्सा लेकर अपनी प्रतिभा को और निखार सकें गे। ओपन थियेटर में करीब 200 लोग एकसाथ बैठ सकें गे। इसके लिए थियेटर के चारों का बैठक व्यवस्था के लिए सीढ़ीनुमा जगह रहेगी। इसके लिए महूपुरा पुलिया से कि ले की दीवार के बीच ओंकारेश्वर मंदिर तक के हिस्से में निर्माण कार्य कराए जा रहे हैं। थियेटर का काफी काम हो चुका है। वहीं शनि मंदिर के पास ऊंची दीवार, नदी के नाले का निर्माण हो चुका तो दूसरी ओर घाट भी बन रहे हैं। एक्यूपंक्चर ट्रेक, पार्क आदि का निर्माण बाकी है, जो स्कू ल बिल्डिंग हटने के बाद ही बन सकें गे।

इसलिए खास प्रोजेक्ट

- एक्यूपंक्चर व जॉगिंग ट्रेक बनेगा। इस पर लोग चलकर सेहत सुधार सकें गे।

- इसी जगह पर गार्डन विकसित होगा।

- फू ड जोन भी बनाया जाएगा ताकि खाने-पीने के व्यंजनों की दुकानें एकसाथ लग सकें ।

- आकर्षक लाइटिंग होगी। शाम होते ही यह स्पॉट आकर्षक दूधिया रोशनी से नहा उठेगा।

- हैंगिंग पुल का निर्माण होगा। ये ओंकारेश्वर मंदिर व डांसी स्थित दूसरी तरफ के कि नारे को जोड़ेगा।

- नदी में फव्वारे लगेंगे। लाइट होने से आकर्षक नजारा देखने को मिलेगा।

स्रोत : नपा के अनुसार।

बॉक्स लगाएं...

सब इंजीनियर बोले- चार महीने पहले पत्र लिखा, डीईओ से संपर्क नहीं

मामले में नपा सब इंजीनियर अरुण गौड़ ने बताया दोनों स्कू ल भवन हटाने के लिए शिक्षा विभाग को करीब चार महीने पहले पत्र लिखे जा चुके हैं। लिखित व मौखिक कई बार निवेदन कि या गया कि ंतु अब तक भवन नहीं हटाए गए। इस कारण काम की रफ्तार धीमी पड़ गई है क्योंकि जहां भवन है, वहां पर कई काम होंगे। शिक्षा विभाग से फिर निवेदन करेंगे। एपीसी संतोष राठौर का कहना है कि वरिष्ठ अधिकारियों के पास मामला है। इसके बाद कि ला परिसर में स्कू ल शिफ्ट करने की प्रक्रिया होगी। मामले में डीईओ यूयू भिड़े से संपर्क करना चाहा कि ंतु नहीं हो सका।

फोटो : 20एसजेआर13

कै प्शन-चीलर नदी कि नारे स्थित शासकीय स्कू ल, जो शिफ्ट नहीं हो सके और काम की रफ्तार थम गई है।

फोटो : 20एसजेआर14

कै प्शन-सौंदर्यीकरण प्रोजेक्ट में शामिल ओपन थियेटर का काम भी चल रहा है। इसमें एकसाथ 200 लोग बैठ सकें गे।

फोटो : 20एसजेआर15

कै प्शन-स्कू ल भवन नहीं हटने से सौंदर्यीकरण का काम थम गया है।

-----------

Posted By: Nai Dunia News Network

fantasy cricket
fantasy cricket