-1590 व्यक्तियों को 16 जनवरी को लगेगा पहला टीका

आगर-मालवा (नईदुनिया न्यूज)। कोरोना संक्रमण से बचाने के लिए केंद्र सरकार ने 16 जनवरी से टीकाकरण की शुरूआत की जा रही है। इसकी तैयारियों के मद्देनजर बुधवार को आगर से कोरोना वैक्सीन लेने के लिए वाहन पुलिस सुरक्षा के साथ इंदौर गया था। वैक्सीन के डोज लेकर देर रात जिला मुख्यालय पर पहुंचा। वैक्सीन को लेकर जिले के स्वास्थ्यकर्मियों के बीच भारी उत्साह और उम्मीद है।

कोरोना वैक्सीन के टीकाकरण के लिए जिला प्रशासन द्वारा पूरी तैयारियां की जा चुकी है। कलेक्टर अवधेश शर्मा के निर्देशन में स्वास्थ्य विभाग का अमला टीकाकरण के लिए पूरी तरह से तैयार है। इसके लिए जिला अस्पताल सहित अन्य केंद्रों पर विशेष कोरोना वैक्सीन केंद्र बनाए गए हैं, जहां बुधवार को सुबह से ही सफाई सहित अन्य खास व्यवस्थाएं की गई हैं। सीएमएचओ डॉ. एसएस मालवीय ने बताया कि जिले में कुल 2663 पंजीकृत स्वास्थ्य कर्मी सूचीबद्घ हुए हैं। इनमें से 1590 पंजीकृत को सबसे पहले टीका लगाया जाएगा। प्रत्येक व्यक्ति को दो डोज 28 दिन के अंतराल में लगाए जाएंगे। जिले से एक विशेष वाहन पुलिस सुरक्षा के साथ वैक्सीन लेने के लिए इंदौर रवाना किया गया था। जिसमें टीके को सुरक्षित रूप से लाने के लिए खास तरह के बॉक्स भेजे गए। जिले की आवश्यकतानुसार जो भी टीके मिले हैं, उनको जिला अस्पताल में ही विशेष रूप से बनाए गए भंडारण केंद्र में रखा जाकर 16 जनवरी से टीकाकरण किया जाएगा।

जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ.राजेश गुप्ता के अनुसार प्रथम चरण में स्वास्थ्य विभाग व महिला बाल विकास विभाग के कर्मचारियों को टीके लगाए जाएंगे। दोनों विभागों के कर्मचारियों का पंजीकृत 2663 निर्धारित किया गया है। इसके लिए जिला अस्पताल 551, बड़ौद में 470, नलखेड़ा में 501, सुसनेर में 511, कानड़ 538 व सोयत में 92 कर्मचारियों को कोविड 19 के टीके लगेंगे, किन्तु प्रथम चरण में जिला अस्पताल, कानड़ व नलखेड़ा में लगेगा। जहां ड्राइ रन हुआ है। टीकाकरण में 26 शासकीय व 39 अशासकीय संस्थाओं को शामिल किया गया है। वैक्सीन वैन के माध्यम से ब्लॉक स्तर पर बनाए वैक्सीन भंडारण में रखी जाएगी। जिले में 8 फोकल पांइट बनाए गए हैं। जिले में वैक्सीन लगाने के लिए 27 सत्र निर्धारित किए गए हैं। उनमें प्रतिदिन 10 सत्रों के माध्यम से कोविड के टीके लगाकर तीन दिन में टीकाकरण कार्य पूरा होगा।

टीके को लेकर उत्साह और उत्सुकता

जिले में जिन पंजीकृत स्वास्थ्य कर्मियों को प्रथम चरण में टीका लगाया जाना है। उनमें उत्साह के साथ उत्सुकता और जिज्ञासा बनी हुई है। स्वास्थ्य कर्मियों ने बताया कि कोरोना के कठिन समय में मैदानी स्तर पर काम करने के साथ कोरोना संक्रमित मरीजों का उपचार एवं देखभाल के दौरान बीमारी के संक्रमण का खतरा लगातार बना रहा था और कई स्वास्थ्य कर्मचारी देश-प्रदेश के अलग-अलग स्थानों पर अपनी सेवाएं देते हुए संक्रमित भी हुए एवं कई लोगों ने अपने जीवन का बलिदान भी इसमें दे दिया। तब से ही विश्वभर में खतरनाक महामारी से बचाव एवं निदान के लिए वैक्सीन के ईजाद के लिए तरह-तरह के जतन और दावे किए जाते रहे हैं। ऐसे में अब वैक्सीन पूरी तरह से ट्रायल होने के बाद सरकार द्वारा टीकाकरण की मंजूरी पाकर स्वास्थ्य कर्मियों को लगाए जाने के लिए सबसे पहले भेजी गई है।

कलेक्टर शर्मा ने बुधवार को स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों एवं टीकाकरण कार्य की मॉनिटरिंग के लिए नियुक्त झोनल अधिकारियों की बैठक लेकर अभियान के प्रथम चरण का तीनों स्वास्थ्य केंद्रो पर सफल आयोजन करने के निर्देश दिए हैं। कलेक्टर ने वैक्सीलेशन सेंटरों पर सभी जरूरी सुविधाओं के साथ हितग्राहियों के लिए टेंट, कुर्सी, पेयजल, शौचालय, विद्युत, पार्किंग आदि की व्यवस्था करने के निर्देश दिए।टीकाकरण सत्र प्रातः 9 बजे से शाम 5 बजे तक होगा।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस