- बेरछा पुलिस ने हत्या के मामले का किया पर्दाफाश

शाजापुर/बेरछा (नईदुनिया प्रतिनिधि)। पीठ में गोली के छर्रे लगने से युवक की मौत के मामले का बेरछा थाना पुलिस ने पर्दाफाश कर दिया है। मामले में पुलिस ने एक आरोपित को गिरफ्तार करने के साथ 12 बोर की लाइसेंसी बंदूक और एक खाली टोटा व तीन भरे राउंड भी जब्त किए हैं। पुलिस के अनुसार आरोपित अपने खेत पर फसल और संपत्ति की सुरक्षा के लिए रात रुकता है। रात के समय वह अपने साथ हमेशा बंदूक भी रखता है। घटना वाले दिन ज्ञानसिंह अपने साथियों के साथ तीन मोटरसाइकिल से खेत की तरफ से जा रहा था। आरोपित ने इन लोगों को आवाज दी, जिसका जबाव नहीं आया। साथ ही सभी की गतिविधि संदिग्ध लगी। इस पर उसने बंदूक से गोली चला दी, जो मोटरसाइकिल पर पीछे युवक को लगी।

रविवार रात बेरछा थाना क्षेत्र के ग्राम तिलावदी में गोली मारकर युवक की हत्या की गई थी। सोमवार सुबह गांव के बाहर युवक का शव पड़ा होने की जानकारी लगने पर पुलिस मौके पर पहुंची थी। पोस्टमार्टम में मृतक की पीठ में गोली के छर्रे लगे होने की बात सामने आई थी। इसके बाद से ही पुलिस मामले की जांच में जुटी थी। बेरछा थाना प्रभारी रवि भंडारी के अनुसार मामले की जांच में सामने आया कि मृतक ज्ञानसिंह पुत्र निर्भयसिंह उम्र 32 साल निवासी ग्राम छापरिया बड़ोदिया के साथियों से पूछताछ में मिली जानकारी के आधार पर अंबाराम पुत्र प्रतापसिंह जाट उम्र 55 साल निवासी तिलावदी को गिरफ्तार किया गया है। गुरुवार को आरोपी को न्यायालय में प्रस्तुत किया, जहां से उसे जेल भेज दिया गया है।

मौके से भाग गए थे मृतक के साथी

पुलिस द्वारा की गई पूछताछ में मृतक ज्ञानसिंह के साथियों ने बताया कि वह लोग तीन मोटरसाइकिल पर सवार होकर ग्राम आक्या होते हुए शाजापुर जा रहे थे। इसी दौरान वह तिलावदी मार्ग से ग्राम के समीप पहुंच गए, जहां ग्रामीण ने चोरी की शंका के चलते गोली चला दी, जो ज्ञानसिंह को जा लगी, जिससे कुछ देर में उसकी मौत हो गई। इससे वह घबराकर मौके से भाग गए। मामले में साथियों ने हत्या जैसी वारदात पुलिस और मृतक के स्वजनों से छिपाई। इस पर पुलिस ने मृतक के साथियों पर कोई कार्रवाई नहीं की है।

मृतक के साथियों पर नहीं की कार्रवाई

पुलिस के अनुसार मृतक ज्ञानसिंह चोरी की वारदातों में संलिप्त रहा है। उसके शव के पास से चोरी की वारदातों में उपयोग होने वाली लोहे की कटर और कुल्हाड़ी भी मिली थी। पुलिस ने यह भी बताया कि वह अपने छह साथियों के साथ मोटरसाइकिल से ग्राम तिलावदी क्षेत्र में आया था, तभी आरोपित ने पीछे से गोली मारकर उसकी हत्या कर दी। मामले में खास बात यह है कि पुलिस ने मृतक के साथियों पर किसी तरह की कार्रवाई नहीं की, जबकि मृतक और साथी चोरी की नीयत से क्षेत्र में आए थे। बेरछा थाना प्रभारी रवि भंडारी भी इस बात को स्वीकार कर रहे हैं कि मृतक के साथी चोरी की वारदातों में संलिप्त होंगे। साथ ही उन्होंने इतनी बड़ी वारदात की सूचना पुलिस को नहीं दी, जिससे उनके संदिग्ध होने की बात और मजबूत हो रही है। बावजूद पुलिस ने इन पर कोई कार्रवाई नहीं की, जिससे पुलिस की कार्रवाई पर सवाल भी खड़े हो रहे हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local