जिला अस्पताल के वार्ड का राज्यमंत्री ने किया आकस्मिक निरीक्षण

शाजापुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। जिला अस्पताल के कोविड वार्ड में फैली गंदगी को देखकर राज्यमंत्री इंदरसिंह परमार ने नाराजगी व्यक्त की। प्रदेश के स्कूल शिक्षा स्वतंत्र प्रभार एवं सामान्य प्रशासन राज्य मंत्री व जिला कोरोना प्रभारी इंदरसिंह परमार ने शनिवार को जिला अस्प्ताल के कोविड वार्ड का आकस्मिक निरीक्षण किया था। इस दौरान कलेक्टर दिनेश जैन, जिला पंचायत सीईओ मिशा सिंह, पूर्व विधायक अरूण भीमावद, सीएमएचओ डॉ. आर. निदारिया, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक आरएस प्रजापति, उपपुलिस अधीक्षक दीपा डोडवे, डॉ. संजय खंडेलवाल, डॉ. आलोक सक्सेना, डॉ. एसडी जायसवाल, डॉ. शुभम गुप्ता, विवेक दुबे, आशीष नागर भी उपस्थित थे।

कोविड वार्ड में साफ-सफाई की व्यवस्था ठीक नहीं होने पर राज्यमंत्री परमार ने इसके लिए नियुक्त आउटसोर्स एजेंसी पर सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि अस्पताल में साफ-सफाई, सुरक्षा की जवाबदारी आउटसोर्स एजेंसी की है। आउटसोर्स एजेंसी द्वारा नियुक्त सभी कर्मचारियों की उपस्थिति जिला अस्पताल में सुनिश्चित रहें और उनके द्वारा कार्य भी किया जाना चाहिए। यदि आउटसोर्स एजेंसी अपने दायित्वों के निर्वहन में असफल है, तो संबंधित ठेकेदार के विरूद्ध त्वरित आज ही कार्रवाई सुनिश्चित करें। जिला अस्पताल में विगत दिनों आक्सीजन पाइप लाइन की चोरी सुरक्षा की चूक के कारण हुई है। अतः इसका खामियाजा संबंधित आउटसोर्स एजेंसी से वसूल किया जाना चाहिए। आउटसोर्स एजेंसी यदि शर्तों का उल्लंघन करती है तो उससे दंडस्वरूप राशि वसूलें। राज्यमंत्री परमार ने गहन चिकित्सा इकाई कक्ष में वेंटीलेटर लगाने एवं उसके चालू करने में आ रही दिक्कतों के बारे में जानकारी ली। इसके पूर्व राज्यमंत्री परमार ने जिला अस्पताल में ऑक्सीजन उत्पादन के लिए निर्मित हो रहे दो संयंत्रों के स्थल का निरीक्षण किया। उल्लेखनीय है कि जिला अस्पताल में भारत सरकार द्वारा 960 लीटर प्रति मिनिट, मध्यप्रदेश सरकार द्वारा 200 लीटर प्रति मिनिट क्षमता के ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्र लगाए जा रहे हैं।

कोविड सहायता केंद्र का निरीक्षण

किल कोरोना-तीन अभियान के तहत वार्ड-6, 7, 8 एवं 9 के नागरिकों के लिए जिला प्रशासन एवं नगरपालिका द्वारा बनाए गए कोविड सहायता केन्द्र का राज्यमंत्री इंदरसिंह परमार ने निरीक्षण कर यहां कि व्यवस्थाओं को देखा। इस अवसर पर कलेक्टर दिनेश जैन, पूर्व विधायक अरूण भीमावद, सीएमओ भूपेन्द्र दीक्षित, कोविड केन्द्र सहायता प्रभारी डॉ. पूजा शर्मा भी उपस्थित थी। उल्लेखनीय है कि किल कोरोना-3 अभियान में सर्वे टीम द्वारा घर-घर जाकर परिवार के प्रत्येक सदस्यों की स्क्रीनिंग की जा रही है तथा बीमार व्यक्तियों की पहचान कर उन्हें बनाए गए कोविड सहायता केन्द्रों में परीक्षण के लिए भेजा जा रहा है। कोविड सहायता केंद्र में सामुदायिक स्वास्थ्य अधिकारियों की ड्यूटि लगाई गई है। कोविड सहायता केन्द्र में मरीजों का परीक्षण किया जाएगा तथा इनके सेंपल लेकर इन्हें आवश्यक दवाईयां उपलब्ध कराई जाएगी।

सफाई व्यवस्था गड़बड़ होने के बाद भी होते रहे भुगतान

सीएमएचओ कार्यालय में मंत्री इंदर सिंह परमार, कलेक्टर दिनेश जैन के सामने ही सीएमएचओ डॉ. राजू निदारिया ने जिला अस्पताल में सफाई व सुरक्षा व्यवस्था देखने वाली एजेंसी की कार्यप्रणाली को लेकर नाराजगी जताई। उन्होंने खुलकर कहा कि काम मे कई खामियां होने के बाबजूद संबंधित का भुगतान करने के लिए उन पर दबाव डाले गए। इधर, मामले में जिला अस्पताल के जिम्मेदार स्पष्ट जवाब देने की वजह इधर-उधर की बात करते देखे गए जानकारी अनुसार सफाई व्यवस्था के काम देख रही एजेंसी द्वारा नियम कायदों का जमकर मखौल उड़ाया जा रहा है। इसके बावजूद जिला अस्पताल के जिम्मेदारों द्वारा उस पर कोई ठोस कार्रवाई नहीं की गई। स्थिति यह है कि जिला अस्पताल के कोरोना वार्ड में पोछा लगाने के लिए सफाई कर्मियों को पिछले कई दिनों से फिनाइल तक नहीं मिल रहा था। बावजूद ठेकेदार पर कोई ठोस कार्रवाई नहीं की गई। कागजी खानापूर्ति करने के लिए ठेकेदार को नोटिस जरूर दिए जाते रहे, लेकिन इस पर भी कोई कार्रवाई नहीं की गई।

आपसी मतभेद और मनमानी बन रही अव्यवस्था का कारण

जिला अस्पताल में कई तरह की गड़बड़ियां और लापरवाही आए दिन सामने आती रहती हैं। इसके पीछे प्रमुख कारण जिम्मेदारों के आपसी मतभेद, मनमानी और नियम कायदों की अनदेखी को कारण माना जा रहा है। यहां हर कोई अपने फायदे के लिए मनमानी करने पर उतारू है। वही एक बात यह भी है कि यहां कोई भी जिम्मेदारी लेकर काम करने को आगे आने को तैयार नहीं है। इन हालातों में जिला अस्पताल में गड़बड़ी और मनमाना आलम जारी है। आए दिन यहां पर अव्यवस्था के मामले सामने आते रहते हैं। सुरक्षा की स्थिति यह है कि यहां पर कुछ दिन पहले ऑक्सीजन लाइन चोरी होने का मामला सामने आ चुका है। आधी रात को रेमडेसीविर इंजेक्शन वितरण के बाद हुई लूटपाट ने यहां की अव्यवस्था प्रदेश स्तर पर उजागर कर दी थी। हालांकि इस मामले में भी अब तक ठोस कार्रवाई सामने नही आई है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags