शाजापुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। सोमवार दोपहर शहर व आसपास के गांवों में तेज बारिश होने से लखुंदर नदी उफान पर आ गई। शाम 6.15 बजे करेड़ी पुलिया के ऊपर से पानी बहने लगा। रात में दो फीट तक पानी बहा। इधर, मौसम विभाग ने मंगलवार को शाजापुर व आगर जिले में भारी बारिश होने की चेतावनी दी है।

ऐसे में प्रशासन की मुश्किलें बढ़ सकती है क्योंकि खोकराकलां समेत कई नदी-नालों के किनारे मौजूद गांवों में पानी भरने का डर सता रहा है तो बेरछा में मंगलवार को होने वाला 'आपकी सरकार आपके द्वार' कार्यक्रम भी प्रभावित हो सकता है। सोमवार को बेरछा क्षेत्र में तेज बारिश से कार्यक्रम की तैयारियां प्रभावित हुई, जबकि कैचमेंट एरिया में बारिश होने से चीलर डैम के ओवरफ्लो से भी काफी पानी बहने लगा।

सोमवार सुबह से ही रिमझिम बारिश होती रही। दोपहर तीन बजे तेज बारिश से सड़कों पर पानी बह निकला। देर रात तक रिमझिम व तेज बारिश होती रही।

मौसम विशेषज्ञ सत्येंद्र धनोतिया ने बताया शहर में अब तक 47.3 इंच बारिश हो चुकी है, जबकि पिछले साल कुल बारिश 30.7 इंच हुई थी। यानी इस बार करीब 17 इंच बारिश अधिक हो चुकी है, जो सामान्य बारिश के आंकड़े से आठ इंच अधिक है।

जोखिम उठाकर पुल-पुलियाएं पार करते रहे राहगीर

जिले में बारिश का दौर फिर शुरु हो गया है। इससे नदी-नालों की पुल-पुलियाओं के ऊपर से पानी गुजरने लगा है। बावजूद राहगीर जान जोखिम में डालकर उसे पार कर रहे हैं। सोमवार को करेड़ी पुलिया पर पानी होने के बावजूद कई लोग उसे पार करते रहे।

इस पुलिया से आसपास के दो दर्जन से अधिक गांव के लोग आना-जाना करते हैं। मानसूनी सीजन से पहले पुलिया की हाइट करीब पांच फीट बढ़ाई गई थी लेकिन नदी के उफान पर आने और जादमी बैराज बनने से पुलिया के ऊपर से ही पानी बह रहा है।

आकाशीय बिजली गिरने से वृद्घा की मौत

आकाशीय बिजली गिरने से ग्राम कांकरिया में एक वृद्घा की मृत्यु हो गई। कमलाबाई (75) पति गंगाप्रसाद मीना निवासी कांकरिया शाम को अपने घर के बाहर आंगन में बैठी हुई थी। इसी दौरान जोरदार आवाज के साथ बिजली गिरी, जिससे कमलाबाई की मौके पर ही मृत्यु हो गई।

बताया जाता है कि घर के अन्य सदस्य थोड़ी ही दूर थे, जो बाल-बाल बच गए। शव सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र कालापीपल लाया गया। पुलिस ने मर्ग कायम किया है। नगर अलसुबह कोहरे की आगोश में रहा। सुबह बूंदाबांदी होती रही। दोपहर 3 बजे के बाद तेज बारिश हुई जो शाम तक जारी रही। नगर में सोमवार को रुक-रुककर रिमझिम और झमाझम बारिश का दौर चलता रहा। हाट में व्यापार प्रभावित हुआ। वहीं, ग्रामीणों ने बारिश से बचने के लिए छातों का सहारा लिया और बाजार पहुंचे।

ग्रामीणों ने जान जोखिम में डाली

सोमवार को तेज बारिश होने से गांव के मुख्य मार्ग पर नाले की पुलिया उफान पर आ गई। इससे ग्रामीणों का आवागमन बंद हो गया। कुछ लोग जान जोखिम में डालकर पुलिया पार करते रहे। इसी दौरान एक भैंस बहकर आई और पुलिया में फंस गई। जिसे पंचायत सचिव हेमराज परमार ने ग्रामीणों की मदद से बाहर निकाला। देर रात तक नाला उफान पर रहा।

VIDEO : केरवा डैम में बहे दो युवकों की तलाश के लिए रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू,

रूठी पत्नी को मनाने के लिए नाग-नागिन का टैटू गुदवाया पर वो मायके से लौटने को राजी नहीं

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना