शाजापुर। कोतवाली थाना क्षेत्र की आयोध्या बस्ती में एक घर के ऊपर लगा भगवा ध्वज वर्ग विशेष के युवक और महिला द्वारा जलाने का मामला सामने आया है। सोमवार को जैसे ही हिन्दू संगठन के कार्यकर्ता और पदाधिकारियों को मामले की जानकारी लगी। उन्होंने घटना को लेकर खासा आक्रोश व्यक्त किया। इस पर पुलिस सक्रिय हुई और तत्काल बड़ी संख्या में पुलिस बल मौके पर भेजा गया। मामले में कोतवाली थाना पुलिस ने एक महिला सहित तीन लोगों के खिलाफ धार्मिक भावना भड़काने को लेकर आईपीसी की धारा 295 अ के तहत केस दर्ज किया है।

कोतवाली थाने से प्राप्त जानकारी अनुसार आयोध्या बस्ती में भगवा ध्वज जलाए जाने के मामले में सुनिता पति नेमचंद जाटव निवासी आयोध्या बस्ती की शिकायत पर पोंटिग पुत्र बाबू, अरबाज पुत्र सत्तार खां और शेरबानों पति एजाज खां तीनों निवासी आयोध्या बस्ती के खिलाफ केस दर्ज किया गया है। तीनों ही आरोपित को हिरासत में ले लिया गया है। दरअसल 24-25 सितंबर की दरमियानी रात आरोपितों द्वारा घर के ऊपर लगा भगवा ध्वज उतारकर आग लगाई गई। इस दौरान एक युवक ने इनके फोटो खींच लिए थे। इन्ही फोटो के आधार पर मामला सामने आया और कार्रवाई की गई। घटना से आयोध्या बस्ती के निवासी और हिन्दू संगठनों में तीखा आक्रोश बताया जा रहा है। फोटो के अनुसार एक युवक सिढ़ी या टेबल पर चढ़कर ध्वज उतार रहा है। महिला और एक युवक उसकी मदद करते दिख रहे हैं।

त्योहार के दौरान सामने आया मामला

आयोध्या बस्ती में भगवा ध्वज जलाने का मामला नवरात्र के पहले दिन सामने आया है। त्योहारों को लेकर पुलिस खासी सर्तकता बरतने और सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम होने की बात कह रही है। शांति समितियों की बैठकें भी आयोजित हो चुकी हैं। बावजूद इस तरह की विवाद भड़काने और लोगों को उकसाने वाली घटनाएं सामने आना चिंता की बात है। बता दें कि सांप्रदायिक दृष्टि से शाजापुर जिला अतिसंवेदनशील जिलों की श्रेणी में माना जाता है। ऐसे में यहां सांप्रदायिक मामलों को लेकर विशेष सतर्कता बरतने की जरूरत है। इसके दावे भी पुलिस और प्रशासन द्वारा किए जाते हैं। किंतु इसके बावजूद लगातार विवादित मामले सामने आ रहे हैं। बीते महिनों में देश विरोध नारे लगने के दो मामले सामने आए थे, यह अभी भी चर्चा में हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close