- जगह-जगह निकलेंगे जुलूस, खूब उड़ेगा रंग-गुलाल

- लखुंदर एवं चीलर नदी में अधिक पानी होने से पहली बार भैरव टेकरी स्थित तलाई पर विसर्जन

शाजापुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

दस दिन साथ रहने के बाद अब बप्पा की विदाई की बेला आ गई। गुरुवार को धूमधाम से विघ्नहर्ता को जुलूस निकालकर विदाई दी जाएगी। गाजे-बाजे और डीजे की धुन पर झूमते भक्त रंग-गुलाल उड़ाते चलेंगे। हर कहीं 'गणपति बप्पा मोरिया, अगले बरस तू जल्दी आ'... के जयकारे गूंजेंगे। जिले में 400 से ज्यादा जुलूस एक दिन में निकलेंगे। वहीं घरों में विराजित प्रतिमाओं को भी विसर्जन के लिए लोग लेकर जाएंगे। वहीं जो लोग विसर्जन स्थल नहीं जा सकते हैं उनके लिए नपा शहर में दो स्थानों पर वाहन खड़े करेगी। जहां श्रद्धालु प्रतिमाएं रख सकें गे। यहां से नपा कर्मी ससम्मान प्रतिमाओं का ले जाकर विसर्जित करेंगे।

इस बार प्रतिमा विसर्जन को लेकर प्रशासन अलर्ट है। दरअसल, जिले में झमाझम बारिश के असर से क्षेत्र के नदी-नाले उफान पर हैं। ऐसे में हादसा होने की आशंका बढ़ गई है। इसलिए सुरक्षा व्यवस्था को लेकर प्रशासन ने विशेष इंतजाम कि ए गए हैं। शहरवासी अमूमन लखुंदर व चीलर नदी पर जाकर प्रतिमाओं का विसर्जन करते आए हैं लेकि न वर्तमान में दोनों नदियां ही उफान पर है। ऐसे में जादमी-भदौनी के पास प्रतिमा विसर्जन करना सुरक्षित नहीं है। वहीं नैनावद स्थित लखुंदर नदी पर भी बहाव तेज होने से संभव नहीं है।

भैरव टेकरी क्षेत्र में कि ए इंतजाम

शहरवासियों के लिए प्रतिमाओं के विसर्जन के लिए प्रशासन द्वारा इस बार भैरव टेकरी क्षेत्र को चुना गया है। यहां पर पहली बार ही प्रतिमाओं के विसर्जन को लेकर व्यवस्थाएं की जा रही हैं। यहां पर वाहन पार्किंग के लिए भी व्यवस्था पर्याप्त है तो दूसरी ओर यहां दुपाड़ा मार्ग से होते हुए बायपास के माध्यम से भी पहुंचा जा सकता है। इससे हाईवे के ट्रैफिक में भी जाए बगैर विसर्जन के लिए लोग आ-जा सकें गे। चूंकि विसर्जन का कार्यक्रम सुबह से लेकर रात तक चलेगा। इसलिए यहां पर बिजलीत व्यवस्था भी की जा रही है।

यहां खड़े रहेंगे नपा के वाहन, प्रतिमाएं रख सकें गे श्रद्धालु

शहर में मां राजराजेश्वरी मंदिर परिसर एवं महूपुरा स्थित चीलर नदी पुलिया के पास वाहनों की व्यवस्था प्रशासन करेगा। लोग अपने घरों से प्रतिमा लाकर वाहनों में विराजित कर सकते हैं। फिर प्रशासन विधि-विधानपूर्वक मूर्तियों का विसर्जन करेगा।

जलस्रोतों के करीब न जाएं, सावधानी रखें

गुरुवार को जिलेभर में गणेशोत्सव पर्व के समापन पर प्रतिमाओं का विसर्जन कि या जाएगा। ऐसे में लोग प्रशासन द्वारा निर्धारित स्थल पर ही जाएं, क्योंकि नदी-नाले वर्तमान में उफान पर है। ऐसे में जरा सी सावधानी जान पर बन सकती है। वहीं जहां पर भी कु ंड की व्यवस्था की गई है, वहां पर ही मूर्तियों का विसर्जन न करें क्योंकि पीओपी व के मिकल रंगों वाली प्रतिमाओं से जल दूषित होता है।

फोटो : 11एसजेआर30

कै प्शन- टेंशन चौराहा पर विराजित गणेश मूर्ति।

---------