शाजापुर। राजगढ़ जिले की निवासी 18 वर्षीय छात्रा ने जहरीला पदार्थ खाकर जान दे दी। उसे शनिवार सुबह ही उपचार के लिए जिला अस्पताल शाजापुर लाया गया था। जहां कुछ देर बाद उसकी मौत हो गई। छात्रा के स्वजन ने शाजापुर जिला अस्पताल स्थित चौकी के पुलिस स्टाफ को सुसाइड नोट भी सौंपा है। इसमें अंग्रेजी में छात्रा ने एक लड़के से परेशान होने की बात का उल्लेख किया है। छात्रा ने नोट में मां-पापा के लिए मिस यू भी लिखा है। छात्रा ने लिखा है कि उसने पूर्व में भी जान देने की सोची किंतु कुछ दिन मम्मी-पापा के साथ और रहने व परिवार व रिश्तेदारी में आयोजन होने के कारण उसने ऐसा नहीं किया।

बेटी की मौत से पिता गमगीन और अनमने थे। मामा व अन्य स्वजन दुखी के साथ आक्रोशित भी हैं। उनका कहना है कि अगर मनचले पर सख्त कार्रवाई होती तो ऐसा नहीं होता। स्वजन द्वारा पुलिस को सौंपे गए सुसाइड नोट में लिखा है कि उसे देखकर मुझे डर लगता है, उसे रोज देखना बर्दास्त नही कर सकती। उससे परेशान होकर मैंने थाने-कचहरी तक शिकायत की किंतु वह खुलेआम घूमता रहा। मैं किसी से नजर नहीं मिला पाती। बोझ बनकर नहीं रह सकती। बहरहाल छात्रा ने मनचले से परेशान होकर जान दे दी है। स्वजन बेटी के इस तरह असमय दुनिया से विदा होने पर काफी दुखी हैं। उनका कहना है कि बेटी का जान देने के लिए मजबूर करने वाले लड़के पर सख्त कार्रवाई होना चाहिए। स्वजन का कहना है कि लड़का काफी समय से छात्रा को परेशान कर रहा था। जिसे लेकर थाने में एफआईआर भी की थी। किंतु इसके बाद भी लड़के की हरकते जारी रहीं। शाजापुर जिला अस्पताल स्थित पुलिस चौकी पर मर्ग कायम कर राजगढ़ जिले के पुलिस थाने भेजा जाएगा।

मामा के यहां करती थी पढ़ाई

मामा निवासी राजगढ़ जिला ने बताया कि छात्रा के गांव का लड़का है। वह उसे परेशान करता था, छात्रा मामा के यहां रहकर पढ़ाई करती थी। स्कूल की छुट्टियां और परीक्षा के बाद वह अपने गांव जाती थी। तब लड़का परेशान करता था। इसे लेकर हमारे द्वारा लीमा चौहान में पुलिस को शिकायत करने के साथ नवंबर 2021 में एफआईआर भी दर्ज कराई थी। किंतु कोई ठोस कार्रवाई नही हुई। लड़के पर सख्त कार्रवाई हो।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close