राजमार्ग हो गया जर्जर, कोई नहीं ले रहा सुध

सुसनेर। नईदुनिया न्यूज

जब शासन या प्रशासन आम जनता की सार्वजनिक परेशानियों पर ध्यान ही न दे तो परेशान जनता के पास आखिर खुद ही समस्या का निराकरण करने के अलावा कोई रास्ता ही नहीं बचता। ऐसी ही तस्वीरें आगर मालवा जिले के सुसनेर में देखने को मिली है। जब जवाबदारों ने जिले से निकले इंदौर-कोटा राजमार्ग पर बड़े-बड़े गड्ढे हो जाने पर भी ध्यान नहीं दिया तो गड्ढों से अपना वाहन खराब हो जाने पर ट्रक ड्राइवर खुद ही अपने हाथों से मिट्टी व पत्थर डालकर गड्ढा बंद करने में जुट गया।

हैदराबाद से पंजाब माल लेकर जा रहे हरियाणा के ट्रक ड्राइवर संजय यादव का वाहन (आरजे 14 जीएफ 6159) को लेकर मध्यप्रदेश की सीमा में पहुंचते ही आगर मालवा जिले की सड़कों पर गड्ढों की वजह से खराब हो गया। वाहन ठीक कराने के दौरान ड्राइवर ने अपने आसपास के बड़े गड्ढों को खुद ही बंद करना शुरू कर दिया। आसपास से पत्थर और मिट्टी को लाकर उसने गड्ढों को भरा। ड्राइवर का कहना था कि इंदौर-कोटा राजमार्ग के अंतर्गत मध्यप्रदेश की सीमा का चवली से उज्जौन तक का यह मार्ग गड्ढे वाला हो गया है। इससे मेरा वाहन खराब हो गया है। वह चाहते हैं कि गड्ढों से कोई और वाहन खराब न हो इसलिए उन्होंने गड्ढों को भरा।

एक ओर प्रदेश सरकार के मंत्री जल्द ही प्रदेश की सड़कों के हालात ठीक करने की बात कर रहे है लेकिन आगर मालवा में ऐसी पहल अब तक देखने को नहीं मिली है। मध्यप्रदेश की सीमा से निकले इंदौर-कोटा राजमार्ग के 165 किलोमीटर के हिस्से पर बड़े-बड़े गड्ढे होने और साइड शोल्डर काफी नीचे बैठ जाने से यह मार्ग अत्यंत ही जर्जर हो गया है। इन गड्ढों से प्रतिदिन कोई न कोई वाहन दुर्घटनाग्रस्त हो रहे हैं। वहीं, कई लोगों की मौत हो चुकी है तो कई लोग घायल हुए हैं। साथ ही वाहनों में लगातार टूट-फूट से लाखों रुपए का नुकसान भी हो रहा है।

चित्र- 12 सुसनेर 1 गड्ढे भरते हुए ट्रक ड्राइवर संजय यादव।