कालापीपल मंडी। जिनके कारण हम सुरक्षित है उनकी कलाईयां सूनी ना रहे इसके लिए कालापीपल क्षैत्र की शिक्षिका अपने अन्य साथियों के साथ बार्डर पर पहुंचकर तिरंगा राखी हाथों पर सजायेगी। शिक्षिका अपने फौजी भाईयों के लिए राखी भी स्वयं तैयार कर रही है।

संपूर्ण भारत वर्ष में जहां 13 से 17 अगस्त तक हर घर तिरंगा लहराने की तैयारियां जोर शोर से जारी है ऐसे में इस तिरंगे की सलामती के लिए सीना तानकर बार्डर पर खड़े सैनिकों के साथ रक्षाबंधन पर्व मनाने के लिए बैतुल सांस्कृतिक सेवा समिति भी उत्साहित है। कारगिल युद्घ के बाद से देश की अंतर्राष्ट्रीय सीमाओं पर तैनात सैनिकों के साथ रक्षाबंधन का पर्व मनानेवाली इस संस्था के सदस्यों द्वारा सिक्किम की राजधानी गंगटोक पहुंचकर आईटीबीपी के एक हजार सैनिकों के साथ रक्षाबंधन पर्व मनाया जाएगा। इस गौरान्वित पलों की साक्षी कालापीपल विकासखण्ड के आलनिया एकीकृत माध्यमिक विद्यालय की शिक्षिका सीमा परमार बनेगी। समिति के दल में शाजापुर, सीहोर, बैतूल, नागपुर व आंध्रप्रदेश के करनूर से 30 सदस्य शामिल होगें। बैतूल से यह दल 10 अगस्त को सुबह जलपाईगुडी पहुंचेगा यहां से दोपहर तक गंगटोक पहुंचेगा। जो आईटीबीपी के जवानों की कलाई पर तिरंगा राखी सजायेगा। देश की सीमा पर तैनात इन सैनिकों के लिए शिक्षिका सीमा परमार के मार्गदर्शन में छात्राओं ने भी उत्साह के साथ तिरंगा राखी का बनाई है। गौरतलब है कि राष्ट्रीय मिशन के दल में शामिल सीमा परमार को समाज सेवा के लिए वर्ष 2004-05 में नेहरू युवा केंद्र सिहोर द्वारा जिला युवा पुरूस्कार से सम्मानित किया गया वहीं शिक्षिका होने के साथ-साथ कबड्डी की खिलाडी व एनएसएस की सक्रिय स्वंयसेवक भी रही है। सीमा परमार के चयन पर जिला पंचायत सदस्य नवीन शिन्दे, जनपद अध्यक्ष सरिता भोजराज पवांर सहित जनप्रतिनिधि एवं शिक्षाविदो ने हर्ष व्यक्त कर बधाई दी है।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close