- आज सुबह नौ बजे इंदौर के लिए रवाना होंगी

शाजापुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

इंदौर से मक्सी के बीच दौड़ने वाली इंदौर-मक्सी पैसेंजर ट्रेन शुक्रवार को पहली बार शाजापुर रेलवे स्टेशन तक दौड़ी। इस ट्रेन को दो दिन के लिए ट्रायल के रूप में शाजापुर तक दौड़ाया गया। हालांकि , पहले दिन ट्रायल की जानकारी लोगों को नहीं थी। इस कारण सवारियां नहीं बैठीं लेकि न शनिवार को ट्रायल के दूसरे दिन लोगों को अधिक से अधिक टिकट लेकर यात्रा करना पड़ेगी, क्योंकि इस ट्रायल से ही ट्रेन के स्टॉपेज की राह आसान होगी। इधर, ट्रेन के स्टॉपेज पर श्रेय की राजनीति भी शुरू हो गई है। सोशल मीडिया पर भाजपा के ही दो धड़े एक-दूसरे को श्रेय देने में जुटे रहे।

उक्त पैसेंजर ट्रेन मक्सी से इंदौर के बीच ही दौड़ती थी, जिसके शाजापुर तक दौड़ाने की मांग लंबे समय से हो रही थी। आखिरकार शुक्रवार को उक्त ट्रेन पहली बार शाजापुर तक आई। इसकी खबर सिर्फ रेलवे प्रबंधन को ही थी। यात्रियों को जानकारी नहीं होने से ट्रेन में सवारियां नहीं बैठी। जानकारी अनुसार शनिवार को ट्रेन के शाजापुर आने का दूसरा ट्रायल होगा। मक्सी से 8.30 बजे ट्रेन शाजापुर आएगी और लगभग नौ बजे शाजापुर से इंदौर के लिए रवाना हो जाएगी।

तीन घंटे में पहुंच सकें गे इंदौर

उक्त पैसेंजर ट्रेन के शाजापुर तक आने के बाद यहां के व्यापारी व आमजन दोपहर 12.30 बजे तक इंदौर पहुंच सकें गे। प्रारंभिक शेड्यूल के अनुसार सुबह नौ बजे ट्रेन शाजापुर से रवाना होकर सुबह 10 बजे तक मक्सी पहुुंचेगी, फिर दोपहर 12.30 बजे इंदौर पहुंच जाएगी। शाम के समय यह ट्रेन इंदौर से आएगी। ऐसे में इंदौर आने-जाने के लिए यात्रियों को नियमित रूप से दो ट्रेनें मिल जाएंगी। इंदौर-कोटा इंटरसिटी ट्रेन इंदौर तक चलती है। शेड्यूल में फे रबदल संभावित है।

श्रेय लेने की होड़ मची

जैसे ही ट्रेन के शाजापुर तक आने की खबर आई भाजपा के दो धड़ों में श्रेय लेने की होड़ मच गई। एक धड़ा कें द्रीय मंत्री थावरचंद गेहलोत तो दूसरा मौजूदा व पूर्व सांसद की पहल की वजह से ट्रेन के स्टॉपेज की बात कहने लगा। पूर्व विधायक अरुण भीमावद ने नगर के एक प्रतिनिधिमंडल के साथ दिल्ली में रेल मंत्री से मुलाकात भी की थी।

बॉक्स लगाएं...

टिकट लेंगे तो स्टॉपेज बढ़ेगा

जानकारी अनुसार ट्रेन को ट्रायल के रूप में दो दिन के लिए चलाया गया है। पहले दिन जानकारी नहीं होने से टिकट नहीं बिके । ऐसे में अब शनिवार को अधिक से अधिक टिकट की बिक्री होना जरुरी है। तभी स्थायी स्टॉपेज हो सकता है। ऐसे में आमजनों को भी चाहिए कि वे अधिक से अधिक संख्या में ट्रेन से यात्रा करें।