शाजापुर(नईदुनिया प्रतिनिधि)। रबी सीजन के दौर में किसान व्यस्त हैं, कहीं बुवाई तो कहीं सिंचाई का दौर चल रहा है। कई किसान यूरिया की व्यवस्था में लगे हुए हैं। सहकारी संस्थाओं एवं निजी प्रतिष्ठानों पर किसानों का तांता सा लगा रहता है। राहत की बात यह है कि बीते दो दिनों में ही दो रैक यूरिया की स्टेशन पर लग चुकी है, इसमें से 3300 मीट्रिक टन के लगभग यूरिया शाजापुर व आगर जिले को आवंटन दिया गया है।

जिले में इस वर्ष दो लाख 52 हजार हेक्टेयर में रबी फसलों की बुवाई का कार्य होना है। इसमें से रबी सीजन के दौरान गेहूं एक लाख 85 हजार हेक्टेयर एवं दलहन 67000 हेक्टेयर क्षेत्र मे बोवनी होने की संभावना है। सरसों व चना आदि की बुवाई पूर्ण हो चुकी है जबकि गेहूं की बुवाई का कार्य अंतिम दौर में चल रहा है। जिन किसानों के स्वयं के कुएं, बावड़ी है वह उन स्रोतों से सिंचाई कर रहे हैं तो दूसरी तरफ कमांड क्षेत्र के किसानों को डैम, तालाब से सिंचाई के लिए पानी मिल रहा है। मौसम भी बुवाई व फसलों की बढ़वार के मान से अनुकूल चल रहा है। जिले में विगत डेढ दो माह से किसान यूरिया आदि उर्वरक लेने लगातार पहुंच रहे हैं। यूरिया की डिमांड भी लगातार बनी हुई है। सोसायटियों एवं निजी संस्थाओं से इसका वितरण भी किया जा रहा है।

लगातार हो रही मॉनीटरिंग

शाजापुर रेलवे स्टेशन के रैक पाइंट पर गुरुवार को यूरिया से लदी एक रैक आई। जानकारी के अनुसार इस रैक से करीब 1500 मीट्रिक टन यूरिया मिला है। प्राप्त खाद में से 780 मीट्रिक टन यूरिया शाजापुर को तथा 770 मीट्रिक टन आगर मालवा को दिया गया है। वहीं एक दिन पहले बुधवार को आई रैक से शाजापुर को एक हजार मीट्रिक टन तथा आगर को 800 मीट्रिक टन यूरिया मिला है। जिला विपणन अधिकारी प्रवीण रघुवंशी ने बताया कि कलेक्टर दिनेश जैन के प्रयासों के नतीजतन जिले को लगातार रैक मिल रही है। रबी सीजन में किसानों को खाद का केंद्रों से नियमानुसार वितरण हो रहा है। खाद की स्थिति को लेकर उच्च अधिकारियों द्वारा लगातार मानीटरिंग भी की जा रही है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local