नलखेड़ा। तहसील के ग्राम रूपारेल के कुछ ग्रामीणजनों द्वारा पंचायत चुनाव में मतदान नहीं करने व चुनाव का बहिष्कार करने का फैसला किया है। ग्रामीणों का कहना है कि रोड नहीं तो वोट नहीं। इस संबंध में ग्रामीणों द्वारा कलेक्टर को एक आवेदन देकर चुनाव बहिष्कार की सूचना दी गई।

सोमवार को मतदान सामग्री वितरण केंद्र का निरीक्षण करने आए जिला कलेक्टर अवधेश शर्मा को ग्राम रूपारेल के ग्रामीणों द्वारा दिए गए आवेदन में बताया कि ग्राम रूपारेल पीलिया खाल बांध परियोजना के तहत डूब प्रभावित ग्राम रहा है। जिसको विस्थापित कर 2012-13 में अन्यत्र स्थान पर बसाया गया था। जिसमें सिंचाई विभाग सुसनेर द्वारा विस्थापन ग्राम रूपारेल से सुईगांव तक सड़क बनाना तय किया गया था किंतु विस्थापन के 10 वर्षों बाद भी ग्राम रूपारेल से सुईगांव मुख्य सड़क तक सड़क का निर्माण नहीं किया गया। ग्रामीणों ने बताया कि ग्राम वासियों को बारिश के दिनों में काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। बारिश के दिनों में अधिक पानी गिरने से ग्राम सुईगांव एवं रूपारेल का संपर्क टूट जाता है। सभी ग्रामवासी 10 वर्षों से सड़क निर्माण की मांग कर रहे हैं किंतु आज तक सड़क का निर्माण नहीं हुआ है। इस कारण मजबूरन हमें त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव का बहिष्कार करना पड़ रहा है।

ग्रामीणों ने कलेक्टर से शीघ्र सड़क निर्माण करने की मांग की। उल्लेखनीय है 2012 में पीलिया खाल बांध परियोजना के निर्माण के चलते पुराने ग्राम रूपारेल डूब में आने के चलते ग्राम रूपारेल के ग्रामीणों को नए स्थान पर विस्थापित किया गया था। जिसकी कुल जनसंख्या 500 के लगभग है जिस स्थान पर रूपारेल बसाया गया है उस गांव से ग्राम सुईगांव की दूरी साढे तीन किलोमीटर है।

यह रास्ता पूरी तरह से कच्चा है। जिस पर आने में ग्रामीणों को काफी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। ग्रामीणों ने बताया कि 2018 के विधानसभा चुनाव में भी चुनाव के बहिष्कार का फैसला किया गया था। लेकिन तत्कालीन जिला पंचायत के सीईओ एवं अन्य अधिकारियों द्वारा मतदान के दिन ही जेसीबी डंपर एवं रोलर खड़ा कर सड़क निर्माण कार्य की शुरुआत की गई थी। उसके बाद ग्रामीणों द्वारा मतदान कर दिया गया था। लेकिन मतदान के बाद ही अधूरी सड़क निर्माण किए डंपर रोलर और जेसीबी वापस चले गए थे। ग्रामीणों ने बताया कि ग्राम पंचायत लालूखेड़ी के तहत आने वाले ग्राम रूपारेल में ग्राम पंचायत के चार वार्ड हैं उक्त वार्डों में किसी भी ग्रामीणों द्वारा पंच का नामांकन नहीं जमा किया है। ग्रामीणों द्वारा जब तक सड़क नहीं बनती तब तक चुनाव का बहिष्कार किया जाएगा।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close