अकोदिया। नवरात्र पर्व जहां 15 से अधिक स्थानों पर विराजित देवी की मूर्तियों की विधि विधान से लोगों ने पूजाकी, वहीं जाटपुरा स्थित शीतला माता मंदिर पर कन्या भोज किया गया।

जिसमें देवी स्वरूप कन्याओं के पैरों को धुला कर आदर के साथ खीर-पूरी व छोले की सब्जी का भोजन करवा कर भेंट देकर विदा किया गया, वहीं दुर्गा के पंडालों में अनेकों जगह हवन के कार्यक्रम हुए। रात में प्रतिमाओं का विसर्जन

किया गया। नवमीं के दिन घर-घर देवीजी की पूजा की गई।

इसी तरह अष्टमी के दिन भी लोगों ने कुल देवी की विधिवत पूजा की। नवमीं के मौके पर कई धार्मिक आयोजन हुए। वहीं कुमार मोहल्ला, जाटपुरा सहित आधा दर्जन से अधिक स्थानों पर से मां के जवारे का चल समारोह निकाला गया। चल समारोह में छोटी-छोटी कन्याएं,महिलाएं माता रानी के जवारे के घट,खप्पर अपने सिर पर रख कर चल रहीं थी।

चल समारोह जाटपुरे से प्रारंभ होकर वेयरहा उसस रोड़,हनुमान मंदिर, टप्पा चौराहा,सब्जी बाजार,

बसस्टैंड होते हुए अकोदिया ग्राम तालाब स्थित घाट पर पंहुचा। होम-धूप आरती के पश्चात जवारे का विसर्जन किया गया व प्रसादी वितरित की गई। इस अवसर पर राजेश पंडाजी,नरेन्द्र पंडाजी,पवन प्रजापति, विकास प्रजापति,दीपक प्रजापति,जगदीश चिढार,शुभम चिढ़ार, विष्णु प्रजापति,गजराजसिंह चिढार,प्रशान्त प्रजापति,अशोक तोमर,देवकी नंदन राठौर सहित श्रद्धालु उपस्थित थे।

नवरात्र में तेजाजी की कथा

कालीसिंध। समीपस्थ ग्राम देवलाबिहार के ब्लॉक में स्थित माँ दुर्गा के दरबार में नवरात्री की धूम के चलते 12 अक्टूबर को रात्रि में श्री महाकाल तेजा मंडल के कलाकारों ने तेजाजी की कथा का रंगमंचीय आयोजन किया। जिसमें ग्राम के धर्मावलंबियों, स्थानीय समिति ,अम्बेडकर ग्रुप के सदस्यों ने कलाकारों का पुष्पमाला पहनाकर सम्मान किया। आयोजन में देवलाबिहार सहित आसपास के समाजजनों ने भाग लिया, इस अवसर पर ग्राम के पूर्व सरपंच विजयपाल सिंह डोडिया ने तेजा जी की तस्वीर का पूजन किया।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local