श्योपुर। प्रभारी मंत्री लाखन सिंह यादव के भतीजे संजय यादव और विजयपुर जनपद सीईओ जोशुआ पीटर का विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा। जनपद सीईओ के समर्थन और प्रभारी मंत्री के भतीजे व एक अन्य आरोपित की गिरफ्तारी की मांग लेकर शुक्रवार को भी जनपदों में हड़ताल रही। उधर कांग्रेस पार्टी और कई पंचायतों के सरपंच प्रभारी मंत्री के भतीजे के समर्थन में उतर आए हैं।

शुक्रवार को विजयपुर जनपद के कई सरपंचों ने कांग्रेस नेताओं के साथ मिलकर एसपी नगेन्द्र सिंह को ज्ञापन सौंपकर कहा कि विजयपुर जनपद से मनरेगा मजदूरों का 10-10 महीने पुराना भुगतान नहीं हो रहा। मजदूर परेशान हैं।

सरकार की योजनाओं को संचालित करने और हितग्राहियों को लाभ दिलाने के लिए संजय सिंह यादव ने जनपद सीईओ को फोन लगाया, लेकिन सीईओ ने खुद ही उकसाने वाली बातें कीं और फिर थाने में शिकायत कर एफआईआर करवा दी। कांग्रेस नेताओं ने विजयपुर पुलिस को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि एक जनप्रतिनिधि के खिलाफ बिना किसी जांच के एफआईआर कर ली, जो सरासर गलत है।

कांग्रेस नेताओं ने कहा कि तीनों ऑडियो में संजय सिंह ने कोई गाली नहीं दी। गालियां तो अंकित मुदगल दे रहा था। उस पर कायमी होती तो समझ में आता। कांग्रेस नेताओं ने एफआईआर को खारिज करने की मांग एसपी से की है।

जोशुआ पीटर की शिकायत को गलत बताते हुए जिला कांग्रेस अध्यक्ष ब्रजराज सिंह चौहान ने इस प्रकरण की जांच की मांग की है। संजय सिंह पर हुई एफआईआर के विरोध में जिला कांग्रेस कमेटी ने एक आवश्यक बैठक शनिवार दोपहर 12 बजे श्रीराम धर्मशाला में बुलाई है। बैठक में पार्टी के सभी जनप्रतिनिधियों, मोर्चा संगठनों, विभागों, कार्यकर्ताओ से अधिक से अधिक संख्या में उपस्थित होने की अपील की है।

Posted By: Hemant Upadhyay