श्योपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

पार्षद पद लोकतंत्र की प्राथमिक पाठशाला है। उन्होने नवनिर्वाचित अध्यक्ष, उपाध्यक्ष एवं पार्षदों तथा अन्य निकायो के उपस्थित पदाधिकारियों से कहा कि कि जो भी चुनाव जीते है, वे अपनी क्षमता से नही बल्कि जनता के आर्शिवाद से निर्वाचित हुए है, इसलिए जनता के बीच ही रहें, पाच साल तक सर झुकाकर जनता के काम करें, तो अगली बार भी आपको का जनता का आर्शिवाद मिलेगा। उन्होंने कहा कि, मुझे राजनीति करते इतनी उम्र हो गई अब मुझे स्वागत सत्कार से कोई फर्क नहीं पड़ता। जो उर्जा आप मेरे स्वागत में लगा रहे हैं उस उर्जा को जनता के काम में लगाए। यह उद्बोधन केंद्रीय मंत्री एवं क्षेत्रीय सांसद नरेंद्र सिंह तोमर ने गांधी पार्क पर नगरपालिका श्योपुर आयोजित किए गए सम्मान कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कही। कार्यक्रम में नवनिर्वाचित अध्यक्ष रेणु राठौर ने, बड़ौदा, विजयपुर के अध्यक्ष, उपाध्यक्ष एवं पार्षदगणों ने माला पहनाकर स्वागत किया। साथ ही केंद्रीय मंत्री को स्मृति चिन्ह भेंट किया।

समारोह को संबोंधित करते हुए केंद्रीय मंत्री तोमर ने कहा कि, वे स्वयं भी 1983 में पार्षद रहे हैं, और आज केंद्रीय मंत्री तक बनने का अवसर पार्टी ने दिया है। इसलिए सभी नव निर्वाचित जनप्रतिनिधि जनता के बीच रहकर उनकी समस्याओं के निदान के लिए काम करें तो आप भी मंत्री बन सकते हैं। उन्होने कहा कि जनता ने जो अवसर दिया है अपने व्यक्तित्व और कृतित्व से अपने आप को प्रमाणित करें यही सफलता और सार्थकता है। उन्होने कहा कि, नगरीय निकाय एवं पंचायतीराज संस्थाओं में आपको चुनकर लोगों ने जो भरोसा जताया है, उस पर खरा उतरने का प्रयास करते हुए क्षेत्र की जनता की प्रगति के लिए कोई कसर न छोडें। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भारत के पुर्ननिर्माण के अपनी संपूर्ण उर्जा के साथ कार्य कर रहे है। उनके नेतृत्व में देश गौरवशाली मार्ग पर आगे बढ़ रहा है। भारत की अर्थव्यवस्था आज विश्व में तेजी के साथ बढ़ने वाली अर्थव्यवस्था है। जब हम आजादी का 100वां साल मना रहे होगे, तब हम विश्व में सबसे सर्वश्रेष्ठ राष्ट्र होंगे। इसी दिशा में पीएम मोदी के द्वारा काम किया जा रहा है। आज आजादी के अमृत महोत्सव में हर घर तिरंगा अभियान के तहत सभी नागरिकों को अपने घरों, प्रतिष्ठानों में तिरंगा झंडा लगाने की प्रेरणा उन्ही के नेतृत्व से मिली है। केंद्रीय मंत्री तोमर ने इस अवसर पर अपनी श्योपुर से जुड़ी यादों को साझा करते हुए पुराने संसमरण सुनाएं और कहा कि वे श्योपुर के लोगों की हर खुशी और दुख में सदैव उनके साथ खड़े हैं। उन्होने कहा कि पिछले 10 वर्षो में श्योपुर का चहुमुखी विकास हुआ है, काफी उन्नाती हुई है। आगे भी जो आवश्यकता होगी उसे पूरा करने के लिए मैं दृढ संकल्पित हूं। उन्होने सभी नव निर्वाचित जनप्रतिनिधियों से जनता की सेवा करने की अपेक्षा के साथ ही आज की अभूतपूर्व तिरंगा रैली के लिए श्योपुर के नागरिकों के प्रति धन्यवाद ज्ञापित किया।

नवनिर्वाचित अध्यक्ष रेणु राठौर ने कहा कि, केंद्रीय मंत्री ने श्योपुर को कई सौगात दी है। उनके प्रयासों से श्योपुर में ट्रांसफार्मरों का जाल बिछाया गया है। श्योपुर, बड़ौदा की जनता की प्यास बुझाने के लिए करोड़ों रुपये की जलार्वधन योजना स्वीकृत की है। श्योपुर पर जब-जब विपत्ति आई है तब आप श्योपुर की जानता के साथ खड़े रहे हैं। भाजपा जिला अध्यक्ष सुरेन्द्र जाट ने केंद्रीय कृषि मंत्री विकासात्मक कार्यो का उल्लेख करते हुए कहा कि, जिले का चहुमुखी विकास हो रहा है। इसके पूर्व नव निर्वाचत अध्यक्ष रेणु सुजीत गर्ग द्वारा स्वागत भाषण देते हुए शहर के विकास में केंद्रीय मंत्री के योगदान को परिलक्षित किया, साथ ही केंद्रीय मंत्री तोमर को भेंट किए गए। अभिनन्दन पत्र का वाचन किया गया। उन्होने इस अवसर पर केंद्रीय मंत्री को स्मृति चिन्ह भी भेंट किया। कार्यक्रम के अंत में नगरपालिका श्योपुर के उपाध्यक्ष संजय महाना द्वारा आभार प्रदर्शन किया गया। कार्यक्रम का संचालन आदित्य चौहान ने किया।

बॉक्स

नीमच की जगह श्योपुर चुना

केन्द्रीय मंत्री तोमर ने बताया कि हर घर तिरंगा अभियान को सफल बनाने के उद्देश्य से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी सभी केन्द्रीय मंत्रियों की ड्यूटी अलग-अलग जिलों में लगाई हैं। जिन जिलों में मंत्रियों की ड्यूटी उन जिलों में लगाई गई, जहां ऐतिहासिक किले मौजूद हैं। मेरी ड्यूटी नीमच में लगाई गई थी। मुझे अपने संसदीय क्षेत्र श्योपुर की जनता से मिलना था, इसलिए मैंने पीएम से अनुरोध कर अपने ड्यूटी श्योपुर लगवाई और कहा कि वहां भी गौड़ राजाओं द्वारा निर्मित ऐतिहासिक किला हैं। हालांकि, मैं अपने गृहक्षेत्र ग्वालियर में भी अपनी ड्यूटी लगवा सकता था, जहां पर मानसिंह तोमर का ऐतिहासिक किला हैं, लेकिन मुझे यहां आपका प्यार ही खींचकर लाया है।

बॉक्स

जिसकी जनता से दूरी, वह मेरे लिए नहीं जरूरी

केन्द्रीय मंत्री तोमर ने बाढ़ के दौरान अपने संस्मरण सुनाते हुए कहा कि, जैसे ही मुझे बाढ़ आने की सूचना मिली, मैंने हर संभव मदद पहुंचाने का प्रयास किया। संचार साधन और सड़क मार्ग संपर्क टूट जाने से तत्काल राहत पहुंचाना संभव नहीं हो सकी। मैंने श्योपुर पहुंचने के लिए योजना बनाई तो केन्द्रीय मंत्री प्रोटोकॉल के तहत मुझे श्योपुर आने से रोका गया। बाद में मैंने अधिकारियों को फोन लगाकर हालात का जायजा लिया। अधिकारियों ने बताया कि हालात ठीक नहीं है। जब मैंने अधिकारियों से कहा कि आपके आसपास कौन लोग है, तो उन्होंने कहा कि हमारे आसपास कोई नहीं है। हम लोगों से दूरी बनाए हुए है। मैंने तत्काल कहा कि जो लोग जनता से दूरी बनाकर चलेंगे उनकी जरूरत मुझे भी नहीं हैं। मुझे कार्यकर्ताओं ने बताया कि लोगों में रोष है। आप श्योपुर न जाए, लेकिन मैंने कहा कि मेरे जीतने पर जो लोग मेरे ऊपर पुष्पवर्षा कर मुझे प्यार देते हैं, अगर वह नाराज हैं तो मुझे उनके पत्थर खाने का भी अधिकार है। मैं आया और मुख्यमंत्री को भी साथ लाया। जितना संभव हो सका पुर्नवास और पुर्ननिर्माण का काम किया गया।

बॉक्स

हमने जिले से कर दिया कांग्रेस का सूपड़ा साफ

नगरपालिका नागरिक अभिनंदन के दौरान केन्द्रीय मंत्री तोमर ने भाजपा का इतिहास और विकास बताते हुए कहा कि विकास के मामले में तोला जाए तो उनका 60 साल, हमारे 10 साल से कम पड़ जाएंगे। उन्होंने कहा कि, विकास के बूते ही आज भारतीय जनता पार्टी पूरे देश में सत्तासीन है। त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में जिस तरह जिला पंचायत अध्यक्ष, जनपद अध्यक्ष, सरपंच और नगर निकाय चुनाव में तीनों नगरीय संस्थाओं में जिस तरह भाजपा ने एक तरफा जीत हांसिल की उससे हमने जिले को कांग्रेस मुक्त कर दिया है। बाकी बचो को भी जनता अपने घर का रास्ता दिखा देगी।

बॉक्सः

नदारद रहे कांग्रेसी

किला परिसर और नगरपालिका सभागार में आयोजित हुई कार्यक्रमों से कांग्रेसियों की दूरी चर्चा का विषय बनी रही। दरअसल, नवनिर्वाचित अध्यक्ष के कार्यभार ग्रहण के दौरान जिस तरह कांग्रेसी पार्षदों ने उपेक्षा का आरोप लगाते हुए कार्यक्रम का बहिष्कार किया था, उसका असर इस कार्यक्रम पर भी देखने को मिला। आयोजकों की ओर से विधायक बाबू जंडेल, सभी कांग्रेसी पार्षद और कुछ कांग्रेस नेताओं को भी आमंत्रण पत्र भेजे थे, लेकिन वह सभी कार्यक्रम स्थल से नदारद रहे। विधायक बाबू जंडेल का तो कई बार मंच पर आसीन होने के लिए नाम भी पुकारा गया।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close