श्योपुर(नईदुनिया प्रतिनिधि) बारिश शुरू हो गई है। इसी के साथ मौसमी बीमारी मलेरिया, डेंगू और चिकुनगुनिया सहित अन्य बीमारियां तेजी से फैलेंगी। नियंत्रण के लिए टीम बनाकर सर्वे कराएं। मकान मालिकों को बताएं कि घर के आसपास गंदा पानी जमा नहीं होने दें। एक बार समझाइश के बाद फिर से वही स्थिति मिलती है तो उन पर पांच सौ रुपये का ऑन द स्पॉट जुर्माना लगाएंगे। यह निर्देश एसडीएम रूपेश उपाध्याय ने नगरीय निकाय श्योपुर, बड़ौदा और विजयपुर के सीएमओ को दिए हैं।

एसडीएम ने आदेश में लिखा है, कि मलेरिया डेंगू व चिकुनगुनिया के प्रकरण सामान्यः बरसात से मिलना शुरू हो जाते हैं। जो सर्दी के समय आने तक रहते हैं। इसलिए मलेरिया, डेंगू व चिकुनगुनिया बीमारीयों नियंत्रण की कार्रवाई की जाना आवश्यक है। जिसमें आप सभी की सक्रिय रूप से भागीदारी कर काम करें। मलेरिया, डेंगू व चिकुनगुनिया फैलाने वाले मच्छर घरों में सीमेंट की टंकी, मटके, कूलर, टायर, कुएं, घर के आस-पास एकत्रित पानी, पोखर, गमले में एक सप्ताह से अधिक समय से भरे पानी में पैदा होते हैं। ये मच्छर साफ पानी में अंडे देते हैं। अंडे से लार्वा व मच्छर बनने में 8 से 11 दिन का समय लगता है। इसलिए तीन नगरीय निकायों में मच्छरों की उत्पत्ति रोकने के लिए लार्वा सर्वे दल का गठन कर सात दिन से अधिक समय तक रूके, भरे हुए पानी की निकासी कराएं। पानी की निकासी संभव न हो तो टेमोफॉस दवा का छिड़काव करें। जिससे पानी में मच्छरों का लार्वा नष्ट किया जा सके। नगरीय क्षेत्रों में रहने वाले मकान मालिकों से कहें कि घरों में रखी पानी की टंकी, मटके, कूलर, टायर,गमले में हर सात 7 में बदलें तथा घर के आस-पास पानी एकत्रित न होने दें। किसी भवन के आस-पास पुनः लार्वा मिलता है, तो भवन स्वामी पर 500 रुपये तक जुर्माना किया जाए। यदि भवन स्वामी लार्वा विनिष्टीकरण में अवरोध करता है, तो उस पर 500 रुपये का जुर्माना लगाया जाए।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local