श्योपुर। नईदुनिया न्यूज

समर्थन मूल्य पर रबी फसल की खरीदी के लिए किसानों के पंजीयन किए जा रहे हैं। ई-उपार्जन पोर्टल पर अंतिम तिथि तक जिले भर में 38400 किसानों ने पंजीयन कराया है। जिले में 38 केंद्रों पर पंजीयन का काम किया गया, लेकिन पोर्टल धीमि गति से चलने के कारण अंतिम ितथि तक कई किसान पंजीयन कराने से वंचित रह गए।

गौरतलब है कि, समर्थन मूल्य पर सरकार को वही किसान गेहूं, चना, सरसों की फसल बेच सकते हैं। जिनका पंजीयन होता है। इस बार पंजीयन का काम फरवरी से शुरू हुआ, जिसकी अंतिम तारीख 20 फरवरी रखी गई थी, लेकिन अंतिम तारीख तक पर्याप्त मात्रा में पंजीयन नहीं होने के कारण पंजीयन की अंतिम तिथि 5 दिन आगे बढ़ाकर 5 फरवरी कर दी गई है। आपूर्ति विभाग के रिकार्ड अनुसार जिलेभर के सभी पंजीयन केंद्रों पर गुरुवार की शाम तक 38 हजार 400 किसानों के पंजीयन हो चुके हैं, जबकि पिछले साल गेंहू का पंजीयन कराने वाले किसानों की संख्या 23 हजार 150 से ज्यादा थी। वहीं इस बार 24 हजार 500 किसानों ने पंजीयन कराया है। इस तरह इस साल 1350 अधिक किसानों ने गेहूं का पंजीयन कराया है। किसानों ने अपनी रबी फसल चना, मसूर, सरसों, गेहूं का पंजीयन जिले में निर्धारित 38 केंद्रों और अन्य सुविधाओं के माध्यम से करा गया। पंजीयन कार्य सुबह 9 बजे से शाम 7 बजे तक किया गया।

पंजीयन कराने वंचित रह गए सैकड़ों किसान :

इस बार सहकारिता कर्मचारियों की हड़ताल के चलते पहले आठ दिन तक पंजीयन कार्य बंद रहा। इसके बाद फिर पंजीयन का काम चालू हुआ तो पोर्टल धीमी गति से चलने के कारण अंतिम तिथि तक कई किसान पंजीयन कराने वंचित रह गए। जिले में किसानों को रबी फसलों का पंजीयन कराने के लिए 38 पंजीयन केंद्र खोले गए थे। जिसमें लोक सेवा केन्द्र श्योपुर, कराहल, बड़ौदा, वीरपुर, विजयपुर केंद्रों पर किसानों के लिए पंजीयन कराने की सुविधा कराई गई है। लेकिन फिर भी कई किसान पंजीयन कराने से वचिंत रह गए हैं। पंजीयन कराने से वंचित रहे किसानों ने समर्थन मूल्य पर रबी फसल की तिथि बढ़ाए जाने की मांग की है। किसानों के दोबारा कराने पड़ रहे पंजीयन :

समर्थन मूल्य पर रबी फसल के लिए लोक सेवा केंद्र एवं कृषि मंडी को भी पंजीयन केंद्र बनाया गया था। जिन किसानों ने पंजीयन कराने के लिए लोक सेवा केंद्र पर फार्म जमा किए थे, उन किसानों के पंजीयन करने के बजाए केंद्र संचालक द्वारा रद्दी में पटक दिया गया, जिस कारण लोक सेवा केंद्र पर आवेदन करने वाले एक भी किसान का पंजीयन नहीं हुआ। जिस कारण उन किसानों फिर से सोसायटी पर जाकर पंजीयन कराने पड़े। पंजीयन कराने के लिए किसानों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा।

फैक्ट फाइल :

- जिले में हुए कुल पंजीयन- 38400

- गेहूं की फसल के लिए पंजीयन- 24500

- चना की फसल के लिए पंजीयन- 11400

- सरसों की फसल के लिए पंजीयन- 2500

वर्जन:

जिले में रबी फसलों के पंजीयन कराने के लिए 38 केंद्र खोले गए थे। जिसमें लोक सेवा केन्द्र श्योपुर, कराहल, बडौदा, वीरपुर, विजयपुर केंद्रों पर किसानों के लिए सुविधा उपलब्ध कराई गई थी। अभी तिथि बढ़ने को लेकर हमारे पास कोई आदेश नहीं आए हैं।

लवली गोयल, कनिष्ठ आपूर्ति अधिकारी, श्योपुर

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags