Sheopur News: श्योपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। सात दिन पहले हथियारबंद बदमाशों द्वारा किए गए चरवाहों के अपहरण के बाद पुलिस उन्हें छुड़ाने के लिए एड़ीचोटी का जोर लगा रही थी, लेकिन पुलिस बदमाशों तक नहीं पहुंच पाई। इस बीच शनिवार को तीन चरवाहे बदमाशों के चंगुल से छूटकर घर लौट आए हैं।

छूटकर आए तीनों ग्रामीणों का कहना है कि वे बदमाशों को चकमा देकर भागकर आ गए हैं। जबकि पुलिस का कहना है कि बदमाश पुलिस दबाव के चलते तीनों अपहृतों को छोड़कर भाग निकले हैं। बदमाशों ने तीनों ग्रामीणों की जमकर मारपीट की गई।

मारपीट से एक ग्रामीण रामस्वरूप के पैरों में काफी चोट आई है। जिस कारण उसे विजयपुर अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया है। लेकिन अपहरण करने वाले बदमाश अभी तक पुलिस की पकड़ में नहीं आ सके हैं।

जानकारी के अनुसार बीते शनिवार की रात को धनखड की खिरकाई से आठ बंदूक धारी बदमाशों ने सात ग्रामीणों को बंधक बनाकर लिया था। इसके बाद चार ग्रामीणों को कुछ दूर पैदल ले जाने के बाद मारपीट कर छोड़ दिया, लेकिन भरतू बघेले और गुड्डा बघेले निवासी गुंजनपुरा और रामस्वरूप यादव निवासी भूरापुरा पचनया को अगवा कर अपने साथ ले गए थे। जिसके बाद पुलिस उनकी तलाश के लिए लगातार जंगल सर्चिंग कर रही है। लेकिन अभी तक बदमाशों का कोई सुराग नहीं मिला है।

बदमाशों की चंगुल से छूटकर आए अपहृतों ने बताई कहानी

बदमाशों की चंगुल से छूटकर आए तीनों अपहृतों ने जो कहानी बताई है, उसके मुताबिक बदमाश उन्हें दूसरे ही दिन चंबल नदी को नाव से पार कराकर राजस्थान ले गए। बदमाशों ने उनके साथ खूब मारपीट की, वे उन्हें रात को पैर बांधकर रखते थे। शुक्रवार-शनिवार की रात को वे बदमाशों को चकमा देकर वहां से भाग निकले और वाहनों के जरिए विजयपुर पहुंच गए।

ग्रामीणों में फिरौती देकर छूटने की भी चर्चा

स्थानीय लोगों में ये भी चर्चा है कि अपहृतों के स्वजनों ने बदमाशों को फिरोती देकर छुड़ाया है। सूत्रों का कहना है कि शनिवार की दोपहर एक चार पहिया वाहन बस स्टैंड पर पहुंचा जिसमें तीनों अपहृतों को उतारा गया है और अपहृतों को लेने के लिए वहां पहले से उनके स्वजनों मौजूद थे। इसलिए माना जा रहा है कि स्वजनों ने फिरोती देकर ही चरवाहों को छुड़ाया है। लेकिन अपहृतों के स्वजन फिरोती देने की बात से इंकार कर रहे हैं।

विजपुर पुलिस ने पकड़े दो हथियार बंद बदमाश

जंगल में मवेशी चराने वाले चरवाहों का अपहरण करने व उन्हें डरा धमका कर चंदा वसूली करने वाले गिरोह के दो हथियार बंद बदमाशों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। इस मामले का खुलासा विजयपुर एसडीओपी निर्भय सिंह अलावा ने थाने पर आयोजित प्रेसवार्ता में किया।

एसडीओपी निर्भय सिंह अलावा ने बताया कि, देशराज गुर्जर निवासी गोलाई राजस्थान, बृजमोहन गुर्जर निवासी भुजपेरिया अपने साथी मोहनराज मीणा, रामदास गुर्जर और जशरथ गुर्जर के साथ जिले के जंगल में पशुपालकों को डरा धमका कर उनसे चंदा वसूल रहे थे।

इस गैंग के सदस्यों ने सात जनवरी को जंगल में फायरिंग कर दहशत फैलाई थी। तभी से पुलिस इनकी तलाश में थी। शनिवार को जब पुलिस ने तीन चरवाहों का अपहरण करने बदमाशों की जंगल में तलाश कर रही थी, तभी सर्चिंग के दौरान देशराज गुर्जर और बृजमोहन गुर्जर को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

बाकी गैंग के सदस्य अभी फरार हैं, जिनकी तलाश की जा रही है। पकड़े गए दोनों आरोपियों से दो बंदूकें बरामद हुई है। पुलिस इन बदमाशों से अपहृत चरवाहों के बारे में भी पूछताछ कर रही है।

तीनों अपहृतों के साथ बदमाशों की लोकेशन धोलपुर जिले के कुशालीपुरा क्षेत्र में मिली। जिसके बाद वहां राजस्थान की पुलिस के साथ दबिश दी गई।

इनका कहना है

पुलिस के दबाव में बदमाश तीनों अपहृतों को छोड़कर भाग गए। बदमाशों के जाने के बाद तीनों अपहृत भी वहां से भागकर यहां आ गए। पुलिस बदमाशों की तलाश कर रही है, जिन्हें शीघ्र गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

आलोक कुमार सिंह, एसपी, श्योपुर

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close