श्योपुर। नसबंदी शिविरों में लापरवाही थमने का नाम नहीं ले रहीं। शनिवार को जिला अस्पताल में लगे मेगा नसबंदी शिविर में नसबंदी कराने आईं 120 से ज्यादा महिलाओं को ऑपरेशन के लिए 9 घंटे से ज्यादा समय तक बैठाया गया। कई महिलाएं तो इंतजार कर-करके देर शाम वापस घर लौट गईं। सुबह 10 बजे बुलाकर बैठाई गई महिलाओं की नसबंदी रात 7ः30 बजे से शुरू हुए जबकि, स्वास्थ्य विभाग ने शाम 5 बजे के बाद नसबंदी ऑपरेशन पर प्रतिबंध लगा रखा है। क्योंकि, रात में नसबंदी खतरनाक साबित हो सकता है। गौरतलब है कि 15 दिन पहले बड़ौदा में लगे नसबंदी शिविर में एक ऑपरेशन के दौरान एक महिला की मौत हो गई थी। इस घटना के बाद भी स्वास्थ्य विभाग ने सबक नहीं लिया है।

सुबह 10 बजे से जिला अस्पताल में नसबंदी कराने आई महिलाओं का मेला लग गया। दोपहर 12 बजे तक 142 महिलाओं की जांचें व पंजीयन नसबंदी के लिए हो चुका था। इनमें से दोपहर 1 बजे तक 22 महिलाओं की नसबंदी कराने के बाद नसबंदी कर रहे डॉ. बीएल यादव और डॉ. जितेन्द्र यादव नसबंदी के लिए बैठी 120 से ज्यादा महिलाओं को बैठा छोड़कर बड़ौदा चले गए। शाम साढ़े 5 बजे दोनों डॉक्टर बड़ौदा से लौटकर आए। तब तक 120 में से कई महिलाएं घर जा चुकी थीं। 100 से ज्यादा महिलाएं नसबंदी के लिए शाम तक बैठी रहीं। रात 7ः30 बजे से जिला अस्पताल में नसबंदी ऑपरेशन शुरू हुए जो खबर लिखे जाने तक देर रात तक चलते रहे।

लापरवाही भी इस दर्जे तक

शनिवार को बड़ौदा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र भी नसबंदी शिविर लगाया गया, वहां भी 30 महिलाओं को नसबंदी के लिए, सुबह 10 बजे बुला लिया। बड़ौदा में भी नसबंदी ऑपरेशन उन्हीें डॉक्टरों को करना था जो श्योपुर शिविर में ऑपरेशन कर रहे थे। दोपहर 1 बजे तक जिला अस्पताल में 22 महिलाओं की नसबंदी करने के बाद डॉक्टरों को बड़ौदा से फोन आया कि, वहां 30 महिलाओं को एनिस्थीसिया के इंजेक्शन लगाए हुए एक घंटे से ज्यादा हो गया। इनका ऑपरेशन होने हैं। इसके बाद जिला अस्पताल से वेटिंग में बैठी 110 से ज्यादा महिलाओं को छोड़कर डॉक्टर आनन-फानन में बड़ौदा पहुंचे वहां शाम 4ः30 बजे तक 30 महिलाओं के ऑपरेशन हुए उसके बाद डॉक्टर वापस श्योपुर आए और 9 घंटे से बैठी महिलाओं के ऑपरेशन शुरू हुए।

-आज मैं कराहल गया था, मुझे जानकारी नहीं कि, रात में नसबंदी के ऑपरेशन हो रही हैं। मैं पता लगाता हूं। उसके बाद ही कुछ बता पाऊंगा। यह सही है कि रात में ऑपरेशन करना ठीक नहीं है।

डॉ. एनसी गुप्ता, सीएमएचओ, श्योपुर

Posted By:

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020