श्योपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

पंचायतकर्मी बेमियादी हड़ताल पर हैं। इससे जनपद एवं ग्राम पंचायतों में कामकाज खासा प्रभावित हो रहा है। हड़ताल के चलते सोमवार को पंचायतकर्मियों द्वारा धरना स्थल पर मटका फोड़ आंदोलन कर विरोध प्रदर्शन किया। मप्र पंचायत व ग्रामीण विकास विभाग के संयुक्त मोर्चा द्वारा 22 जुलाई से अपनी मांगों को लेकर हड़ताल की जा रही है। इस दौरान मनरेगा उपयंत्री, राष्ट्रीय ग्रामीण आजिविका मिशन के अधिकारी कर्मचारी, ग्राम पंचायतों के सचिव, ग्राम रोजगार सहायक धरने पर बैठे हुए हैं। अनिश्चितकालीन हड़ताल चलते जनपद पंचायत की समस्त योजनाएं ठप पड़ गई हैं। संयुक्त मोर्चा की जो मांग है, उनमें ग्रामीण विकास विभाग के अधिकारियों को समयमान वेतनमान लागू किया जाए। गोपनीय प्रतिवेदन को ऑनलाइन किया जाए। प्रोटेक्शन एक्ट लागू करते हुए सुरक्षा गार्ड, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत को उपलब्ध कराया जाए। मनरेगा योजनाओं में कार्यरत संविदा उपयंत्रियों को शीघ्र नियमित किया जाए। मनरेगा योजना मांग आधारित योजना है किन्तु वर्तमान में इसको लक्ष्‌य आधारित योजना में परिर्वतित कर अकल्पनीय लक्ष्‌यों को पूर्ण करने के लिए अनावश्यक दबाव बनाया जाता है। इसलिए इस योजना के मूल स्वरूप अनुसार क्रियान्वयन कराया जाए। मनरेगा सहित ग्रामीण विकास की विभिन्नाा योजनाओं में कार्यरत सहायक यंत्री, कार्यपालन यंत्री अधीक्षण यंत्री व शासन स्तर के अधिकारियो का स्पष्ट रूप से शासन स्तर से जॉब चार्ट निर्धारित किया जाए। गैर तकनीकी कार्यों में अभियंताओं की ड्यूटी नही लगाई जाए। मानवीय कार्य क्षमता के अनुरूप ही काम सौंपे जाए। इस प्रकार की दबावपूर्ण अमानवीय कार्य प्रणाली पर तुरन्त रोक लगाई जाए। मनरेगा संविदा उपयंत्रियों , सहायक यंत्रियों की स्थापना मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत से हटाकर पूर्व की भांति कार्यपालन यंत्री आरईएस के अधीन की जाए व पारिश्रमिक भुगतान के अधिकार भी आरईएस कार्यपाल यंत्री के दिए जाए आदि मांगें प्रमुखता से शामिल हैं। हड़ताल के 12वें दिन पंचायत कर्मियों ने धरना स्थल पर नारेबाजी करते मटका फोड़ कर विरोध जताया। इस दौरान विभिन्ना ग्राम पंचयत के सचिव, रोजगार सहायक, मनरेगा उपयंत्री, राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित रहे।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local