श्योपुर। शहर भर में गुरुवार को गणगौर पर्व मनाया गया। महिलाओं ने पति की लंबी आयु के लिए ईसर-गणगौर माता बनाकर पारंपरिक वेशभूषा में पूजन किया। इस तरह जिले भर पर्व उल्लास के साथ मनाया गया। हालांकि पिछले साल की तरह इस बार भी कोरोना संक्रमण के चलते महिला को कोविड-19 नियमों का पालन करते हुए गणगौर पर्व मनाना पड़ा।

शहर सहित अंचल में चैत्र शुक्ल तृतीया पर गणगौर पर्व पर अखंड सुहाग और इच्छित वर की कामना को लेकर महिला और युवतियों ने गणगौर पूजन किया। गणगौर पूजन के लिए बुधवार को ही महिलाओं ने सारी तैयार कर ली थी। महिलाओं ने बेसन, आटा व मैदा के मीठे गुणे बनाकर और ईसर-पार्वती की मिट्टी से प्रतिमा बनाकर और रंगों से सजाकर एक दिन पहले ही तैयार कर लिया था। महिलाओं ने कोविड- 19 नियमों का पालन करते हुए सामूहिक रूप से पूजन नहीं किया। कई गली, मोहल्लों में मंदिरों पर गणगौर पूजन किया गया, यहां भी बारी-बारी से एक के बाद एक महिला गणगौर पूजन करती नजर आई। शाम को भी महिलाओं ने गणगौर को पानी पिलाने की रस्म निभाई। पानी पिलाने के दौरान महिलाओं ने थोड़ी देर के लिए नाच-गाना नहीं किया। जबकि अन्य वर्ष महिलाएं देर रात गाना- बजाना, नाचने जैस कार्यक्रम करती थीं।

अंचल में भी रही गणगौर पर्व की धूम :

राजस्थानी संस्कृति के रचे-बसे श्योपुर के अलावा ग्रामीण अंचलों में भी गणगौर द्वारा पारंपरिक अंदाज में मनाया गया। सुबह से ही महिलाओं ने सज-धज कर गणगौर पूजन किया। गणगौर पर्व को लेकर महिलाओं में उत्साह देखते बन रहा था। बड़ौदा, मानपुर, विजयपुर, वीरपुर, श्यामपुर, ढोढर, सोंईकलां, कराहल आदि कस्बों और गांवों में महिलाओं द्वारा महिलाओं का प्रिय और पसंदीदा गणगौर पर्व मनाया गया। गावों में कोरोना वायरस का कहीं असर नहीं दिखा। महिलाओं ने एक जगह पर सामूहिक रूप से गणगौर पूजन किया।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags