Sheopur Health News: श्योपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। विजयपुर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर दो दिवसीय नसबंदी शिविर आयोजित किया गया था। जिसमें अव्यवस्थाएं सामने आई है। महिलाओं को आपेरशन के बाद ले वार्ड में लाने के लिए स्ट्रेचर तक नहीं थे, ऐसे में स्वजन महिलाओं को गोद में उठाकर आपरेशन कक्ष से बाहर ले गए। महिओं को ऐसी कड़कड़ाती ठंड में जमीन लेटाया गया। इसके बावजूद भी स्वास्थ्य महकमा व्यव्थाओं में हुई चूक को नहीं मान रहा है।

ज्ञात हो कि, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र विजयपुर पर गुरुवार, शुक्रवार को नसबंदी शिविर लगाया गया था, जिसमें पहले दिन शिविर में 77 महिलाओं के आपरेश किए गए थे। इन महिलाओं को आपेरशन के बाद पलंग नहीं होने के कारण अस्पताल में जमीन लेटा गया। दूसरे दिन शुक्रवार को 109 महिलाओं के आपरेशन किए गए। आपरेशन के बाद महिलाओं को अस्पताल के वार्ड में भर्ती करने के लिए लाया गया लेकिन स्ट्रेचर नहीं होने के कारण स्वजनों महिलाओं को गोद में उठाकर ले गए। इसका वीडियों इंटरनेट मीडिया पर भी वायरल हो रहा है, जिसमें स्वजन महिलाओं को गोद में लाते- ले जातके साफ दिखाई दे रहे हैें। अस्पताल में बेड की व्यवस्था नहीं होने से महिलाओं को जमीन पर लिटाया गया। इस कड़ाके की सर्दी में महिलों को ठंडे फर्स पर लेटना पड़ा। सीएमएचओ डा. बीएल यादव की मौजूदगी में दो सदस्य डाक्टरों की टीम ने महिलाओ के आपरेशन किए।

नसबंदी शिविर पहले भी सामने आ चुके ऐसे मामले

हर साल जिले में नसबंदी शिविर आयोजित जाते हैं। जिला अस्पताल के अलावा विजयपुर, वीरपुर, बड़ौदा में आयोजित नसबंदी शिविर में अव्यस्थाओं के मामले सामले आ चके हैं। इसके बाद प्रशासन द्वारा शिविर आयोजित करने से पहले उचित प्रबंध नहीं किए जाते हैं। विगत वर्ष तरत बड़ौदा सामुदायिक केंद्र पर अयोजित शिवर में महिलाओं को जमीन पर लेटाया गया था।

दो दिन हुए 180 महिलाओं के आपरेशन

विजयपुर अस्पताल में स्वास्थ्य विभाग द्वारा नसबंदी शिविर आयोजित किया गया था। इस शिवर में कुल 180 महिलाओं को आपरेशन किए गए। जिसमें गुरुवार को 77 महिलाओं की नसबंदी हुई, शुक्रवार को सुबह 11 बजे शाम 109 महिलाओं की नसबंदी हुई। इन सभी महिलाओं का सीएमएचओ डा. बीएल यादव की उपस्थिति में दो सदस्यी दो डाक्टरों ने किया।

विजयपुर अस्पताल में दो दिवस में 177 नसबंदी आपरेशन दो टीमों द्वारा किए गए हैं । सभी आपरेशन सफलतापूर्वक कर सभी महिलाओं को उनके घर सकुशल भेजा गया है। अव्यवस्थाओं के बीच आपरेशन किए जाने संबंधी बात नहीं है। महिलाओं के ठंड में ठिठुरने जैसी बात भी नहीं है। महिलाओं को डेढ़ घंटे आर्ब्जरवेशन में रखने के बाद घर जाने दिया जाता है। विजयपुर में जच्चा वार्ड में 30 तथा आक्सीजन वार्ड जो कि कोरोना के समय तैयार किया गया था, उसमें भी 30 बेड लगे है, इसके अलावा एनआरसी के बेड अतिरिक्त है।

डा. बीएल यादव

सीएमएचओ, श्योपुर

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close