श्योपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

वार्ड क्रं. 22 स्थित सीप नदी पंडित घाट के पास बने अधूरे पुल पर रविवार को तीन युवक फंस गए, जिन्हें बाद में पुलिस ने रेस्क्यू कर बचाया। उक्त युवक जन्माष्टमी के अवसर पर मंदिर पर होने वाली सजावट के लिए पुल पर तैर कर गए थे। बाद में पानी बढ़ जाने से वह वहीं फंसे रह गए।

पंडित घाट पर बने महादेव जी के मंदिर पर हर वर्ष युवा सजावट करते हैं। यह सजावट नदी के उस पर बने पुल से खींचकर बांधे गए गुब्बारों के कारण आकर्षण का केन्द्र रहती हैं। इस बार भी युवाओं ने मंदिर की सजावट के लिए पुल पर पहुंचकर गुब्बारों वाली झालर बांधने का काम शुरू किया था। झालर बांधने के लिए किला निवासी लड्डूगोपाल, छारबाग मोहल्ला निवासी महेन्द्र जाट एवं किला रोड निवासी बंटू शर्मा तैर कर पुल पर चले गए। हालांकि, नदी में तेज बहाव था, लेकिन उक्त युवक थोड़ी दूर से नदी में कूद और पानी के बेग के साथ आसानी से पुल पर पहुंच गए। इसके बाद अचानक नदी में पानी और बढ़ गया। जहां पर युवक बैठे थे वहां से घाट पर आना बहुत मुश्किल था। मुश्किल उस समय और अधिक बढ़ गई जब करबला घाट की ओर पानी में भंवर पड़ने लगी। अगर उक्त युवक करबला घाट पर तैर कर जाते तो भंवर में फंसने का डर था। सूचना मिलने पर टीआई जितेन्द्र नगाइच एवं सीएमओ ताराचंद धूलिया दलबल के साथ मौके पर पहुंच गए। उनके साथ पहुंचे बचाव दल ने भी इतने तेज पानी के बहाव में जाने से हाथ खड़े कर दिए। बाद में पुलिस ने नदी के उस पर मठेपुरा गांव पहुंचकर पुल के दूसरे हिस्से पर पहुंच गए। यहां पर भी उक्त युवकों और बचाव दल के बीच 9 फीट चौडा फासला था। इस फासले को सीढ़ी डालकर पांटा गया। सीढ़ी के माध्यम से युवकों ने पहले पुल में बने गेप को पार किया और बाद में बंजाराडैम से होते हुए श्योपुर पहुंचे।

फोटो : 20 कैप्शन : पानी अधिक होने से सीप में फंसे तीन युवक।