श्योपुर नईदुनिया न्यूज

लॉकडाउन में गरीब और कुपोषित परेशान ना हो इस उद्देश्य जिला प्रशासन ने आंगनबाड़ी के माध्यम से कुपोषितों को पीएचआर एवं जरूरतमंदों को भोजन वितरण शुरू कर दिया है।

कलेक्टर प्रतिभा पाल के निर्देश पर बुधवार को सभी आंगनबाड़ी केंद्रों से उन परिवारों की सूची मांगी गई थी जो परिवार रोजाना मजदूरी पर आश्रित हैं। ऐसे परिवारों के सामने लॉकडाउन की स्थिति भूखे रहने की हालत ना हो जाए इसकी चिंता करते हुए जिला प्रशासन ने उन्हें घर पर ही भोजन व्यवस्था कराने के निर्देश दिए हैं। कलेक्टर के निर्देश पर आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने तत्काल अपने क्षेत्रों में रह रहे जरूरतमंदों की सूची जिला प्रशासन को भिजवा दी। जिला प्रशासन ने भी उक्त सूची के अनुसार गरीबों को घर-घर पहुंचकर भोजन के पैकेट गुरुवार को ही वितरण कर दिया। भोजन वितरण व्यवस्था में आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं का अहम योगदान रहा हालांकि, पहले दिन भोजन वितरण व्यवस्था में कुछ कमी देखने को मिली लेकिन, विभाग ने उसे दूर करने का आश्वासन दिया है कुछ कार्यकर्ताओं ने जरूरतमंदों की सूची बनाने में डेयरी की तो कुछ कार्यकर्ताओं ने सूची में जरूरतमंदों के नाम छोड़ दिया। ऐसी कार्यकर्ताओं को सूची अपडेट कर डालने के निर्देश संबंधित क्षेत्र के सीडीपीओ को दिए हैं। उधर तीन माह से ठप पड़े टीएचआर वितरण व्यवस्था भी अचानक शुरू हो गई। महिला बाल विकास विभाग ने आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के माध्यम से गर्भवती महिलाओं धात्री माताओं किशोरी बालिकाओं 3 से 6 वर्ष तक के बच्चों को घर-घर पहुंच कर टीएचआर के पैकेट बांटना शुरू कर दिए हैं। इस काम में ग्रोथ मोनिटर भी कार्यकर्ताओं का सहयोग कर रहे हैं।

इधर हंगामा, वापस लौटाया खाना

उधर वार्ड क्रमांक 17 में भोजन वितरण को लेकर हंगामा हो गया। दरअसल अनुसूचित जनजाति आरक्षति इस वार्ड में भोजन के लिए लाभान्वित होने वाले हितग्राहियों के 200 परिवारों के नाम कार्यकर्ता द्वारा सुझाए गए थे। विभाग ने इसे कम कर 30 परीवार तक सीमित कर दिया। जब कार्यकर्ता भोजन लेकर घरों पर पहुंची तो वहां हंगामा हो गया। बाद में बस्ती के सभी लोगों ने यह कहते हुए भोजन वापस लौटा दिया कि, इस वार्ड में तो सभी लोग रोज कमाने और खाने वाले हैं। अगर भेदभाव कर भोजन दिया गया तो आपस में ही फूट पड़ जाएगी। वार्ड वासियों ने कहा कि अगर भोजन देना है तो सभी को दें वरना किसी को ना दें।

?ोटो :24 केप्शन : टीएचआर के पैकेट बंटवाते ग्रोथ मोनिटर ओर कार्यकर्ता।

Posted By:

fantasy cricket
fantasy cricket