श्योपुर नईदुनिया न्यूज

कोरोना खात्मे के लिए जहां प्रशासन अपनी ओर से जी जान जुटा रहा है वही लोग इस महामारी के खात्मे के लिए टोने-टोटके भी कर रहे हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में घासभैरू की सवारी निकालने का चलन भी शुरू हो गया है। इस क्रम में गुरुवार को शहर से सटे जैदा गांव में घासभैरू की सवारी निकाली गई।

ग्रामीण क्षेत्रों में मान्यता है कि घासभैरू (महामारी को हरने वाला देवता) की सवारी निकालने से विभिन्न प्रकार की बीमारियां और महामारी समाप्त होती है। श्रद्धा और विश्वास के साथ इन दिनों ग्रामीण क्षेत्रों में बड़ी संख्या में घासभैरू की सवारी निकाली जा रही है। गुरुवार को जैदा गांव में घासभैरू की सवारी निकाली गई। मंडी रोड, बैरवा मोहल्ला, मीणा मोहल्ला होते हुए घासभैरू को गांव के चारों ओर ट्रैक्टर से बांधकर घुमाया गया।

?ोटो :26कैप्शन : ज्यादा में निकाली गई घासभैरू की सवारी।

Posted By: Nai Dunia News Network

fantasy cricket
fantasy cricket