श्योपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

रामभक्त हनुमान की जयंती हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी 8 अप्रैल को मनाई जाएगी। इस बार कोरोना वायरस संक्रमण के कारण मंदिरों पर कोई आयोजन नहीं होंगे, हनुमान भक्त घरों पर ही हनुमान चालिसा का पाठ कर पूजा अर्चना करेंगे।

श्रीराम जन्मोत्सव के बाद चैत्र शुक्ल पूर्णिमा पर रामभक्त हनुमान की जयंती मनाई जाती है। हर साल बड़े ही धूमधाम से मंदिरों पर हनुमान जी का जन्मोत्सव भक्तों द्वारा मनाया जाता है। हनुमान जयंती पर शहर के रामतलाई हनुमान मंदिर, गरोड्या के बालाजी, नकचा बालाजी, बम्बौरी जाट स्थित तलाव वाले हनुमान मंदिर, जाटखेड़ा हनुमान मंदिर, नवलखा हनुमान मंदिर, ब्राह्मण पाड़ा, फक्कड़ चौराहा, नागदा कैनाल रोड, छारबाग स्थित पंचमुखी हनुमान मंदिर, खेड़ापति हनुमान मंदिर, छिमछिमा, सिरोनी, ऊंडाखाड़, गुर्जर गांवड़ी, देवरी के बालाजी, महुआमार, पड़ासल्या के हनुमान मंदिर पर भक्तजन सुंदर कांड, बजरंग बाण सहित रामचरित मानस का पाठ करते थे। सुबह से ही मंदिरों पर भक्तों का तांता लग जाता था, लेकिन इस बार लॉकडाउन के कारण इन मंदिरों पर कोई धार्मिक आयोजन नहीं होंगे। सिर्फ मंदिर के पुजारियों द्वारा बालाजी का श्रृंगार कर विशेष आरती की जाएगी। बजरंग दल जिला सहसंयोजक और कराहल प्रखण्ड के प्रभारी हेमंत ओझा ने जानकारी देते हुए बताया कि, विश्वहिंदू परिषद ने चैत्र नवरात्री से हनुमान जयंती तक प्रत्येक ग्राम में श्रीराम उस्तव मनाने का तय किया गया था लेकिन कोराना महामारी के कारण यह आयोजन स्थिगित कर दिया गया है। इसलिए सभी कार्यकर्ता हनुमान जंयती पर अपने-अपने घरों में ही सूर्य उदय उठकर स्नान आदि कर 11 बार हनुमान चालीसा का पाठ करेंगे और आरती के पश्चात प्रसाद वितरण हनुमान जयंती मनाऐंगे।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस