श्योपुर। आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के व्‍हाट्सएप ग्रुप पर एक आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के पति ने अश्‍लील वीडियो डाल दिया। इसके बाद ग्रुप में ऐसा हड़कंप मचा कि कई कार्यकर्ताएं ग्रुप से लेफ्ट हो गईं तो कई कार्यकर्ता कार्रवाई की मांग करने लगीं। दूसरी तरफ आपत्तिजनक वीडियो ग्रुप पर डालने वाला कार्यकर्ता का पति इसे अपने बच्चों की गलती बता रहा है।

गौरतलब है कि हर सरकारी विभाग की तरह आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने भी परियोजना वाइज व्‍हाट्सएप ग्रुप बना रखा है। श्योपुर ग्रामीण-02 परियोजना की कार्यकर्ता का 'एडब्ल्यूडब्ल्यू ग्रामीण 2 श्योपुर' के नाम से ग्रुप है। इस ग्रुप में 108 सदस्य हैं।

इनमें महिला एवं बाल विकास विभाग के डीपीओ ओपी पांडेय, सीडीपीओ कैलाश राय के अलावा सुपरवाइजर और 100 से ज्यादा आंगनबाड़ी कार्यकर्ता हैं। ग्रुप पर रविवार की रात 8:15 बजे एक अश्‍लील वीडियो डाल दिया गया।

रिमूव किया, इसलिए नहीं हट रहा वीडियो

यह वीडियो जिस युवक ने सेंड किया, उसे ग्रुप एडमिन ने 9 मिनट बाद ग्रुप से रिमूव (हटा) कर दिया। इस कारण यह वीडियो ग्रुप से भी डिलीट नहीं हो पा रहा। बीते 24 घंटे से यह वीडियो ग्रुप पर चर्चा और विवाद का केन्द्र बन गया है।

दूसरी ओर विभाग के सीडीपीओ कैलाश राय जो इस ग्रुप में भी जुड़े हैं, उन्होंने कहा कि वह व्‍हाट्सएप पर इस वीडियो को देख नहीं पाए हैं। उन्होंने कहा कि कार्यकर्ताएं शिकायत करती हैं तो जो भी उचित कार्रवाई होगी वह की जाएगी।