सोंईकलां। नईदुनिया न्यूज।

जिले के रामगांवड़ी गांव से हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है, जहां पर लोगों को घुटने-घुटने कीचड़ से शव यात्रा निकालनी पड़ी। रास्ते में कीचड़ होने से ट्रैक्टर-ट्राली फस गई इसलिए घंटक तक शव जमीन रखना पड़ा। कीचड़ से ट्रैक्टर निकलने के बाद ही ग्रामीण शव को शमशान घाट लेकर पहुंचे और फिर शव का अंतिम संस्कार किया। इसके फोटो व वीडियो इंटरनेट मीडिया पर भी वायरल हो रहे हैं।

रामगांवड़ी गांव में मंगलवार की सुबह 50 वर्षीय गोबरीलाल बैरवा का निधन हो गया। सुबह 8 बजे स्वजन उसके शव को अंतिम संस्कार के लिए श्मशान घाट ले जा रहे थे। गांव के रास्ते में कीचड़ होने की वजह से उन्हें काफी परेशानी उठानी पड़ी। रास्ते में कीचड़ होने की वहज से एक ट्रैक्टर-ट्राली फस गई जिस वजह से स्वजनों को शव को जमीन पर रखना पड़ा। इतना ही नहीं शव यात्रा लेकर जा रहे लोग ट्रैक्टर को कीचड़ निकलवाने में जुट गए। एक करीब घंटे तक स्वजन शव को जमीन पर रखकर बैठे रहे। इसके बाद घुटने-घुटने कीचड़-पानी के बीच से शव यात्रा निकालनी पड़ी।

बड़ी मुश्किल से शमशान घाट पहुंचकर शव का अंतिम संस्कार किया।

बॉक्सः

अधिकारियों कई बार आवेदन देने के बाद भी नही हुई कार्रवाई

ग्रामीणों का कहना है कि, कलेक्टर को कई बार ज्ञापन सौंपने के बावजूद हालात में कोई सुधार नहीं हुआ। बरसात में लोगों में हमेशा निकलने में परेशानियों का सामना करना पड़ता है। ग्रामीणों का कहना है कि, अगर गांव में कोई बीमार हो जाए तो उसे को अस्पताल ले जाने में भी काफी परेशानी आती है, या फिर प्रसव के लिए महिला को अस्पताल ले जाना हो, हर काम के लिए बस यही एक ही रास्ता है। कई बार इस रोड को बनवाने के लिए अधिकारियों को आवेदन दे चुके हैं, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई।

वर्जन-

मुझे इसकी जानकारी नही है। गांव में तालाब के पास रास्ते कीचड़ हो रही है। यह रोड प्रधान मंत्री सड़क योजना के तहत बनेगा। फिर भी ग्राम पंचायत की तरफ से मुट्टी, मुर्रम डलवाकर लोगों के निकलवाने की व्यवस्था करते हैं।

रामसिंह प्रजापति

सचिव, ग्राम पंचायत रामगांवड़ी

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close