शिवपुरी (नईदुनिया प्रतिनिधि)। शहर में लगातार बढ़ते जा रहे अपराधों का खुलासा करने में काफी हद तक शहर में लगे सीसीटीवी कैमरे पुलिस के लिए मददगार साबित हो रहे हैं। इसी के चलते पुलिस ने समाजसेवियों के सहयोग से शहर में तीसरी आंख की निगरानी बढ़ाने का निर्णय लिया है। इसी क्रम में कंट्रोल रूम में एक नया कंट्रोल सिस्टम स्थापित किया गया है, जिससे 128 प्वाइंट को जोड़ा जा रहा है। अब शहर में कुल 398 स्थानों पर सरकारी सीसीटीवी कैमरों से निगरानी की जाने की तैयारी कर ली गई है। खास बात यह है कि यह सभी प्वाइंट पुलिस कंट्रोल रूम में बैठे-बैठे ही पुलिस की नजर में रहेंगे।

कलेक्टर अक्षय कुमार सिंह और पुलिस अधीक्षक राजेश सिंह चंदेल ने इस काम के लिए कोलारस के पूर्व विधायक महेंद्र सिंह यादव का सहयोग लिया। करीब छह लाख रुपये की लागत से तैयार हुए इस कंट्रोल सिस्टम के लिए महेंद्र सिंह यादव ने व्यक्तिगत रूप से प्रशासन का सहयोग किया। अब सर्किट हाउस रोड पर भी पुलिस द्वारा तीसरी आंख से निगरानी शुरू कर दी गई है। पुलिस अधीक्षक का कहना है कि जल्द ही वह अन्य शहरवासियों के सहयोग से पूरे 128 प्वाइंट पर सीसीटीवी कैमरे लगवा कर उन्हें इस कंट्रोल पैनल से जुड़वा देंगे। शहर में पहले से 270 प्वाइंट पर सीसीटीवी कैमरों से निगरानी की जा रही है। अब इन 128 प्वाइंट के चालू होने के बाद शहर में कुल 398 प्वाइंट ऐसे हो जाएंगे जहां पर पुलिस की निगरानी रहेगी।

बॉक्स

पखवाड़े भर में सुधरेगा शहर का यातायात सिस्टम

शहर को सुंदर बनाने में वहां के सुव्यवस्थित यातायात की भी काफी महत्वपूर्ण भूमिका रहती है। इसी के चलते पुलिस ने शहर के व्यापारियों और समाजसेवियों के सहयोग से यहां ट्रेफिक सिग्नल लगाने का काम भी किया है। इसी क्रम में गुरूद्वारा चौक पर पिछले कई सालों से खराब पड़े ट्रेफिक सिग्नल को सुधारने की दिशा में सिद्धार्थ लढ़ा व अमन गोयल से सहयोग लेकर ट्रेफिक सिग्नल को पुनः चालू कराया गया है, इस सिग्नल के चालू होने के बाद अब शहरवासी यहां ट्रेफिक सिग्नल का पालन करते देखे जा सकते हैं। इसी क्रम में ग्वालियर वायपास चौराहे पर वीरेंद्र जैन पत्ते वाले के सहयोग से और गुना नाके पर थिंक गैस के सहयोग से ट्रेफिक सिग्नल लगवाया जा रहा है। पुलिस का कहना है कि अगले पखवाड़े भर में यह दोनों सिग्नल भी चालू हो जाएंगे। पुलिस ने शुक्रवार को पुलिस कंट्रोल रूम में सभी दानदाताओं का सम्मान किया और शहर के अन्य व्यापारियों, समाजसेवियों व आमजन से अपील की कि वह अपनी सुरक्षा के लिए आगे आकर शहर के विकास में सहयोग प्रदान करें।

बॉक्स

सुधरेगा यातायात, कम होगी हादसों की संख्या

यहां उल्लेख करना होगा कि ग्वालियर वायपास चौराहा और गुना वायपास चौराहा शहर के बीचों-बीच ऐसे प्वाइंट हैं जहां पर सबसे अधिक सड़क हादसे होते हैं। इसकी मुख्य वजह यह है कि यहां से न सिर्फ भारी वाहन बल्कि कार, बाइक आदि तेज रफ्तार से गुजरते हैं। इन दोनों ही चौराहों पर कोई ऐसी व्यवस्था भी नहीं है जिससे की इन वाहनों की गति यहां पर कम हो जाए। यही कारण कि यहां हादसे अपेक्षाकृत अधिक होते हैं। दोनों ही चौराहों पर ट्रेफिक सिग्नल लगने के बाद यहां न सिर्फ यातायात व्यवस्थित होगा बल्कि हादसों की संख्या में भी कमी आएगी।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close