दतिया-भांडेर । नईदुनिया प्रतिनिधि।

भांडेर थाने से करीब आठ माह पूर्व पुलिस अभिरक्षा से भागे एक युवक का शव ग्राम तिगरा खिरिया के बाहर एक नीम के पेड़ पर लटका मिला था। इस पूरे मामले में उस समय भांडेर थाना प्रभारी रहे विजय लोधी द्वारा की गई मनमानी को लेकर मृतक के स्वजन कार्रवाई की मांग कर रहे हैं। इसे लेकर शुक्रवार को मृतक युवक के माता-पिता और अन्य लोग एसपी आफिस के बाहर धरने पर बैठ गए। उनकी मांग है कि इस मामले में तत्कालीन भांडेर थाना प्रभारी विजय लोधी व संबंधित पुलिस कर्मियों पर हत्या का मामला दर्ज किया जाए। इस मामले में मृतक युवक राघवेंद्र पुत्र राजाराम वंशकार की मां रामसखी का आरोप है कि तत्कालीन थाना प्रभारी विजय लोधी 20 जून 2021 को पुलिस के साथ उनके घर से मोबाइल चोरी के शक में उनके बेटे को पूछतांछ के लिए थाने ले गए थे। लेकिन वहां पुलिस ने उनके बेटे के साथ मारपीट की और छोड़ने के एवज में उनसे 1 लाख रुपये की मांग रखी। अगले दिन बेटे का शव पेड़ पर लटका मिला। जबकि पुलिस कह रही थी कि मृतक पुलिस अभिरक्षा से भागा था। जबकि मृतक के हाथ में कोई हथकड़ी नहीं मिली। ऐसे में वह कैसे अभिरक्षा भागा। पुलिस इस मामले में कहानी गढ़ रही है। इस मामले में थाना प्रभारी ने मनमानी करते हुए उनके बेटे के साथ ज्यादती की थी। इसलिए उन पर कार्रवाई की जाना चाहिए।

पुलिस ने शव उतारते वक्त भी नहीं बुलाया

मृतक युवक राघवेंद्र की मां रामसखी ने तत्कालीन थाना प्रभारी भांडेर विजय लोधी पर आरोप लगाते हुए कहाकि उनके बेटे के शव को पेड़ से उतारते समय भी उन्हें सूचना नहीं दी गई। मां-बाप की गैरमौजूदगी में पुलिस ने शव उतारने की कार्रवाई पूरी की। अंतिम संस्कार भी पुलिस ने दबाब बनाकर करा दिया। मां के मुताबिक पुलिस की ज्यादती के कारण ही उनकी बेटे की जान गई है। इसे लेकर तत्कालीन थाना प्रभारी विजय लोधी पर हत्या का प्रकरण दर्ज कर कार्रवाई होनी चाहिए।

यह है पूरा मामला

भांडेर थाना क्षेत्र के ग्राम तिगरा खिरिया निवासी युवक राघवेंद्र पुत्र राजाराम वंशकार को भांडेर के तत्कालीन थाना प्रभारी विजय लोधी पुलिस बल के साथ 20 जून 2021 को मोबाइल चोरी के शक में पकड़ ले गए थे। अगले दिन उस युवक के पुलिस अभिरक्षा से भाग जाने की खबर आई। इसके कुछ समय बाद ही उक्त युवक का शव गांव के बाहर नीम के पेड़ पर लटका मिला था। इस मामले में मृतक युवक के स्वजन का आरोप है कि मृतक अगर पुलिस अभिरक्षा से भागा था तो उसके हाथ में हथकड़ी बगैरह मिलना चाहिए थी। जबकि ऐसा कुछ भी नहीं मिला। वहीं शव उतराने और अंतिम संस्कार प्रक्रिया से भी उन्हें पुलिस ने दूर रखा। जिसके कारण उन्हें शक है कि पुलिस अभिरक्षा में युवक की मौत हुई है। इसकी जांच होनी चाहिए।

एसपी आफिस के बाहर धरने पर बैठे माता-पिता

भांडेर थाने के तत्कालीन थाना प्रभारी और वर्तमान में दुरसड़ा थाना प्रभारी विजय लोधी पर हत्या का प्रकरण दर्ज करने की मांग को लेकर मृतक राघवेंद्र के माता-पिता और समाज के अन्य लोग एसपी आफिस के बाहर शुक्रवार को धरने पर बैठ गए। धरने पर बैठे रवि वंशकार ने बताया कि उक्त लोगों की मांग है कि इस मामले की मजिस्ट्रेट की निगरानी में जांच कराई जाए। साथ ही परिवार को 50 लाख की मुआवजा राशि एवं परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी दी जाए।

इनका कहना है

पुलिस की ज्यादती के कारण हमारे बेटे की जान गई है। ऐसे में निष्पक्ष जांच कर तत्कालीन थाना प्रभारी विजय लोधी पर हत्या का प्रकरण दर्ज होना चाहिए। - रामसखी वंशकार, मृतक की मां।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local