- प्रदेश अध्यक्ष और संगठन महामंत्री को दी सफाई, असली वीडियो मंगाकर सुना गया

शिवपुरी (टीम नईदुनिया)। ब्राह्मण समाज के खिलाफ अमर्यादित टिप्पणी करने के मामले में प्रीतम सिंह लोधी को भाजपा ने छह साल के लिए प्राथमिक सदस्यता से निष्कासित कर दिया है। ब्राह्मणों की नाराजगी के बाद लोधी ने लिखित में माफी मांगी। उन्हें प्रदेश भाजपा अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा एवं प्रदेश संगठन महामंत्री हितानंद शर्मा ने तलब किया था। शुक्रवार को वे प्रदेश भाजपा कार्यालय पहुंचे और अध्यक्ष-महामंत्री को सफाई देते हुए कहा कि उनकी बात को तोड़-मरोड़कर पेश किया गया है। इस पर अध्यक्ष ने उनके संबोधन का असली वीडियो मंगाकर सुना और सफाई मेंं कहा गया कथन सही न पाए जाने पर पार्टी की सदस्यता से निष्कासित कर दिया।

मैं अत्यधिक शर्मिंदा हूंः ब्राह्मणों की नाराजगी के बीच लोधी ने लिखित माफी मांगी, जिसमें उन्होंने स्वीकार किया कि उनसे अज्ञानतावश यह भूल हो गई है। वहीं उनके विरोधी पक्ष ने बयान को तोड़-मरोड़कर ऐसा बना दिया। इससे ब्राह्मण समाज को निश्चित ही ठेस लगी होगी। मैं अत्यधिक शर्मिंदा हूं और खुद को अपराधी महसूस कर रहा हूं। मैं ब्राह्मण और अन्य सभी समाजों का आदर करता हूं। मेरी बहन उमा भारती को प्रकरण का पता चला, उन्होंने बगैर किसी लाग-लपेट के गुरु तुल्य ब्राह्मण समाज से क्षमा मांगने को कहा। मैं क्षमा मांगता हूं। मैं प्रार्थना करता हूं वह बड़ा दिल कर मेरी गलती के लिए क्षमा करें।

क्या कहा था लोधी नेः लोधी 17 अगस्त को शिवपुरी जिले के खरैह में वीरांगना अवंती बाई लोधी के 191वें जन्म दिवस कार्यक्रम में शामिल हुए थे। यहां उन्होंने ब्राह्मणों को लेकर कहा था कि ये नौ दिन तक सात-आठ घंटे पागल बनाते हैं। ये कहते हैं कि तुम दान दोगे तो भगवान तुमको देगा। इनकी बातों में आकर महिलाएं अपने घरों से गेहूं, घी, चावल, शक्कर चुराकर इनके चरणों में समर्पित कर देती हैं। ब्राह्मण यह देख लेता है कि सुंदर महिलाएं कौन-कौन से घर की हैं। वे उनके घर खाना खाते हैं और नजर कहीं और होती है। उनके संबोधन का वीडियो इंटनरेट मीडिया पर प्रसारित हो गया।

बयान से ब्राह्मण समाज में आक्रोश, छह एफआइआरः लोधी के बयान से ब्राह्मण समाज आक्रोशित है। गुरुवार को कई जिलों में ब्राह्मणों ने विरोध-प्रदर्शन कर ज्ञापन सौंपे। इसी दिन शिवपुरी के रन्नाोद थाना और ग्वालियर में लोधी के खिलाफ एफआइआर दर्ज कराई गई। इनमें भादंवि की धारा 153ए, 505 और 295 लगाई गई है। शुक्रवार को शिवपुरी कोतवाली, पिछोर, करैरा व नरवर थाने में भी लोधी के खिलाफ एफआइआर दर्ज की गई।

उमा भारती के करीबी, 37 आपराधिक मामलेः प्रीतम सिंह लोधी पिछोर (लोधी बहुल क्षेत्र) से कांग्रेस विधायक केपी सिंह के खिलाफ दो बार चुनाव लड़े और हार गए। वे पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती के करीबी माने जाते हैं। 62 साल के प्रीतम पर विभिन्न् थानों में राष्ट्रीय सुरक्षा कानून, जिला बदर, हत्या, हत्या का प्रयास, लूट, बलवा, अपहरण सहित 37 आपराधिक प्रकरण दर्ज हैं। उन पर एनएसए और जिलाबदर की कार्रवाई भी हो चुकी है।

लोधी समाज ने निरस्त की कथाः पिछोर में काली पहाड़ी पर प्रस्तावित भागवत कथा के आयोजन को लोधी समाज ने निरस्त कर दिया है। आयोजकों का कहना है कि जब तक समझौता नहीं हो जाता है, तब तक ऐसे धार्मिक आयोजन नहीं कराएंगे। इसे लेकर एक वीडियो भी जारी किया गया है।

केपी सिंह के खिलाफ चुनाव लड़कर आए थे सुर्खियाें मेंः निष्कासित भाजपा नेता प्रीतम सिंह लोधी पिछोर में कांग्रेस के विधायक केपी सिंह के खिलाफ भाजपा से चुनाव लड़कर चर्चा में आए थे।

पुत्र पर भी लगे मारपीट के आराेपः प्रीतम लोधी का बेटा ब्याज पर पैसा चलाने का काम करता है। इस मामले में कई बार उस पर भी मारपीट करने के आरोप लगे हैं। ग्वालियर के जलालपुर गांव में उसका घर है। यहां के लोग भी उससे परेशान हैं। इस बार वार्ड-63 से उसकी पत्नी पार्षद का चुनाव लड़ रही थी, निर्दलीय उम्मीदवार उमा यादव ने प्रीतम की पत्नी को चुनाव हराया था।

अपराध की दुनिया से राजनीति में रखा कदम: प्रीतम लोधी पर सबसे पहले 1976 में अपराध पंजीबद्ध हुआ। पुरानी छावनी थाने में ही उस पर पहला अपराध पंजीबद्ध हुआ था। उस पर बलवा और मारपीट करने की धाराओं में मामला दर्ज हुआ था। इसके बाद उस पर हत्या के तीन, हत्या के प्रयास के चार मामले दर्ज हुए। उस पर एनएसए और जिलाबदर की कार्रवाई भी हो चुकी है। वह भाजपा नेता उमा भारती का रिश्तेदार बताया जाता है, जब वह मप्र की मुख्यमंत्री बनीं तब उसकी सक्रियता राजनीति में भी बढ़ गई।

ब्राह्मण समाज में फैला आक्रोश, प्रीतम के पुतले में मारे जूते, चप्पल और लातेंः पूरे शिवपुरी जिले में प्रीतम लोधी के विवादित बयान के बाद कार्रवाई को लेकर प्रदर्शन किया गया। आक्रोशित ब्राह्मण समाज के लोगों ने प्रीतम लोधी का पुतला बनाकर प्रदर्शन किया। एसपी आफिस लेकर चौराहे तक उसके पुतले को ले जाया गया। इस दौरान रास्ते में रैली में शामिल लोगों के साथ-साथ राह चलते कई लोगों ने भी प्रीतम सिंह लोधी के पुतले में जूते, चप्पल और लातें मारीं। इस तरह से लोगों ने प्रीतम के बयान के खिलाफ अपने आक्रोश का प्रदर्शन किया। माधव चौक चौराहे पर प्रीतम सिंह लोधी का पुतला भी जलाया गया।

Posted By: anil tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close