शिवपुरी (नईदुनिया प्रतिनिधि)।

ब्राह्मण समाज को लेकर विवादित टिप्पणी करने वाले भाजपा नेता प्रीतम लोधी के बयान को लेकर समूचे ब्राह्मण में आक्रोश है। गुरुवार को कई जिलों में ब्राह्मणों ने विरोध प्रदर्शन कर ज्ञापन सौंपे थे जिसमें अन्य समाज भी शामिल हुए। इसके बाद गुरुवार को शिवपुरी के रन्नाौद थाना और ग्वालियर में प्रीतम लोधी पर एफआइआर दर्ज करा दी गई थी। शुक्रवार को शिवपुरी कोतवाली, पिछोर, नरवर और करैरा थाने में भी प्रीतम लोधी पर एफआइआर दर्ज करा दी गई है। कोतवाली में भी बार एसोसिएशन के अध्यक्ष शैलेंद्र समाधिया की शिकायत पर मामला दर्ज कराया गया। कोतवाली में प्रीतम लोधीा पर धारा 295 का भी इजाफा किया गया। वहीं दूसरी ओर प्रीतम लोधी ने भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा के समक्ष उपस्थित होकर लिखित में माफी मांगी है। हालांकि पार्टी का शीर्ष नेतृत्व उनके जवाब से संतुष्ट नहीं है और उन्हें पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से निष्कासित कर बाहर का रास्ता दिखा दिया गया है।

शुक्रवार को प्रीतम लोधी भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा के पास अपनी सफाई देने के लिए पहुंचे। प्रीतम लोधी ने लिखित स्पष्टीकरण में लिखा है कि मेरी बोली गई बातें अलग-अलग टुकड़ों में जोड़कर दिखाई गई हैं। यह बातें मैंने बोली हैं यह मैं स्वीकार करता हूं। किंतु मैं स्वयं ब्राह्मण समाज और अन्य समाजों का आदर करता हूं किंतु अज्ञानतावश मुझसे यह भूल हो गई। मैं शर्मिंदा हूं और अपने आप को अपराधी महसूस कर रहा हूं। बहन उमा भारती के संज्ञान में कुछ देर पहले ही यह मामला आया है और उन्होंने सीधे बिना लाग लपेट के ब्राह्मण समाज से माफी मांगने की आज्ञा दी है। मैं ब्राह्मण समाज से क्षमा मांगता हूं। इस माफीनामे को पार्टी ने स्वीकार नहीं किया है।

ब्राह्मण समाज के लिए बोले थे- पैसे ऐंठते हैं, महिलाओं पर गलत नजर रखते हैं

17 अगस्त को वीरांगना रानी अवंति बाई लोधी की 191वीं जयंति पर बदरवास के ग्राम खरैह में भाजपा नेता प्रीतम लोधी ने ब्राह्मणों के लिए भरे मंच से काफी अपमानजनक शब्द कहे थे। प्रीतम सिंह लोधी वीडियो में कह रहे हैं कि यह आपको नौ दिन रोजाना सात-आठ घंटे तक पागल बनाते हैं। यह सबसे ज्यादा दान की बात करते हैं कहते हैं कि अगर तुम दान दोगे तो भगवान तुमको देगा, पूरा गांव दोगे तो और ज्यादा देगा। इनकी बातों में आकर महिलाएं अपने घरों से घी, शक्कर, गेहूं, चावल चुरा-चुरा कर इन ब्राह्मणों के चरणों में जाकर अर्पित कर देती हैं। बकौल प्रीतम सिंह महिलाएं इनकी बातों में इतनी आ जाती हैं कि वह दूध, घी, दही अपने बच्चों को खिलाने की बजाय इन्हें दे देती हैं। प्रीतम सिंह ने यहां तक कह दिया कि ब्राह्मण यह देख लेता है कि सुंदर महिलाएं कौन-कौन से घर की हैं। उन्हीं घर के लोगों के नाम माइक से ले ले कर उन्हें इतना फुला देता है और कहता है कि महाराज आज शाम का भोजन आपके यहीं करेंगे। इसके बाद उक्त व्यक्ति उसकी बातों में पागल बनकर घर की सफाई करता है। पकवाना बनवाता है, उक्त ब्राह्मण उनके घर जाकर खाना तो खाता ही है और उसकी नजर कहीं और होती है। कथा के दौरान यह ब्राह्मण कहते हैं कि 20 से 30 साल की महिलाएं आगे बैठ जाओ। 30 से 45 साल की महिलाएं बीच में और बुड्ढी महिलाएं पीछे बैठ जाओ। इसके बाद यह गाने गा-गाकर उन्हें नचवाते हैं और खुद ऊपर बैठे आनंद लेते हैं।

कौन है प्रीतम लोधीः उमा भारती के करीबी, 46 साल में 37 आपराधिक मामले

62 साल के प्रीतम लोधी पर विभिन्ना थानों में राष्ट्रीय सुरक्षा कानून, जिला बदर, हत्या, हत्या का प्रयास, लूट, बलवा, अपहरण, घर में घुसकर मारपीट सहित अन्य धाराओं में कुल 37 आपराधिक प्रकरण दर्ज हैं। उस पर मध्यप्रदेश के अलावा दूसरे प्रदेशों के भी बदमाशों से संपर्क, उन्हें संरक्षण देने के आरोप लगते रहे हैं। 2014 में उसने गैंगस्टर हरेंद्र राणा को संरक्षण दिया था। गैंगस्टर हरेंद्र राणा जब पकड़ा गया तब इसका खुलासा भी हुआ था। इसके बाद वह ग्वालियर पुलिस के टारगेट पर आ गया। ग्वालियर पुलिस ने उसे पकड़ा, पहली बार उसका जुलूस पुलिस ने निकाला। 15 अगस्त 2014 को वह इस मामले में रिहा हुआ था। ग्वालियर के जलालपुर गांव में उसका घर है। यहां के लोग भी उससे परेशान हैं। इस बार वार्ड-63 से उसकी पत्नी पार्षद का चुनाव लड़ रही थी, निर्दलीय उम्मीदवार उमा यादव ने प्रीतम की पत्नी को चुनाव हराया था। ाहाल में हुई एफआइआर जोड़ दें तो उन पर अब 43 आपराधिक प्रकरण हो गए हैं।

अपराध की दुनिया से राजनीति में रखा कदमः प्रीतम लोधी पर सबसे पहले 1976 में अपराध पंजीबद्ध हुआ। पुरानी छावनी थाने में ही उस पर पहला अपराध पंजीबद्ध हुआ था। उस पर बलवा और मारपीट करने की धाराओं में मामला दर्ज हुआ था। इसके बाद उस पर हत्या के तीन, हत्या के प्रयास के चार मामले दर्ज हुए। उस पर एनएसए और जिलाबदर की कार्रवाई भी हो चुकी है। वह भाजपा नेता उमा भारती के करीबी हैं। उमा भारती के मुख्यमंत्री बनने के बाद से उनकी राजनीति में सक्रियता बढ़ गई थी। भाजपा नेता प्रीतम सिंह लोधी पिछोर में कांग्रेस के विधायक केपी सिंह के खिलाफ भाजपा से चुनाव लड़कर चर्चा में आए थे। लोधी बाहुल्य पिछोर में उन्होंने दो बार विधानसभा का चुनाव लड़ा और दोनों ही बार हारे।

पिछोर के कालीपहाड़ी में लोधी समाज ने निरस्त की कथा

प्रीतम लोधी के विवादित बयान के बाद पिछोर के काली पहाड़ी में लोधी समाज ने भागवत कथा का आयोजन निरस्त कर दिया है। वहां समाज के लोगों का कहना है कि जब तक समझौता नहीं हो जाता है तब तक इस तरह को धार्मिक आयोजन नहीं कराएंगे। इसे लेकर फेसबुक पर भी एक वीडियो प्रसारित हो रहा है जिसमें कुछ लोग अपने समाज के लोगों को समझौता होने तक ब्राह्मणों से कर्मकांड न कराने की बात कह रहे हैं। समाज के लोगों का कहना है कि अब कथा और अन्य अनुष्ठान ब्राह्मण समाज से नहीं, बल्कि गायत्री परिवार के लोगों से कराएंगे।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close