शिवपुरी। इस बार के लोकसभा चुनाव में गुना सीट से मिली हार का दर्द ज्योतिरादित्य सिंधिया अब भी भुला नहीं पा रहे हैं। ये दर्द रह-रहकर उनकी जुबान पर आ ही जाता है। आज शिवपुरी में एक बार फिर लोकसभा चुनाव में मिली हार पर उनका दर्द फूट पड़ा। वो भावुक होते बोले कि, लोकसभा चुनाव के नतीजे से दिल में दुख है। पर मैं क्षेत्र के लिए अपना काम करता रहूंगा। मेरी जितनी हैसियत है उतना काम कर रहा हूं। बस इतना कह सकता हूं कि आप लोग मुझमें कुछ कमी नहीं पाओगे। आज मेरी भी सीमा है। बस इतना कहना चाहूंगा।

बता दें कि 2019 के आम चुनाव में ज्योतिरादित्य सिंधिया को कभी उनके खास रहे केपी सिंह ने गुना संसदीय सीट से हराया था। ये पहला मौका था, जब सिंधिया राजघराने का कोई शख्स इस सीट से चुनाव हारा है। वो लगातार तीन बार इस सीट से चुनाव जीते थे। इससे पहले कई मौकों पर वो हार की टीस को बयां कर चुके हैं।

वो यहां भावखेड़ी के पीड़ितों से मिलने के लिए पहुंचे थे। उन्होंने यहां खुले में शौच के नाम पर दो दलित बच्चों की पीट-पीटकर की गई हत्या पर दुख जताया और पीड़ित परिवारों को 50-50 लाख का मुआवजा देने की मांग की। इस संबंध में उन्होंने मुख्यमंत्री कमलनाथ को चिठ्ठी भी लिखी है। जिसमें उन्होंने पीड़ित परिवार को शिवपुरी शहर में पक्का मकान बनाकर देने की मांग की है। इसके अलावा दोषियों के खिलाफ फास्ट ट्र्रैक कोर्ट में मामला चलाने की भी बात कही है। खुद सिंधिया ने भी पीड़ित परिवार को पांच लाख की आर्थिक मदद देने का वादा किया है।

इलाके के ही दबंग ने अपने साथियों के साथ मिलकर भावखेड़ी में दो मासूम बच्चों को सिर्फ इसलिए लाठी-डंडों से पीट-पीटकर मार डाला था। क्योंकि इन्होंने पंचायत भवन के सामने खुले में शौच किया था। इसके बाद से ही आरोपी पक्ष के लोग पीड़ित परिवारों को धमकी दे रहे हैं। इसी संबंध में आज ज्योतिरादित्य सिंधिया पीड़ित परिवार से मिले और उन्हें हरसंभव मदद का भरोसा दिलाया। उन्होंने परिवार के सदस्यों को जल्द सरकारी नौकरी दिलाने का भी वादा किया।

फिलहाल परिवार को सरकारी क्वार्टर में रखा गया है। यहीं सिंधिया की पीड़ित परिवारों से मुलाकात हुई। इसके बाद उन्होंने फिर से दोहराया कि वो कोशिश करेंगे कि आरोपियों को जल्द से जल्द सजा मिले। इस दौरान खाद्य एवं आपूर्ति मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर भी मौजूद रहे। इससे पहले प्रशासन ने उस घर को दमकल की गाड़ियों की मदद से साफ किया। जहां सिंधिया ने पीड़ित परिवारों से मुलाकात की। सुबह से प्रशासनिक अफसरों की टीम मौके पर पहुंच गई थी।

Posted By: Saurabh Mishra