शिवपुरी/कोलारस। नईदुनिया प्रतिनिधि

डेढ़ महीने पहले बाढ़ की मार झेलने वाले किसानों के लिए बुधवार की रात फिर आसमान से पानी आफत बनकर बरसा। अतिवृष्टि में हजारों बीघा की फसलें फिर से तबाह हो गईं। कोलारस में बुधवार देर शाम बारिश शुरू हुई और दो घंटे से अधिक तक समय तक बारिश हुई। इस दौरान नदी नाले चढ़ गए और रपटों के ऊपर से पानी बहने लगा। वहीं ग्रामीण अंचल में किसानों की फसल भी तबाह हो गई। पहले ही साहूकारों के कर्ज में डूबे किसानों की मुसीबतें अब और भी बढ़ गई हैं क्योंकि फसल तबाह हो गई। किसी को अपने घर को पक्का बनाना था तो किसी अपनी बेटी के हाथ पीले करने थे, लेकिन अब सारी योजनाओं पर पानी फिर गया है।

आदिवासी बाहुल्य ग्राम बैढ़ारी निवासी सरदार आदिवासी ने बताया कि 6 बीघा जमीन में उड़द की फसल बोई थी, लेकिन अत्यधिक बारिश के चलते उड़द खराब हो गए। वंशी आदिवासी का कहना है कि 20 हजार र पहले से ही साहूकार का देना है, उसके परिवार में 3 बेटी एवं 2 लड़के हैं। बेटियां शादी लायक है। पैसों की किल्लत के चलते शादी करने की चिंता सता रही है। पार्वती आदिवासी का पति दो-तीन वर्ष पूर्व स्वर्ग सिधार गया। पहले से ही कर्जदार पार्वती ने 05 बीघा में उड़द बोया था जो बर्वाद हो गया, पार्वती के दो छोटे-छोटे बच्चे हैं और बड़ी बेटी शादी करना है। अतिवृष्टि की शिकार बनी बेवा पार्वती आदिवासी सरकारी मदद की आस लगाए बैठी है, लेकिन राहत मिलने के दूर-दूर तक आसार नजर नहीं आ रहे हैं। इसी तरह यहां दयाप्रसाद आदिवासी निवासी सनवारा ने 4 बीघा में उड़द किया लेकिन अत्यधिक वर्षा से फसल बर्वाद हो गई। दयाप्रसाद के 5 बच्चों में दो बेटियां विवाह लायक हैं।

60 हजार का साहूकार का कर्ज, फसल भी हो गई बर्बाद

सनवारा निवासी रामदयाल आदिवासी ने बताया कि उस पर पहले से ही 60 हजार रुपये साहूकार का कर्जा है। ऊपर से 04 बीघा में खड़ी उड़द बर्वाद हो जाने से वह चिंतित है कि लड़की के हाथ पीले कैसे होंगे। रामदयाल को जमीन बिकने का डर भी सता रहा है। 12 बीघा जमीन के सहारे चार बच्चों का पालन-पोषण करने वाले बलवंता आदिवासी एवं उनकी पत्नी गुड्डी वाई निशक्त हैं। बलवंता ने तीन लड़कों व एक लड़की की शादी करने के लिए 12 बीघा जमीन को 50 हजार रुपये में यह सोच गिरबी रखा था कि फसल अच्छी होने पर वह जमीन मुक्त करा लेगा, लेकिन इस बार प्रकृति के कहर ने उड़द की फसल को बर्वाद कर दिया। अब जमीन में से कुछ हिस्सा बिकने के अलावा कोई रास्ता नजर नहीं आ रहा है। बलवंता एवं उनकी नि:शक्त पत्नी के बच्चे भी शादी के बाद अलग रहने लगे और उन्हें शासन द्वारा उपलब्ध कराई जाने वाली परिवार पेंशन राशि तक नसीब नहीं हो रही है।

एसडीएम को ज्ञापन सौंप, मुआवजा व फसल बीमा की मांग की है: रामवीर यादव

बदरवास जनपद उपाध्यक्ष रामवीर सिंह यादव ने कहा कि इस वर्ष अतिव्रष्टि से किसान पूरी तरह बर्बाद हो चुका है। कोलारस विधानसभा क्षेत्र की फसलें सौ प्रतिशत नष्ट हो चुकी हैं। मैंने कई गांवों का भ्रमण किया है, बहुत बुरे हालात हैं। हमारे मुख्यमंत्री जी ने भी सर्वे का आदेश दिया था लेकिन कर्मचारियों की लापरवाही के चलते उचित समय पर सर्वे नहीं हो पाया। गुरूवार को कोलारस एसडीएम को ज्ञापन देकर बर्बाद फसलों का बीमा और मुआवजा राशि की मांग की है।

विधायक ने अधिकारियों के साथ की बैठक

कोलारस विधानसभा के किसानों की उड़द व सोयाबीन की फसलें बर्बाद हो चुकी हैं। इसके चलते गुरुवार को कोलारस विधायक वीरेंद्र रघुवंशी ने कोलारस के प्रशासनिक अधिकारियों के साथ बैठक कर इस समस्या पर विचार विमर्श किया। किसानों की बढ़ती परेशानी को गंभीरता से लेते हुए विधायक रघुवंशी द्वारा पूरी विधानसभा का नए सिरे से सर्वे कराने हेतु एक पत्र राजस्व मंत्री गोविंद सिंह राजपूत को शिवपुरी प्रवास के दौरान प्रदान किया। वहीं जिला कलेक्टर अक्षय सिंह को भी इससे अवगत कराया। कोलारस राजस्व विभाग के अधिकारियों का अधीनस्थ अमले पर नियंत्रण न होने से अभी तक पूर्व में हुई हानि के मुआवजे का काम भी बेहतर नहीं हो सका है। इस मामले को लेकर विधायक रघुवंशी द्वारा दूरभाष पर मुख्यमंत्री को भी अवगत कराया जा चुका है और आगामी 29 सितंबर को शिवपुरी दौरे के दौरान मुख्यमंत्री से इस विषय पर चर्चा करने की बात भी कही जा रही है। उक्त बैठक में कई महत्वपूर्ण जनहितैषी मुद्दों पर चर्चा भी हुई है। इस दौरान विधायक वीरेंद्र रघुवंशी के साथ कोलारस एसडीएम ब्रजबिहारी श्रीवास्तव, तहसीलदार अखिलेश शर्मा, टीआइ आलोक भदौरिया और सीएमओ रमेशचंद्र जाटव उपस्थित रहे।

यह बोले अधिकारी

यदि फसल खराब होने से शादी में रुकावट आ रही है तो वरिष्ठ अधिकारियों से परामर्श लेने के बाद इस तरह के किसानों की विवाह योग्य बेटियों के प्रस्ताव आवेदन आने पर तैयार कराए जाएंगे। जहां तक नि:शक्त आदिवासी दंपति को पेंशन नहीं मिल रही है तो बहुत जल्दी पेंशन प्रकरण तैयार कराए जाएंगे, मैं स्वयं गांव जाकर हालात देखूंगा।

आफिसर सिंह गुर्जर, सीईओ जनपद पंचायत कोलारस

Posted By: Ajaykumar.rawat

NaiDunia Local
NaiDunia Local