शिवपुरी। जिले के पोहरी अंतर्गत भटनावर चौकी पर पदस्थ आरक्षक से दो दिन पूर्व मारपीट के मामले में केस तो दर्ज हुआ, लेकिन आरोपी पकड़े नहीं गए, जिससे व्यथित आरक्षक ने बुधवार देर शाम कोतवाली पुलिस के व्हाट्सऐप ग्रुप में मैसेज डाला और अपनी वर्दी पर भी वही संदेश लिखा और गायब हो गया, जिससे विभाग में खलबली मच गई है। उसने जो संदेश लिखा वह वाकई चिंताजनक है।

गायब हुए पुलिस जवान ने लिखा, क्या फायदा इस वर्दी का जो अपनी रक्षा न कर सके, जा रहा हूं या तो मर कर लौटूंगा या मार कर। इस मैसेज के बाद पुलिस महकमे में हडकंप मच गया है। इधर वरिष्ठ अधिकारी इस मामले से अनभिज्ञता जता रहे हैं।

जानकारी के अनुसार 3 दिन पहले 9 सितबंर को भटनावर पुलिस चौकी पर पदस्थ आरक्षक रविन्द्र शर्मा के साथ महेन्द्र सिंह रावत, देवेन्द्र रावत, राकेश धाकड़ और भूरा ने मारपीट कर दी थी। आरक्षक रविन्द्र ने अपनी शिकायत में बताया था कि करीब दो महीने पहले महेन्द्र के खिलाफ अवैध शराब बेचने का प्रकरण दर्ज किया था। इसके बाद से वो उससे नाराज चल रहा था। इसी वजह से उसके साथ मारपीट की घटना को अंजाम दिया गया। इस मामले में पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ मामला तो दर्ज कर लिया, लेकिन अभी तक इस कोई गिरफ्तारी नही हुई है।

यहां बता दें कि आरोपियों में महेन्द्र रावत जिला पंचायत सदस्य भगवती नरेश रावत का बेटा है। प्रभावशील होने के कारण पुलिस इसमें सब कुछ जानते हुए भी कोई पुख्ता कार्रवाई नहीं कर रही। माना जा रहा है कि इसी से परेशान होकर आरक्षक ने संदेश लिखकर हड़कंप मचा डाला है।

यह बोले अधिकारी

हमें इस संदेश की जानकारी नही है। दिखवाता हूॅ, आखिर मामला क्या है।

दीन बंधु सिंह तोमर, टीआई, पोहरी, शिवपुरी

-

कल दोपहर तक तो आरक्षक ड्यूटी पर रहा। इस तरह का मैसेज अगर कोई आया है तौ मैं पता करवाता हूॅ। मैने आरक्षक के साथ मारपीट करने वाले लोगो के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के निर्देश टीआई को दिए हैं।

-राजेश सिंह चंदेल, एसपी शिवपुरी