सचिव के मुख्यालय पर न रहने से लोगों को हो रही परेशानी, पानी और सड़क जैसी मूलभूत सुविधाओं को तरस रहे ग्रामीण

करैरा। नईदुनिया न्यूज

अनुविभाग करैरा के ग्राम मामोनीकला में भले ही सरपंच के चुनाव को साढ़े चार साल हो गए हो लेकिन अभी भी मामोनीकला गांव विकास की मुख्य धारा से कोसों दूर बना हुआ है। स्थिति यह है कि गांवों में रहने वाले लोगों को अभी तक बिजली व सड़क जैसी मूलभूत सुविधाएं भी उपलब्ध नहीं हो पा रही हैं। ग्रामीणों का कहना है कि ग्राम के सरपंच-सचिव में पूर्व में आपसी तालमेल न होना इसकी अहम वजह बनी हुई है। यही वजह रही कि शुरूआत के दो सालों में गांव में कोई भी विकास कार्य नहीं हो सका। जब सरपंच-सचिव में तालमेल बैठा, इसके बाद भी ग्राम में कोई खास विकास कार्य नहीं हुए। ग्राम मामोनीकला में आज भी ग्रामीण गांव में पक्की सड़को का न होना , पानी की समस्या जैसी मूलभूत सुविधाओं से जूझ रहे हैं। इसके साथ ही ग्राम में सचिव का मुख्यालय पर न रहना भी एक प्रमुख कारण है जिस वजह से इन साढ़े चार सालों में मामोनीकला का कोई विकास नहीं हो सका है।

गारंटी पीरियड में ही उखड़ गई सीसी रोड

ग्रामीणों ने बताया कि गांव की आबादी साढ़े तीन हजार के करीब है। इस छोटी से पंचायत में सरपंच सचिव के बीच में डेढ़ साल तक आपसी तालमेल न बैठना और सचिव के मुख्यालय पर न रहने से गांव में कोई विकास कार्य नहीं हुआ है। आज भी गांव की गलियों में उबड़-खाबड़ सड़कें है। जगह-जगह गंदगी फैली है । गांव में जो सड़कें डाली गई हैं वह भी समय से पहले उखड़ गई है। जैसे कि परिहार मोहल्ला, हरिजन बस्ती और सरपंच के घर तक डाली गई सीसी सड़क गारंटी अवधि में ही उखड़ गए। जब यह सड़कें डाली गई उस समय न तो जपं के जिम्मेदार अधिकारी इंजीनियर मौजूद रहे न ही सचिव जिसकी बजह से सरपंच ने घटिया स्तर की सीसी सड़कें डाल दीं।

स्वच्छता अभियान को लगाया पलीता

जपं करैरा की सबसे छोटी पंचायत ग्राम मामोनीकला में स्वच्छता अभियान को सरपंच-सचिव ने मिलकर जमकर पलीता लगाया है। स्थिति यह है कि स्वच्छता अभियान के तहत बनाए गए शौचालय आज भी अधूरे पड़े हैं। गांव के महिला-पुरुष खुले में शौच जा रहे हैं। इन अधूरे शौचालयों को पूर्ण बताकर पंचायत को ओडीएफ करा दिया गया है। जबकि धरातल पर आज भी ग्राम के कई हितग्राही इस योजना से वंचित बने हैं।

सड़कों पर बहती है गंदगी और मलमूत्र

ग्राम मामोनीकला की सड़कों पर सरपंच-सचिव की अनदेखी और लापरवाही रवैये के कारण गांव की मुख्य सड़कों से लोगों का निकलना दूभर हो गया है। यहां गांव में लोगों के घरों से निकलने बाला गंदा पानी सड़कों पर जमा हो रहा है जिससे न सिर्फ मच्छर पनप रहे है वरन् चारों तरफ फैली गदंगी की वजह से बीमारी फैलने का भी खतरा बना हुआ है। गांव में समय-समय पर साफ-सफाई न होना और साफ-सफाई के नाम पर फर्जी मस्टर लगाकर कागजों में सफाई अभियान चलाया जा रहा है।

यह बोले ग्रामीण

हमारे गांव में कोई खास विकास कार्य नहीं हुआ जो भी हुआ वह भी अमानक और घटिया स्तर का हुआ है। सभी निर्माण कार्यों की जांच होना चाहिए।

दयाराम सिंह, ग्रामीण।

हमारे गांव की पंचायत बहुत छोटी है कोई खास बजट भी नहीं रहता है। जो भी निधि मिलती है उससे हमने गांव की गलियों में सीसी रोड बनवाई है।

रमेश लोधी, सचिव।

यह बोले अधिकारी

गांव में जो भी समस्या है, हम उसको दिखवा लेते हैं। मौके पर जाकर निर्माण कार्यों की जांच पड़ताल करेंगे। शौचालय निर्माण में जो भी अनियमितता की गई होगी, उसकी जांच करके कार्रवाई करेंगे।

एसएल टेगौर, प्रभारी सीईओ करैरा।

10 कैप्शन : ग्राम मामोनकला में सड़कों पर फैला गंदा पानी और गंदगी।

Posted By: Nai Dunia News Network

fantasy cricket
fantasy cricket