- संतान के स्वास्थ्य और लंबी उम्र के लिए होता है व्रत

शिवपुरी। नईदुनिया प्रतिनिधि

जिस तरह नागपंचमी के दिन बामी पर जाकर खीर पुरी सब्जी चढ़ाकर नाग देवता की पूजा की जाती है। इसी तरह एक बार फिर आज ऐसा ही एक उत्सव देखने मिला, जहां पर कई महिलाएं बामी पर बैठी पूजा कर रही थीं। जब उनसे पूछा गया तो उन्होंने बताया और जो सुना वह काफी अजीब था उनका कहना था कि यह त्योहार भादौं की चौदस वाले दिन जाने की अनंत चौदस को होता है। खासकर इस दिन महिलाएं जो माता हैं वह अपने संतानों के सुख समृद्धि और स्वास्थ्य लंबी आयु के लिए इस नाग पूजा को करती हैं। इसकी विशेषता यह है कि इस पूजा को करने के दौरान महिलाएं घर में रोटी बेलने वाले बेलन के बराबर तौल में आटा लेती है और उस आटे की पूड़ी बनाकर अकेले खाती हैं।

पहले वह इस भोजन का भोग बामी पर जाकर लगाती है। उनका मानना होता है कि नाग देवता जो हैं, वह हमारे पूर्वज होते हैं और एक तरह से हम अपने पूर्वजों का आशीर्वाद लेने यहां पर आते हैं। ऐसा करने से मानना है कि पूजा करने वाली महिला के घर में कभी भी सर्पदंश से मौत नहीं होगी यानी नाग देवता उस घर पर अपनी कृपा बनाकर रखेंगे यह सिलसिला काफी पुराना है।

3 कैप्शन : पूजा करते हुए महिलाएं।

Posted By: Nai Dunia News Network