शिवपुरी। जिले के शिक्षकों को संकुल प्राचार्यों द्वारा अवकाश स्वीकृत करने के नाम पर लगातार परेशान किया जा रहा है। कलेक्टर द्वारा शिक्षा विभाग की मीटिंग में दिए गए निर्देशों का अब संकुल प्राचार्य बेजा इस्तेमाल कर रहे हैं। शिक्षकों को न तो आकस्मिक अवकाश स्व्ीकृत किया जा रहा है और न ही अन्य अवकाश। कर्मचारी कांग्रेस के जिलाध्यक्ष राजेंद्र पिपलौदा ने जिला प्रशासन को चेतावनी दी है कि अगर संकुल प्राचार्यों द्वारा इसी तरह शिक्षकों को परेशान किया जाता रहा तो उनको मजबूरन विरोध प्रदर्शन और आंदोलन करना पड़ेगा।

वाट्सएप ग्रुप पर स्वीकृत किया जाए अवकाश

कर्मचारी कांग्रेस के करैरा तहसील अध्यक्ष धर्मेंद्र जैन आमोल का कहना है कि आकस्मिक अवकाश तो कर्मचारियों का मौलिक अधिकार है। इस पर विशेष परिस्थितियों में ही शिथिल कर रोक लगाई जा सकती है।

स्थिति यह है कि कई शिक्षकों के स्कूल उनके संकुल से 30 से 40 किलोमीटर दूर है। ऐसे में वह आकस्मिक अवकाश स्वीकृत कराने कैसे समय पर स्कूल से संकुल तक पहुंच सकेगा। संकुल प्राचार्यों को आकस्मिक अवकाश मोबाइल व वाट्सएप ग्रुप पर स्वीकृत किया जाना चाहिए। कर्मचारी कांग्रेस के जिला उपाध्यक्ष अरविंद सरैया का कहना है कि कलेक्टर के निर्देशों की आढ़ में संकुल प्राचार्य शिक्षकों को मानसिक रूप से प्रताड़ित कर रहे हैं। इसलिए कर्मचारी कांग्रेस उग्र धरना प्रदर्शन करेगी।

Posted By: Nai Dunia News Network