दो बच्चों की बिगड़ी तबीयत

शिवपुरी। महिला बाल विकास विभाग के बैेनर तले आंगनबाडी के बच्चों को डोर टू डोर लड्डुओं का वितरण मंगलवार को किया गया। सप्ताहभर के लिए लड्डुओं का वितरण एक ही दिन में किया जाना था। इस क्रम में शहर के वार्ड 35 घोसीपुरा कमलागंज इलाके में एक समूह ने बच्चों को खराब लड्डुओं का वितरण कर दिया जिसमें इल्ली और मक्खयां मौजूद थीं। कुछ बच्चों ने इसका सेवन कर लिया, जिनमें से दो बच्चों की तबीयत बिगड़ गई। उन्हें उल्टियां हुई तो परिजन सामने आए। हंगामा हुआ जिसके बाद महिला बाल विकास ने लड्डू जब्त कर समूह के विरुद्ध कार्रवाई की बात कही है।

जानकारी के अनुसार वार्ड 35 के कमलागंज घोसीपुरा एरिया में आंगनबाड़ी के बच्चों को वीरांगना झलकारी बाई समूह की ओर से लड्डुओं का वितरण किया गया। यहां रहने वाली नगीना के दो बच्चों की तबीयत लड्डू खाते ही बिगड़ी तो परिजनों ने पाया कि पौष्टिक लड्डू की जगह बूंदी के लड्डू थे। उनमें भी इल्लियां और मक्खियां मौजूद थीं। यह देखते ही मामला तूल पकड़ गया। आनन-फानन में आंगनबाड़ी की सहायिका ज्याति शाक्य को तलब किया। उसने बताया कि यह लड्डू समूह ने दिए हैं। समूह के संचालक ने तत्काल गलती मानते हुए कहा कि उससे भूल हो गई है, लेकिन लोग गुस्से में थे। उनके बच्चों को उल्टी हो रही थी तो मामले की जानकारी महिला बाल विकास अधिकारी देवेंद्र सुंदरियाल को दी गई जिन्होंने मामले की जांच करवाई। अधिकारी ने नईदुनिया को बताया कि समूह के विरुद्ध कार्रवाई की जा रही है। उसने लड्डू बनवाकर वितरित करने की बजाए बाजार से खरीद लिए थे। उन्होंने मामले को गंभीर बताते हुए कहा कि रिपोर्ट आ गई है और उसके विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी। अधिकारी ने कहा कि वीरांगना समूह चार आंगनबाड़ी केंद्रों को सप्लाई करते है जिसके पहले केंद्र पर ही सप्लाई में ही गड़बड़ी पकड़ी गई। उन्होंने बताया कि सरकार के आदेश क्रम में पहले एक सप्ताह के ेलड्डू देने का आदेश दिया था लेकिन जब लॉकडाउन की सीमा 14 अप्रैल तक बढ़ाई गई तो आज दूसरे सप्ताह के लड्डुओं का वितरण किया गया है। कुल मिलाकर पूरे मामले में जहां समूह की लापरवाही साफ-तौर पर देखने में आ रही है तो वहीं महिला बाल विकास विभाग के अधिकारी और कर्मचारी भी दोषी दिखाई दे रहे हैं।

एक और अच्छी खबर, मुरैना की तेरहवीं खाकर आए 30 लोगों की रिपोर्ट निगेटिव

शिवपुरी। शहर के लिए मंगलवार की शाम एक और अच्छी खबर आई। मुरैना में 20 मार्च को तेरहवीं में शामिल हुए दो परिवार के जिन 30 सदस्यों रिपोर्ट कोरोना संदिग्ध के तौर पर जांच के लिए भेजी गई थी वह निगेटिव पाई गई है। रिपोर्ट आते ही स्वास्थ्य विभाग ने राहत की सांस ली है। सीएमएचओ डॉ. एएल शर्मा ने इस बात की पुष्टि करते हुए बताया कि सभी 30 सदस्यों की रिपोर्ट निगेटिव है। उन्होंने बताया कि आज तक 92 सेंपल एि जा चुके हैं जिनमें से 83 लोगों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। 7 रिपोर्ट आना बाकी है। दो पॉजीटिव मरीजों में से एक स्वस्थ हो चुका है। दूसरे को आईसोलेशन वार्ड में भर्ती रखा है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना