31 मार्च को खत्म हो गया था अस्पताल का पंजीयन, बगैर डॉक्टर के हो रहा था इलाज

करैरा। करैरा थाना क्षेत्र में टीला रोड करैरा पर संचालित एक निजी अस्पताल का पंजीयन 31 मार्च को खत्म होने के बाद भी शुक्रवार को यथावत संचालित मिला। करैरा बीएमओ डॉ. प्रदीप शर्मा, डॉ. देवेंद्र खरे, तहसीलदार गौरीशंकर बेरवा जब सीएमओ दिनेश श्रीवास्तव के साथ शुक्रवार की शाम 6ः30 बजे अस्पताल का निरीक्षण करने पहुंचे तो वहां बगैर डॉक्टर के तीन मरीज भर्ती थे, जिनका इलाज चल रहा था। बीएमओ की रिपोर्ट पर पुलिस ने अस्पताल संचालक के खिलाफ धारा 24 के तहत मुकदमा दर्ज कर तफ्तीश शुरू कर दी थी। पुलिस ने संचालक को शनिवार को हिरासत में ले लिया और न्यायालय में पेश किया। इस पर न्यायालय ने अस्पताल संचालक धर्मेंद्र प्रजापति को जेल भेजने की कार्रवाई की है।

बीएमओ की रिपोर्ट पर पुलिस ने की कार्रवाई

शुक्रवार शाम करैरा बीएमओ प्रदीप शर्मा ने टीला रोड करैरा स्थित सागर हॉस्पिटल एवं डायग्नोस्टिक सेंटर पर छापामार कार्रवाई की थी। निरीक्षण के दौरान अस्पताल संचालन का न कोई जीवित प्रमाण पत्र मिला और न ही अस्पताल में कोई डॉक्टर या नर्स मौजूद थे। खास बात यह रही कि इस दौरान अस्पताल में तीन मरीज भर्ती थे, जिनका इलाज किया जा रहा था। वहीं अस्पताल में एक्सपायरी डेट की मेडिसिन भी पाई गई जिस पर बीएमओ ने पुलिस में रिपोर्ट की थी और पुलिस ने हॉस्पिटल संचालक धर्मेंद्र प्रजापति के खिलाफ मध्यप्रदेश आयुर्वेदिक अधिनियम की धारा 24 के तहत मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी थी। इस कार्रवाई के दौरान अस्पताल में कोई भी कर्मचारी या डॉक्टर मौजूद नहीं मिला था वहीं शनिवार को पुलिस ने तत्परता दिखाते हुए हॉस्पिटल संचालक को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया जहां से उसे जेल भेजने की कार्रवाई की गई।

फोटो : धर्मेंद्र प्रजापति।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना