- पोहरी विधानसभा के झिरी और करैरा विधानसभा के अमोलपठा में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने ली सभा

शिवपुरी। नईदुनिया प्रतिनिधि

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने रविवार को शिवपुरी में अमोलपठा और झिरी में जन सभा ली। इसमें उन्होंने कमल नाथ और कांग्रेस सरकार पर जमकर प्रहार किए। इमरती देवी का अपमान करने का मुद्दा यहां की दोनों सभाओं में उठा। शिवराज ने कहा कि हमारी बहन इमरती देवी डबरा से हैं और मेरे मंत्री मंडल में मंत्री हैं। उनके बारे में कमल नाथ की टिप्पणी मातृशक्ति का अपमान है। शिवराज ने कहा कि सुन लो कमल नाथ- एक द्रोपदी का जब अपमान हुआ तो महाभारत हो गया था। यह वो धरती है, जहां जनता किसी मां-बहन या बेटी का अपमान सहन नहीं कर सकती है।

शिवराज सिंह ने झिरी में कहा कि वल्लभ भवन में कांग्रेस के विधायक बड़े उत्साह से जाते थे कि हम कांग्रेस के विधायक हैं, लेकिन जब वहां पहुंचते तो दरवाजे ही बंद होते थे। शिवराज ने कहा कि जब कमल नाथ से कहते थे कि कभी जाकर किसानों की हालत तो देखो तो कहते थे कि हम नहीं जाते, हम तो बंगलों में ही रहते हैं। शिवराज ने व्यंग्य कसते हुए कहा कि तेरी प्यारी-प्यारी सूरत को नजर न लगे। कहा एक बार चले तो कहते थे कि पर्दे में ही रहने दो। छह महीने में हमने 3100 करोड़ डाले, इसके बाद फसल बीमा योजना के 4400 करोड़ डाले। अभी 10 हजार हर किसान के खाते में और डालेंगे। इस तरह 8 हजार करोड़ किसानों को देंगे। कमलनाथ से जब कहो विकास के लिए तो पैसे ही नहीं है। क्या मुख्यमंत्री ऐसा होना चाहिए जो पैसे के लिए रोता रहे। मेरा भी खजाना खाली है, क्योंकि कोरोना के कारण टैक्स नहीं आया, लेकिन मैं रोऊंगा नहीां और कहीं से भी पैसा लेकर आऊंगा। कर्जा लेना पड़ा तो कर्जा भी लूंगा। आज नहीं है तो कल चुका देंगे जब स्थिति ठीक होगी। कमल नाथ पर उन्होंने कहा कि मेरा नरा तो यहीं गढ़ा है, कमल नाथ बताएं, उनका नरा कहां गड़ा है। मैंने तो मध्यप्रदेश की मिट्टी में ही जन्म लिया। ये बताएं खानपुर या बंगाल कहां के हैं।

अमोलपठाः अब सोन है न चिरैया, है तो बस किसानों की परेशानी

करैरा विधानसभा के अमोलपठा में शिवराज ने कहा कि कमल नाथ ने आदिवासी बहनों से एक हजार रुपया भी छीन लिया जो हमारी सरकार देती थी। हमने आते ही 6 महीने के पैसे खातों में डलवा दिए। सोनचिरैया अभयारण्य के मुद्दे पर कहा कि अब न सोन है न चिरैया। मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया है। अब मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया है। चाहे कितने बड़े वकील लगाने पड़ें, अब सोनचिरैया अभयारण्य को खत्म किया जाएगा, जिससे किसानों की दिक्कत दूर हो सके। उन्होंने कहा कि 2006 तक जितने भी वन भूमि पर आदिवासी भाई बहनों के पट्टे किए हैं, उनको पट्टा दिया जाएगा। जसमंत जाटव के लेटकर प्रमाण करने के वीडियो के बारे में शिवराज ने कहा कि कमल नाथ तुम जनता को पैरों तले रौंद देते हो, लेकिन हमारे संस्कार तो जनता को प्रणाम करने के हैं। कमल नाथ पर हमला बोलते हुए उन्होंने कहा कि कभी कमल नाथ कहते हैं कि शिवराज नालायक है, कभी कहते हैं वह तो शाहरुख से अच्छा एक्टर है और फिर एक दिन भूखा-नंगा बोले। सेठों को लगता है कि मुख्यमंत्री बनने का अधिकार तो बडे-बडे लोगों को है ये किसान का बेटा कैसे बन गया और चौथी बार बन गया। उन्होंने कहा कि यहां 314 करोड़ के विकास कार्य किए हैं और यह तो ट्रेलर है, पिक्चर अभी बाकी है। उन्होंने कहा कि किसान का एक-एक धान खरीदा जाएगा।

न दो गज की दूरी और न ही मास्क

सभा में भीड़ तो जुटी, लेकिन बहुत ज्यादा नहीं थी। वहीं लोगों ने न ही शारीरिक दूरी के नियमों का पालन किया और न ही मास्क पहने नजर आए। शिवराज सिंह के काफिले में तो सभी लोग मास्क पहने हुए थे, लेकिन सभा स्थल पर कोरोना की गाइडलाइन जगह-जगह टूटती रही।

Posted By:

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020