शादियों में मेहमानों की संख्या को पर कोई पांबदी नहीं, 100 से अधिक मेहमानों के लिए सतर्श अनुमति।

- रात 10 से सुबह 6 बजे तक रहेगा नाइट कर्फ्यू, रविवार को बंद रहेगा बाजार

- शहर में बढ़ते संक्रमण को देख क्राइसिस मैनेजमेंट की बैठक में लिया निर्णय

शिवपुरी। नईदुनिया प्रतिनिधि

प्रदेश के जिन 9 जिलों में कोरोना संक्रमण की दर सबसे अधिक है, उसमें शिवपुरी भी शामिल है। शहर में कोरोना संक्रमण की दर 7.52 प्रतिशत है। शहर में बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते रविवार को क्राइसिस मैनेजमेंट समूह की बैठक बुलाई गई। जिसमें विभिन्ना वर्ग के प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया। बैठक में कलेक्टर अक्षय कुमार सिंह ने कहा कि हमें कोरोना में संख्या पर नहीं, बल्कि संक्रमण की दर को देखना चाहिए जो कि शहर में अभी काफी अधिक है।

पिछले 10 दिनों में शहर में संक्रमण दर का ग्राफ लगातार बढ़ रहा है। इसके लिए हमें पहले की तरह सकर्त होना होगा। हमें संक्रमण का प्रारंभिक स्तर पर ही पता लगाकर उसे रोकना होगा। बैठक में क्राइसिस मैनेजमेंट के सदस्यों से विभिन्ना मुद्दों पर चर्चा की गई। इसमें कलेक्टर ने कहा कि अब रोको-टोको अभियान को तेज किया जाने की जरूरत है। लोगों को खुद से कोरोना गाइडलाइन का पालन करना होगा और इसमें शहर के प्रबुद्ध नागरिकों को महत्वपूर्ण भूमिका निभाना होगी। बैठक में सुझावों पर चर्चा की गई, लेकिन कोई महत्वपूर्ण निर्णय नहीं हुआ। शादियों में भी अब मेहमान बुलाने को लेकर कोई सीमा नहीं है। शादी की जगह की क्षमता के अनुसार मेहमान बुलाए जा सकते हैं। 100 मेहमानों के लिए कोई अनुमति नहीं लेना होगी। इससे अधिक मेहमान होने पर सतर्श अनुमति लेनी होगी।

बैठक में आपसी सहमति से निर्णय लिया गया कि रविवार को अब बाजार बंद रहेंगे। इसके साथ ही शहर में रात 10 से सुबह 6 बजे तक नाइट कर्फ्यू रहेगा। रविवार को हेयर सैलून और आवश्यक सेवाएं जैसे पेट्रोल पंप, मेडिकल स्टोर आदि को छूट रहेगी। नाइट कर्फ्यू को लेकर बैठक में कुछ लोगों ने कहा कि इसका कोई औचित्य नहीं है। इस पर एसपी राजेश सिंह चंदेल ने कहा कि नाइट कर्फ्यू में किसी आमजन को परेशान नहीं होने दिया जाएगा। इसका मतलब यह है कि आप बिना किसी जरूरी काम के घर से नहीं निकलेंगे। दूसरी ओर इससे रात में बेवजह घूमने वाले आवारा तत्वों आदि पर लगाम कसी जा सकेगी। इसके साथ ही बैठक में सदस्यों को अपने-अपने क्षेत्र में एक-एक जागरूकता कार्यक्रम करने की जिम्मेदारी भी दी गई, जिसमें प्रशासन और पुलिस के अधिकारी भी मौजूद रहेंगे।

प्रशासनिक स्तर पर उठाएंगे ये कदम

- पहले शहर को चार हिस्सों में बांटकर निगरानी के लिए सरकारी अधिकारी नियुक्त किए थे। अब दोबारा यह पैटर्न अपनाया जाएगा।

- सैंपलिंग बढ़ाई जाएगी। फीवर क्लीनिक पर अधिक लोगों को कोरोना जांच की जाएगी।

- शहर में प्रवेश करने वालों की फिर से नाके लगाकर स्क्रीनिंग की जरूरत है। नाके लगाकर थर्मल स्क्रीनिंग की जाएगी।

- मेडिकल कॉलेज के हॉस्टल को क्वारंटाइन सेंटर बनाया जाएगा।

- कंटेनमेंट जोन बनाकर उन क्षेत्रों में सख्ती की जाएगी।

- जिन क्षेत्रों में अधिक कोरोना संक्रमित मिल रहे हैं वहां पर और आसपास के क्षेत्रों में सर्वे किया जाएगा।

- माधवचौक जैसे शहर के प्रमुख स्थानों पर दो बार सीएमएचओ, सिविल सर्जन माइक पर लोगों को जागरूक करें।

बारात भी निकलेगी और 100 से ज्यादा लोग भी आएंगे

बैठक में शादियों में जुटने वाली भीड़ के बारे में भी चर्चा की गई। प्रतिनिधियों का कहना था कि बारात निकालने के लिए भले ही थोड़ी दूरी की अनुमति मिले, लेकिन बारात निकालने दी जाए। इससे जो वर्षों से जो रीति-रिवाज चले आ रहे हैं, उनका पालन हो सकेगा। इससे भी कई लोगों का व्यवसाय जुड़ा हुआ है। 25 नवंबर से शुरू होने वाली शादियों में 100 से अधिक लोग शामिल हो सकेंगे। इसके लिए सशर्त अनुमति लेना होगी। 100 लोगों के लिए अलग से अनुमति लेने की जरूरत नहीं होगी। सीएमएचओ डॉ. एएल शर्मा ने सुझाव दिया कि शादियों में लोग खाना खाते समय मास्क निकालते हैं, इसलिए खाने के काउंटरों के आसपास भीड़ जमा होती है। यदि काउंटर दूरी पर लगाए जाएं तो वहां शारीरिक दूरी के नियमों का पालन हो सकता है।

क्राइसिस मैनेजमेंट की बैठक में ये बोले प्रतिनिधि

- पेट्रोल पंप एसोसिएशन के समीर गांधी ने कहा कि बाजार खुलने का समय कम करने का लाभ नहीं है, क्योंकि लोग उतने ही आएंगे चाहे समय कम हो या ज्यादा। समय घटा देंगे तो ज्यादा भीड़ जुटेगी। उन्होंने कहा कि शहर के सभी 6 पेट्रोल पंप पुलिस से अपना सीसीटीवी जोड़ने को तैयार हैं, जिससे पुलिस निगरानी कर सके। शहर में भी सीसीटीवी का कवरेज बढाना चाहिए।

- गुरुद्वारा प्रबंधक समिति के सेक्रेट्ररी सुरिंदर सिंह ने कहा कि गुरुद्वारे में पिछले छह महीनों से शारीरिक दूरी के सभी नियमों का पालन किया जा रहा है। यहां पर गुरुवार को महिलाओं के लिए जागरूकता कार्यक्रम करेंगे और उन्हें जागरूक करेंगे कि परिवार के अन्य सदस्यों को मास्क लगाने के लिए प्रेरित करें।

- सब्जी मंडी के अध्यक्ष इरशाद राइन ने कहा कि पहले सब्जी मंडी में मास्क न लगाने वाले दुकानदारों को दुकान नहीं लगाने दी जाती थी और न ही ग्राहकों को प्रवेश दिया जाता था। अब दोबारा से यह सिस्टम लागू होना चाहिए। मंडी में कोरोना गाइडलाइन का बिल्कुल भी पालन नहीं हो रहा है।

- आलोक इंदौरिया ने कहा कि शहर में चुनिंदा 4-5 दुकानें हैं, जहां पर सुबह होते ही सैकडों की भीड जुटती है, लेकिन नियम का पालन नहीं होता है। कोरोना फैलाने में ये जिम्मेदार हैं। बैंकों और प्राइवेट हॉस्पिटलों में भी कोरोना गाइडलाइन का पालन नहीं हो रहा है। उन्होंने कहा कि धार्मिक स्थलों के सीसीटीवी की रेंडम जांच की जाए कि नियमों का पालन हो रहा है या नहीं।

- चेंबर ऑफ कॉमर्स के सचिव विष्णु अग्रवाल ने कहा कि 90 प्रतिशत लोग मास्क नहीं लगा रहे हैं। कुछ दुकानदार हैं, जिनके नियमों का पालन न करने से पूरे व्यापारी बदनाम हो रहे हैं। बाजार खुलने की समय सीमा 8 बजे तक की है, लेकिन इसके बाद भी बाजार खुल रहे हैं। उन्होंने मास्क न पहनने वालों पर जुर्माने की राशि भी बढ़ाकर 200 रुपये करने की बात कही।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस