बाल विवाह को समाप्त करने बाल विवाह प्रतिषेध अधिनियम लागू

शिवपुरी। नईदुनिया प्रतिनिधि

बाल विवाह एक सामाजिक कुरीति है, जिसके कारण देश में हजारों बालक, बालिकाओं को विधि अनुरूप विवाह की निर्धारित उम्र से पूर्व ही पारिवारिक बंधनों में बांधकर माता-पिताओं द्वारा उनके भविष्य से खिलवाड़ किया जाता है। सरकार द्वारा इस कुरीति को समाज से पूर्णतः समाप्त करने के उद्देश्य से बाल विवाह प्रतिषेध अधिनियम 2006 लागू किया गया है। इसके अंतर्गत बाल विवाह करवाने वाले वर-वधू दोनों पक्षों के माता-पिता, भाई-बहन अन्य पारिवारिक सदस्यों, विवाह करवाने वाले पंडित अथवा अन्य धर्मगुरु, विवाह में शामिल बाराती, घराती, बाजेवाले, घोड़ेवाले, टेंटवाले, हलवाई व विवाह कार्यक्रम में सम्मिलित होने वाले अन्य सभी संबंधित व्यक्तियों पर कानून कार्रवाई की जाएगी।

जिला प्रशासन ने निर्देश दिए हैं कि इस क्रम में ल विवाह कराने वाले धर्मगुरूओं, विवाह में सेवा देने वाले सेवाप्रदाताओं व मुद्रकों (विवाह पत्रिका छापने वाली प्रिटिंग प्रेस आदि) से की जाती है कि वे विवाह के पूर्व वर व वधू दोनों की सही आयु की संतुष्टि हेतु उनके मूल जन्म प्रमाण पत्र, अंकसूची, स्कूल टीसी आदि की सत्यापित छायाप्रति प्राप्त कर अपने पास अनिवार्य रूप से संग्रहित करें व उम्र सही होने की दशा में ही विवाह की पत्रिका छापें व सेवाएं देना सुनिश्चित करें। जहां विवाह होने वाले लड़का व लड़की की उम्र सही न होने की दशा में विवाह पत्रिका न छापे और न ही सेवाएं दें। ऐसे प्रकरणों की सूचना तत्काल जिला व ब्लॉक स्तर पर संचालित महिला व बाल विकास विभाग कार्यालय को दें। सूचनाकर्ता की जानकारी गोपनीय रखी जाएगी।

------------------

बिजली कंपनी के आउटसोर्स कुशल व अकुशल श्रमिकों को अविद्युतीय दुर्घटना पर भी मिलेगी सहायता

शिवपुरी। मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी ने आउटसोर्स एजेंसी के माध्यम से कार्यरत कुशल व अकुशल श्रमिकों के लिए एक महत्वपूर्ण फैसला लिया है। इस फैसले के अंतर्गत उन्हें बाहरी एजेंसी का व्यक्ति मानते हुए कार्य के दौरान अपरिहार्य अविद्युतीय दुर्घटना (कार्य के दौरान पोल, सीढ़ी से फिसल कर गिरना, चोट लगना, कंपनी के वाहन के दुर्घटनाग्रस्त होने) से प्रभावित होने पर भी उन्हें विद्युत दुर्घटना में प्रभावित बाहरी व्यक्तियों के समकक्ष विद्युत दुर्घटना में मिलने वाली आर्थिक सहायता स्वीकृत की जाएगी। इस फैसले के अंतर्गत यदि कोई आउटसोर्स एजेंसी का कुशल अथवा अकुशल श्रमिक कार्य के दौरान मृत हो जाता है तो उसके परिवार अथवा निकटतम वारिस को 4 लाख की आर्थिक सहायता बिजली कंपनी द्वारा दी जाएगी। इसी प्रकार विद्युत दुर्घटना में 40 प्रतिशत से 60 प्रतिशत विकलांगता की अवस्था में वित्तीय सहायता के रूप में 59 हजार 100 रुपये, 60 प्रतिशत से अधिक विकलांगता पर 2 लाख रुपये की आर्थिक सहायता दी जाएगी।

---------------------

नागरिक कर्तव्य पालन अभियान शुरू

शिवपुरी। भारतीय संविधान में निहित संवैधानिक मूल्यों को बढ़ावा देने की दृष्टि से स्कूल शिक्षा और साक्षरता विभाग भारत सरकार द्वारा नागरिक कर्तव्य पालन अभियान 2020-21 शुरू किया गया है। इस अभियान को प्रभावी व परिणाममूलक बनाने के लिए प्रदेश के समस्त विद्यालयों, शिक्षक प्रशिक्षण संस्थानों व शासकीय कार्यालयों में विभिन्ना गतिविधियों का आयोजन किया जाना है। राज्य शिक्षा केंद्र के आयुक्त ने समस्त जिला शिक्षा अधिकारी व जिला परियोजना समन्वयकों से कहा कि विभिन्ना गतिविधियों का आयोजन पालकों के वॉट्सएप ग्रुप, स्थानीय समाचार पत्रों, रेडियों व टेलीविजन के माध्यम से संपन्ना कराई जाएं।

25 नवंबर तक चलेगा कौमी एकता सप्ताह

शिवपुरी। राज्य शासन द्वारा इस वर्ष भी 25 नवंबर तक कौमी एकता सप्ताह मनाने का निर्णय लिया गया है। राष्ट्रीय सांप्रदायिक सद्भाव प्रतिष्ठान, नई दिल्ली द्वारा आयोजित किए जाने वाले कार्यक्रमों की रूपरेखा भी भेजी गई है। जिले के समस्त जिला अधिकारियों को शासन के निर्देशों की प्रति भेजते हुए कोविड-19 के दृष्टिगत आवश्यक सावधानियों के साथ कौमी एकता सप्ताह के कार्यक्रम आयोजित करने के निर्देश दिए हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस