शिवपुरी, नईदुनिया प्रतिनिधि। करीब साल भर पहले 1100 करोड़ की लागत से तैयार किए गए शिवपुरी ग्वालियर फोरलेन हाइवे में घटिया निर्माण अब खुलकर सामने आने लगा है। हाइवे पर कई स्थानों पर सड़क पहले ही धसक गई थी तो वहीं कई स्थानों पर ऊबड़ खाबड़ हो गई।

इन सबके बीच घटिया निर्माण का बड़ा मामला सामने आया है। शिवपुरी से करीब 33 किमी दूर मुड़खेड़ा टोलटैक्स से पहले गाराघाट पुल का एक हिस्सा न केवल धसक गया है, बल्कि पुल के ज्वाइंट में बड़ी दरार आ गई है। बावजूद इसके यहां आवागमन जारी रखा गया है, जिससे रोजाना वाहन क्षतिग्रस्त होकर असंतुलित हो रहे हैं। एनएचएआई ने इस जर्जर पुल पर सिर्फ 1 बैरीकेड्स लगाकर इतिश्री कर ली है।

पुल की दीवार भी हुई अलग, दरार के स्थान पर धसकी सड़क

1100 करोड़ की लागत से बने इस हाइवे की ग्वालियर से शिवपुरी की ओर आने वाली लेन पर टोल टैक्स से महज 2 किमी दूरी पर गाराघाट नदी पर बने पुल का एक हिस्सा जर्जर हो गया है। पुल के ज्वाइंट का एक हिस्सा धसक गया हैं, जिससे न केवल सड़क और पुल के दूसरे हिस्से में बडा गैप आ गया है, बल्कि इसके दोनों किनारे पर बनी बाउंड्री भी दरककर अलग हो गई है।

तेज रफ्तार वाहन हो रहे असंतुलित, गंभीर हादसे की आशंका

इस हाइवे पर एनएचएआई ने छोटे वाहनों के लिए 80 किमी प्रति घंटा, जबकि भारी वाहनों के लिए 60 किमी प्रति घंटा की अधिकतम रफ्तार तय की है। ऐसे में शिवपुरी की ओर आने वाले वाहन जब इस दरके हुए पुल के ऊपर से गुजरते हैं तो धसकी सड़क पर तेज रफ्तार वाहन अचानक असंतुलित होकर उछल रहे हैं, जिससे कई वाहन हादसों का शिकार हो रहे हैं।

बीते रोज ही एक ट्रक इस स्थान पर असंतुलित हो गया और उसकी कमानी टूट गई और दुर्घटनाग्रस्त ट्रक करीब 24 घंटे तक पुल पर ही खड़ा रहा। आशंका बनी हुई है कि यहां कभी भी कोई वाहन असंतुलित होकर पुल के नीचे नदी में गिर सकता है। खासतौर पर रात्रि के समय यहां हादसों की आशंका बढ़ गई है।

एस्सेल थी निर्माण एजेंसी बिल्डकॉन ने पेटी पर किया था काम

ग्वालियर शिवपुरी हाइवे को 2012 में स्वीकृति मिली थी। इसका निर्माण 2015 में शुरू हुआ। 1100 करोड़ की लागत वाले इस हाइवे का निर्माण पेटी कांन्ट्रैक्ट पर दिलीप बिल्डकॉन द्वारा कराया गया था। निर्माण के समय से ही घटिया निर्माण किए जाने की शिकायतें सामने आई थीं, लेकिन एनएचएआई ने ठीक से मॉनीटरिंग नहीं की नतीजे में महज 2 साल में ही गाराघाट पुल में दरार आ गई हैं, जबकि कई स्थानों पर सड़क धसक गई है।

बटालियन से सतनवाड़ा तक टू लेन पर भी हुए गड्ढे

इधर शहर के बाहर 18वीं बटालियन से सतनवाड़ा खैरे वाले हनुमान मंदिर तक टू लेन हाइवे भी जर्जर हालत में पहुंच गया है। यहां महज 14 किमी के क्षेत्र में कई स्थानों पर गहरे गहरे गड्ढे हो गए हैं। उन्हें बचाने के फेर में वाहन दुर्घटनाग्रस्त हो रहे हैं। वहीं कुछ वाहन इन गड्ढों की वजह से क्षतिग्रस्त हो रहे हैं।

यह बोले अधिकारी

जहां तक मुझे जानकारी है, पुल क्षतिग्रस्त नहीं हुआ है। हो सकता है कि पुल के ज्वाइंट पर सड़क धसक गई हो। हमने सेटलमेंट का कार्य दिया है। इसे जल्द दुरुस्त करवा देंगे। मैं स्पॉट भी दिखवा लेता हूं। राजेश गुप्ता, महाप्रबंधक एनएचएआई शिवपुरी।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना