शिवपुरी (नईदुनिया प्रतिनिधि)।

शहर के देहात थाना क्षेत्र अंतर्गत इमामबाड़ा निवासी एक युवती प्रायवेट स्कूल में पढ़ाने जाती है। वह स्वतंत्रता दिवस पर स्कूल गई और वहां से अपनी साथी क्षिक्षिकाओं घर जाने की बात कह कर लौट आई। इसके बाद युवती करबला के पास मरणासन्ना हालत में पड़ी मिली। युवती फिलहाल ग्वालियर में वेंटीलेटर पर है और उसकी हालत बेहद नाजुक बनी हुई है। पुलिस ने मामले की विवेचना शुरू कर दी है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार इमामबाड़ा क्षेत्र में निवासरत अशफाक खान की 17 वर्षीय बेटी मुस्कान हवाई पट्टी के सामने स्थित पं. नेहरू स्कूल में पढ़ाने जाती है। वह 15 अगस्त को स्वंतत्रता दिवस के अवसर पर भी स्कूल पहुंची। बताया जा रहा है कि स्वतंत्रता दिवस के आयोजनों के उपरांत स्कूल की शिक्षिकाओं ने घूमने जाने का कार्यक्रम बनाया था, लेकिन मुस्कान उनके साथ घूमने नहीं गई। वह साथी शिक्षिकाओं से घर जाने की बात कह कर निकल गई। इसके बाद दोपहर के समय मुस्कान करबला के पास वाली रोड पर मरणासन्ना पड़ी मिली। उसके सिर में गंभीर चोट थी, वह बेहोशी की हालत में तड़प रही थी। कुछ राहगीरों ने जब उसे देखा तो उन्होंने मुस्कान को एक आटो में रखकर उसे जिला अस्पताल भर्ती करवाया। जिला अस्पताल में मुस्कान की नाजुक हालत को देखते हुए उसे ग्वालियर रैफर कर दिया गया। घटना के बाद जब स्थानीय लोगों ने सीसीटीवी कैमरे खंगाले तो मुस्कान एक युवक के साथ जाती हुई दिखाई दी है। जब मुस्कान घायल अवस्था मिली तो वह अकेली थी। ऐसे में विचारणीय पहलू यह है कि जो लड़का बाइक पर उसके साथ दिखाई दिया था, वह कौन था? घटना के बाद वह कहां फरार हो गया? प्रथम दृष्टया पुलिस मामले को एक्सीडेंटल केस मान रही है, लेकिन मौके पर ऐसा कोई सबूत नहीं दिख रहा है जिससे ऐसा प्रतीत हो कि वहां कोई एक्सीडेंट हुआ है। इसके अलावा अगर एक्सीडेंट हुआ तो फिर जो लड़का, लड़की के साथ था वह कहां गया? लड़के का सीसीटीवी कैमरे में लड़की के साथ दिखना और फिर वहां से फरार हो जाना पूरे मामले को संदिग्ध बना रहा है। मुस्कान के पिता अशफाक ने नईदुनिया से बात करते हुए बताया कि घटना के 36 घंटे बाद तक मुस्कान को होश नहीं आया है। डाक्टर उसकी हालत गंभीर बता रहे हैं। अब वास्तविक घटना तो मुस्कान के होश में आने के बाद ही सामने आ सकेगी या फिर जो लड़का मुस्कान के साथ था वही घटना के बारे में सच बता सकता है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close